कब्ज का कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक उपचार | Constipation in Hindi

कब्ज का कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक उपचार | Constipation in Hindi – Hello दोस्तों, आज कल ख़राब खान-पान की वजह से ज्यादातर लोगो में कॉन्स्टिपेशन की समस्या देखने को मिलता है। जिसकी वजह से लोग बहुत परेशान होते है। किन्तु इसका बहुत सरल इलाज आयुर्वेद के पास है, तो आज हम जानेंगे की कब्ज आखिर होता क्यूँ है, इसके लक्षण और इसको ठीक करने आयुर्वेदिक इलाज कैसे किया जाता है और इससे कैसे बचा जा सकता है।

तो चलिए शुरू करते हैं –

 

कब्ज का कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक उपचार | Constipation in Hindi

 

कब्ज क्या है ? (What is Constipation in Hindi?)

कब्ज का सरल अर्थ यह है की हमे मल त्याग करने में बहुत कठिनाई होती है। अगर आपके भोजन में फाइबर या पानी की मात्रा कम हो तो आंतों में भोजन धीरे धीरे खिसकता है और बड़ी आंत (Large intestine) उसमे से पानी सोखती रहती है जिसके कारण वह धीरे धीरे कड़ा होने लगता है और हमे मल त्यागने में बहुत ज्यादा दिक्कत आती है ।

 

 

पेट में कब्ज क्यों बनती है? (Constipation Causes in Hindi)

 

  1. ऐसे आहार खाने से जिनमें चर्बी और शक्कर ज्यादा हों और फाइबर कम हों तो कॉन्स्टिपेशन होगा ही।
  2. काफी मात्रा में तरल पदार्थ (पानी, जूस) न लेना।
  3. निष्क्रिय रहना यानी दिन भर ज्यादा फिजिकल वर्क ना करना भी कॉन्स्टिपेशन का कारण बन जाता है।
  4. जब आप को मल त्याग की इच्छा हो तब शौचालय न जाना सबसे बड़ी कारण हो सकती है।
  5. समय खाना ना खाना।
  6. देर रात भोजन करना।
  7. ज्यादा चाय, मादक पदार्थ का ज्यादा यूज़ करना।
  8. ज्यादा चिंता या तनाव लेना।
  9. देर रात तक जागते रहना।
  10. ज्यादा पैन किलर का इस्तेमाल करना।
  11. ज्यादा तले हुए भोजन का सेवन करना।
  12. हर दिन ज्यादा मिर्च-मसालेदार भोजन का सेवन करना।
  13. ज्यादा भोजन करना यानी भोजन पचे बिना ही फिर से भोजन करना।
  14. हर एक्सरसाइज ना करना।

 

अगर आप इन कारणों को सुधार लें तो आप कब्ज या कॉन्स्टिपेशन से छुटकारा पा सकते हैं।

 

 

कब्ज के लक्षण (Constipation Symptoms in Hindi)

 

  1. ऐंठन होना।
  2. पेट में दर्द होना।
  3. पेट फूल जाना या मतली होना।
  4. ऐसा महसूस हो कि आपकी अँतड़ियां पूरी तरह से खाली नहीं हुई हो।
  5. मल त्याग के लिए ज्यादा ज़ोर लगाना पड़े फिर भी मल बाहर नहीं निकलता है।
  6. सिर में दर्द होना।
  7. मुंह से दुर्गन्ध आना।
  8. पेट में ज्यादा गैस बनना।
  9. पेट में भारीपन रहना।
  10. कुछ भी खाने से बदहजमी होना।

 

 

कब्ज का परमानेंट इलाज –

 

  1. एक चुटकी काला नमक गुनगुने पानी में डालें और उसे सुबह खाली पेट पीकर 15 मिनट तक walk करें, कॉन्स्टिपेशन में जरूर राहत मिलती है।
  2. अपने भोजन में मोटे अनाज/चोकर (Bran) को इंक्लूड करें।
  3. भोजन में मौसम के अनुसार उपलब्ध सलाद को शामिल करने से कॉन्स्टिपेशन और पेट की दूसरी तमाम समस्याओं से परमानेंटली छुटकारा पाया जा सकता है।
  4. किशमिश फाइबर से भरपूर होती है और प्राकृतिक जुलाब की तरह काम करती है। बस 10-15 ग्राम किशमिश को रात में पानी में भिगोकर रख दीजिये और सुबह खाली पेट ही इसे खाएं। गर्भावस्था (Pregnancy) में महिलाओ को अक्सर कॉन्स्टिपेशन की शिकायत रहती ही है, गर्भवती महिलाओं के लिए यह बहुत लाभकारी उपाय है।
  5. अमरूद (Gauva) भी कॉन्स्टिपेशन में बहुत राहत पहुँचाता है। इसके गूदे और बीज में फाइबर की उचित मात्रा होता है। इसके सेवन से खाना जल्दी पच जाता है और एसिडिटी (Acidity) से भी राहत मिलती है, साथ ही पेट भी साफ हो जाता है।
  6. एक गिलास गुनगुने पानी में नींबू (Lime) और नमक (Salt) मिलाकर सुबह खाली पेट पीने से भी कॉन्स्टिपेशन में काफी आराम मिलता है।
  7. दिन में कम से कम 8-10 गिलास पानी पीना चाहिए। गुनगुने या गरम पानी से आपकी आँतों को आसानी से काम करने में मदद मिल सकती है।
  8. होल ग्रेन ब्रेड, कच्ची सब्जियां, ताजे या सुखाये हुए फल, सूखा मेवा और पॉपकॉर्न जैसी अधिक फाइबर वाली चीजें जरूर खाइए। फाइबर शरीर से मल को निकलने में मदद करते हैं।
  9. चीज़, चॉकलेट और अंडें आदि कम खाना चाहिए क्योंकि इनसे कॉन्स्टिपेशन बढ़ सकती है।
  10. मल को नरम करने के लिए सेब का रस पीजिए।
  11. अपनी आँतों को ठीक से काम करने में मदद करने के लिए हर दिन कसरत जरूर कीजिए।
  12. वाकिंग करने से कब्ज बहुत हद तक ठीक हो जाता है।
  13. जब आप को मल त्याग करने की इच्छा हो, उसी वक़्त सभी काम छोड़ कर टॉयलेट जाइये।
  14. आप एनिमा का भी उपयोग कर सकते हैं लेकिन एनीमा का उपयोग करने से पहले एक बार अपने चिकित्सक की सलाह जरूर लीजिये।
  15. आपको हर दिन त्रिफला चूर्ण या जूस पीना है। सबसे ज्यादा आराम देता है ये।
  16. या फिर आप पेट सफा नाम आयुर्वेदिक मेडिसिन भी ले सकते हैं।
  17. दिन में मैक्सिमम 2 कप कॉफ़ी पीने से भी कॉन्स्टिपेशन से छुटकारा मिलता है। अगर आपके हाई ब्लड प्रेशर है इसे अवॉइड करें।

 

 

 

Conclusion

 

दोस्तों ये तो एक कॉमन प्रॉब्लम है लेकिन इसके इलाज सरल है और अगर आप ऊपर बताये गए सारी चीजों को फॉलो करेंगे तो आप इससे परमानेंटली छुटकारा पा सकते हैं।

दोस्तों क्या आपको इस आर्टिकल “कॉन्स्टिपेशन का कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक उपचार | Constipation in Hindi” से कुछ भी हेल्प मिला, या फिर आपके कॉन्स्टिपेशन से रिलेटेड कुछ और सवाल है तो मुझे नीचे कमेंट करके जरूर बताये।

इस आर्टिकल “कॉन्स्टिपेशन का कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक उपचार | Constipation in Hindi” को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।

 

आपका बहुमूल्य समय देने के लिए दिल से धन्यवाद,

Wish You All The Very Best.

 

सम्बंधित लेख –

  1. भारतीय सुपरफूड घी के फायदे – Health Tips in Hindi
  2. 99% बीमारी (Disease) ठीक करने के लिए करें ये 20 आसान उपाय – Best Health Tips in Hindi
  3. त्रिफला के फायदे – 114 Benefits, Uses and Side Effects (Secret Health Tips)
  4. Body को Detox कैसे करें – Simple Step-by-Step Body Detox Tips
  5. Pani Pine Ka Sahi Tarika (पानी पीने का सही तरीका) – Health Tips in Hindi
  6. Calcium Deficiency Symptoms in Hindi – क्या ये 10 लक्षण आपके बॉडी में भी है ?
  7. स्वस्थ रहने के 70 बेस्ट टिप्स – Health Tips in Hindi
  8. स्वस्थ रहने के 63 नियम – Health Tips in Hindi
  9. Acidity Treatment in Hindi | एसिडिटी का कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक इलाज
  10. Anemia Symptoms and Treatment | एनीमिया क्या है, लक्षण, और आयुर्वेदिक उपचार
  11. एलर्जी क्या है, कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक उपचार
  12. कमर दर्द कारण, लक्षण, और आयुर्वेदिक उपचार
  13. गंजापन कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक उपचार
  14. जुकाम के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक उपचार

Leave a Comment