The $100 Startup Book Summary in Hindi (PART – 2) | कम पैसों से स्टार्टअप कैसे करें ?

The $100 Startup – Hello दोस्तों, 100 डॉलर स्टार्टअप बुक आपको सिखाएगी कि एक एडवेंचरफुल, मीनिंगफुल और पर्पजफुल लाइफ कैसे जी सकते है इस बुक के ऑथर 175 से भी ज्यादा कंट्रीज घूम चुके है। वैसे उनकी कभी कोई रियल जॉब नहीं रही फिर भी उन्हें रेगुलर पे चेक मिलते है क्योंकि उनके पास अपने आईडियाज को इनकम में टर्न करने का जो टेलेंट है वो इस बुक को पढ़ने के बाद आप भी सीख सकते है।

दोस्तों ये इस बुक की पार्ट – 2 है, अगर आपने पार्ट – 1 नहीं पढ़ा है तो उसको भी जरूर पढ़ें।

 

PART – 1

 

लेखक

100 डॉलर स्टार्ट अप बुक के राइटर क्रिस गुलीब्यू एक अमेरिकन ऑथर, ब्लॉगर और स्पीकर है। उनका ब्लॉग “द आर्ट ऑफ़ नॉन- कांफोर्मेटी” काफी फेमस रहा है।

उन्होंने अनकन्वेशनल गाइड के अंडर कई सारी ट्रेवल और स्माल बिजनेस रिलेटेड बुक्स लिखी है। हर साल पोर्टलैंड, ऑरेगोन में वो अपना एनुअल वर्ल्ड डोमिनेशन समिट ओर्गेनाईज करते है। वो 4 अप्रैल, 1978 यू. एस. ए में पैदा हुए थे।

 

 

The $100 Startup Book Summary in Hindi (द $100 स्टार्टअप बुक समरी) (PART – 2)

कुछ ऐसा करे कि आपकी जॉब आपकी लाइफ के अराउंड रिवोल्व करे नाकि आपकी लाइफ आपकी जॉब के?

 

इस क्वेश्चन का जवाब देने के लिए चलो एक केस स्टडी करते है। चलो इसका नाम रखते है “द एक्सीडेंटल वर्ल्डवाइड फोटोग्राफर” काइली हेप वाकई में एक एक्सीडेंटल एंट्प्रेन्योर है।

उसका एक साइड प्रोजेक्ट है जिसमे कि वो बुक्स लिखती है, उसके हजबैंड सेबा को रिसेंटली अपनी कंपनी के बजट कट की वजह से जॉब छोडनी पड़ी। और उसी दिन जब वो जॉगिंग कर रही थी गलती से एक पिक अप ट्रक ने उसे हिट किया।

हालांकि उसकी इंजरी लाइफ थ्रेटनिंग नहीं थी लेकिन फिर भी उसे काफी चोटे आई जिसकी वजह से वो अब लिख नहीं पा रही थी। और इस तरह उसका साइड बिजनेस मंदा पड़ गया। ये पूरा वीक उन दोनों के लिए काफी बुरा गुज़रा तो उन्होंने डिसाइड किया कि एक हनीमून ट्रिप लिया जाए जोकि उन्होंने आज तक नहीं लिया था जबकि उनकी शादी को 3 साल हो चुके थे।

दोनों ने प्लान बनाया कि हनीमून के लिए योरप जाया जाए। काइली जो वेडिंग फोटोग्राफी में अपना लक ट्राई कर रही थी, उसने ट्रेवलिंग से पहले अपनी वेबसाईट अपडेट करके अनाउंस किया कि वो न्यू बुकिंग्स एक्सेप्ट कर रही है।

जैसे ही उसने अपनी वेबसाईट में ये लिखा उसी टाइम उसे एक रिक्वेस्ट आई। इस बात से काइली का कांफिडेंस बड़ा और अपने ट्रिप से वापस आते है उन दोनों ने डिसाइड किया कि वो अपने फोटोग्राफी करियर को अब फुल टाइम जॉब बनायेगे। एट लीस्ट जब तक बुकिंग्स आती रहे।

और ये उनका लक ही था कि बुकिंग लगातार आती रही और उनका बिजनेस चल पड़ा उनका ये काम इतना सक्सेसफुल हुआ कि अब वे पर इयर 90,000$ का बिजनेस कर रहे थे।

तो इस स्टोरी से हमे क्या सीख मिली ? हमने सीखा कि हर चीज़ एंड में उन 3 लेसंस से रिलेट करती है जो हमने प्रिविय्सली लर्न किये, कंवरजेन्स, स्किल और मैजिक फार्मूला।

 

 

कस्टमर्स कौन होते है? उन्हें क्या चाहिए?

 

ओल्ड स्कूल डेमोग्राफिक्स भूल जाओ जो लोगो को उनके एज, सेक्स, इनकम वगैरह के बेस पर क्लासीफाईड करती थी। बात तो ये है कि आपको हमेशा किसी स्पेशिफिक टारगेट ग्रुप की ज़रुरत नहीं है।

क्यों ना एक ऐसा प्रोडक्ट बनाया जाए जो सिंपली सबको सूट करे, एक डाईवर्स प्रोडक्ट बनाए, अपने ऑप्शन लिमिट ना रखे।

कस्टमर्स हमेशा राइट होते है ? है ना? नहीं, कस्टमर्स हमेशा राईट नहीं होते, कभी कभी वो रोंग भी होते है।

 

डैन ने अपनी नयी वेबसाईट खोली जहाँ डिफरेंट टाइप के प्रोडक्ट्स थे।

उसने अपनी वेबसाईट के लिए एक बड़ा लॉन्च रखा जिसमे उसके 2,000 से ज्यादा प्रोडक्ट्स बिके और बहुत सारे कस्टमर्स ने उन्हें गुड क्वालिटी प्रोडक्ट्स के लिए मैसेज किये।

और शाम होते होते उन्हें एक कस्टमर का मैसेज आया जिसे रिफंड चाहिए था जिस पर डैन का जवाब था कि ऑफ़ कोर्स वो उन्हें रिफंड इश्यू करेगा।

“लेकिन प्रोब्लम क्या है” डैन रिफंड का रीजन जानना चाहता था।

जिस पर उस कस्टमर ने जवाब दिया “पहले मुझे कॉल करो फिर मै तुम्हे एडवाइस दूंगा कि मेरे जैसे कस्टमर को कैसे लूज़ किया जाता है” डैन ने अपने बाकी कस्टमर्स के “थैंक यू” मैसेज चेक किये और डिसाइड किया कि वो उस कस्टमर को बोलेगा कि सोर्री वो कॉल नहीं कर सकता।

डैन ने उसे रिफंड इश्यू कर दिया और डिसाइड किया कि वो अपने कोर वर्क पर फोकस करेगा। बेशक उसे उस कस्टमर की गुड एडवाइस नहीं मिली लेकिन उसे पता चल चूका था कि अगर कोई एक कस्टमर खुश नहीं है तो उसे रिफंड कर दो और अपने काम पर फोकस करो। क्योंकि कस्टमर का ओपिनियन हमेशा सही हो ये ज़रूरी नहीं। राईट !

अगर आपका मिशन स्टेटमेंट इस स्टेटमेंट से ज्यादा लंबा है तो पॉसिबल है कि ये बहुत लंबा हो।

 

 

मार्किट को इंस्टेंटली टेस्ट करने के लिए 7 पावरफुल Steps 

 

1) सबसे पहले आप उन प्रोब्लम्स को ठीक करने के तरीके ढूंढ ले जो आपके बिजनेस में आयेंगे। लेकिन इतना काफी नहीं होगा, इसके लिए आपको बहुत से लोग भी चाहिए जो इस चीज़ का ध्यान रखेंगे। याद है फर्स्ट लेसन क्या था? जी हाँ सही कहा, कंवरजेन्स।

2) वो मार्केट इतनी बड़ी तो ज़रूर होनी चाहिए कि आप वहां अपना बिजनेस कर सके।

3) ये ज़रूर श्योर कर ले कि जो प्रॉब्लम आप सोल्व करने की कोशिश कर रहे है, रियल है या नहीं। या फिर लोग जानते भी है या नहीं कि उन्हें सच में वो प्रॉब्लम आ रहा है। किसी को ये कन्विंस कराना कि उन्हें कोई प्रॉब्लम है और उसका सोल्यूशन ऑफर करना दोनों बहुत मुश्किल होता है खासकर जब लोगो को उनकी प्रॉब्लम का पता ही ना हो ।

4) लोग हमेशा या तो किसी तकलीफ में बैटर फील करने के लिए या फिर अपनी डिजायर पूरी करने के लिए चीज़े खरीदते है। तो इसलिए आप अपने बिजनेस को एक ऐसा तरीका बनाये जो ज़रूरत के हिसाब से लोगो की हेल्प कर सके।

5) हमेशा सोल्यूशन के बारे में सोचे, और जो भी सोल्यूशन आप निकाले वो बेस्ट होना चाहिए।

6) लोगो की ओपिनियन ज़रूर सुने, लेकिन ध्यान रहे कि वो आपके पोटेंशियल टारगेट ग्रुप में से हो, वर्ना जो इन्फोर्मेशन आपको मिलेगी उसका कोई यूज़ नहीं होगा आपके लिए।

(7) जो प्रोडक्ट आप सेल कर रहे है उसके लिए टेस्ट प्रोडक्ट क्रियेट करे, लोगो को ये टेस्ट प्रोडक्ट देकर उनकी फीडबैक मांगे।

 

चलो अब एक स्टोरी पढ़ते है, स्टार्टिंग क्विक्ली के बारे में।

जब तक आपके माइंड में पिछले 7 स्टेप्स है तब तक आपको किसी प्लान की ज़रूरत नहीं है।

जेन और ओमर दोनों फ्रीलांसर थे, जो फ्री लांस डिजाइनिंग करते थे उन्हें मल्टीपल प्रोजेक्ट्स मिलते थे जिससे उन्हें अच्छा ख़ासा प्रॉफिट होता था।

लेकिन फिर उनका इंटरेस्ट इसमें कम होता गया, दोनों हैरान थे कि क्या कोई और भी करियर ऑप्शन उनके लिए हो सकता था। अब ये कोई अच्छा साइन नहीं था उन्हें इस काम में एक साल से ज्यादा हो चूका था। और इतनी जल्दी बोर हो जाना नार्मल बात नहीं थी।

तो एक दिन उन्होंने अपनी फेवरेट कंट्री का मैप डिजाइन किया, एक ऐसी कंट्री जहाँ वे दोनों हमेशा जाना चाहते थे। उस मैप का डिजाइन फिनिश करने के बाद अब वो उसे प्रिंट कराना चाहते थे।

लेकिन प्रॉब्लम ये थी कि इसे प्रिंट कराने में उनके 500$ खर्च होते क्योंकि प्रिंटिंग ऑफिस 500 कॉपीज़ से कम प्रिंट नहीं करते थे। तो उन्होंने 500 कॉपीज़ प्रिंट करवा लिए और अपना-अपना मैप ले लिया।

लेकिन बाकी के 498 मैप्स का वो क्या करे उन्हें समझ नहीं आया। इनमें से कुछ उन्होंने दे दिए और फिर 494 मैप्स बचे। अब इन बचे हुए मैप्स को उन्होंने अपनी बनाई हुई एक वन पेज वेबसाईट में डाला और सोने चले गए।

नेक्स्ट मोर्निंग उन्हें अपना पहला कस्टमर मिला और उसके बाद कस्टमर्स आते चले गए तो इस तरह उन्होंने बिना किसी प्लानिंग के एक बिजनेस स्टार्ट किया और उतनी जल्दी ही स्टार्ट किया कि जितना जल्दी होना चहिये।

 

 

अपना बिजनेस कैसे लॉन्च करे ?

 

एक बढ़िया लॉन्च किसी हॉलीवुड मूवी से कम नहीं है। इसके बारे में बहुत पहले से ही चर्चा होने लगती है। इसके मार्किट में आने से एक या दो साल पहले ही लोगो को पता चल जाता है।

आप इंट्रेस्टिंग ट्रेलर्स देखते जाते है और जब मूवी फाइनली आउट होती है तो लाइन में लग जाते है इसे देखने के लिए।

तो कुछ ऐसा ही होना चाहिए आपका बिजनेस लॉन्च भी। लॉन्चिंग से पहले पब्लिक के साथ इफेक्टिवली कम्यूनिकेट करे, उन्हें अपने प्रोडक्ट के बारे में हिंट दे। इससे आपका प्रोडक्ट उनके माइंड में रहेगा और लॉन्च होते ही हिट हो जाएगा।

 

बट डेब्ट?

बुलशिट, मै हमेशा सुनता हूँ ये बात कि किसी भी गुड बिजनेस को स्टार्ट करने से पहले आपको उधार लेना पड़ेगा लेकिन सच तो ये है कि ऐसा बिलकुल नहीं है ये आपकी चॉइस है आप उधार ले या नहीं।

आपको बहुत से ऐसे लोग भी मिल जायेंगे जिन्होंने अपनी पूरी लाइफ सेविंग बचा कर भी रखी और अच्छा बिजनेस भी चलाया। और हम यहाँ एक पोपुलर मिसक्न्स्पेशन के बारे में बात कर रहे है तो ये बता दे कि अपनी हॉबी को अपना बिजनेस बनाने में कोई बुराई नहीं है। हालांकि ये याद रहे कि आपका मेन गोल पैसा कमाना होना चाहिए नाकि मज़े करना।

 

 

पैसे कमाने के लिए इन थ्री प्रिंसिपल पर फोकस होना चाहिए।

 

1) बेस योर प्राइसेस ओंन बेनेफिट्स नोट कोस्ट्स: जब आप प्रोडक्ट्स के लिए प्राइसेस सेट करते है तो ये ध्यान रहे कि ये लोगो को मिलने वाले एक्चुअल बेनिफिट पर बेस्ड हो नाकि इसके कोस्ट पर। और ना ही उस प्रोडक्ट को बनने में लगने वाले टाइम पर, बस बेनेफिट्स का ध्यान रखे।

 

2) ऑफर अ लिमिटेड रेज ऑफ़ प्राइसेस: आप अपने कस्टमर्स को हमेशा ऑप्शन दे कि वे डिफरेंट प्राइस रेंज में से चूज़ कर सके। लेकिन ये भी ध्यान रखे कि ऑप्शन लिमिटेड हो अब एप्पल को देखो जब भी उनका कोई नया प्रोडक्ट निकलता है तो उसमे कुछ ऑप्शन होते है, जैसे एंट्री लेवल, इंटरमिदियेट लेवल और परफेक्ट लेवल।

लेकिन इन तीनो लेवल के प्रोडक्ट्स के प्राइस में मामूली डिफ़रेंस होता है, जिससे लोग ज़्यादातर लास्ट लेवल वाला परफेक्ट प्रोडक्ट ही खरीदते है। क्योंकि इसमें कोई तुक नहीं बनता कि आप थाउजेंड डॉलर खर्च करके भी एंट्री लेवल की चीज़ ले रहे हो जबकि 300$ ज्यादा खर्च करने में आपको इसका परफेक्ट वर्ज़न मिल रहा है।

 

3) गेट पेड मोर देन वंस: आपका पे बैक एक ही बार क्यों आये? आप चाहे तो पर मंथ एक से ज्यादा बार पे बैक पा सकते है। बस कोंटीन्यूयस बने रहे, जैसे अब नेटफ्लिस्क को ले लो आप उनके स्ट्रीमिंग सर्विस देखने के लिए मंथली पे करते है, उनका पे डे हमेशा रहता है हर रोज़, हर मन्थ और हर साल।

 

 

फ्रेंचाईजिंग vs पार्टनरशिप

 

मै आपको फ्रेंचाईजिंग का सच बताता हूँ। सिम्पली कहे तो एक बड़ी कम्पनी एक बड़े से अमाउंट के बदले आपको अपना नाम बेचती है। फिर सारा कण्ट्रोल उनके हाथ में रहता है, आप कहाँ पर स्टोर खोलेंगे, किसको हायर करेंगे और यहाँ तक कि वो आपको ये भी बताएँगे कि आपको खुद के बिजनेस में आपको क्या पहन कर काम पर आना है।

ये उस कंपनी की तो सक्सेस मानी जायेगी जिसकी फ्रेंचाइजी आपने ली है लेकिन क्या ये आपकी भी उतनी ही सक्सेस है?

आप यहाँ सक्सेसफुल नहीं है, आपने तो सिंपली अपने लिए एक रेडीमेड जॉब खरीद ली है। तो फिर एक यूज़लेस फ्रेंचाइजी से अच्छा है कोई पार्टनरशिप की जाए।

लेकिन हाँ ये भी ध्यान रहे कि अपना पार्टनर सोच समझ कर चूज़ करे। ये श्योर कर ले कि आपको इस पार्टनरशिप से क्या एक्स्पेक्टेशन है, वर्ना इसके एडवांटेज कम, डिसएडवांटेज ज्यादा होंगे।

एज अ रूल ऑफ़ थम्ब किसी भी पार्टनरशिप को 1+1+3 का रूल फोलो करना चाहिए। मतलब कि दोनों पार्टनर जितना अकेले खुद प्रॉफिट कमाते साथ मिलकर उसका एट लीस्ट 33% ज्यादा कमाना चाहिए।

 

एडवाइस? नो थैंक्स

 

फर्स्ट थिंग फर्स्ट, अनवांटेड एडवाइस और अननीडेड परमिशन का ध्यान रखे, जब हमारे ऑथर ने खुद का बिजनेस स्टार्ट किया तो कई सारे लोगो ने उन्हें एडवाइस दी कि ये करो, वो मत करो, वगैरह-वगैरह।

ऑथर ने सबकी बात सुनी, एप्रिशिएट भी किया मगर किया वही जो उन्हें सही लगा।

असल बात तो ये है कि जिन लोगो को आपके काम के बारे में उतनी नॉलेज नहीं है उन्हें इस बारे में कोई भी एडवाइस नहीं देनी चाहिए।

लेकिन आप अपना बिजनेस चलाओ, उन लोगो के जैसे मत बनो जो लिटरल सेन्स में तो बिजनेस के मालिक है लेकिन एक्चुअली में लोगो की बाते सुनकर अपने बिजनेस के डिसीजन लेते है।

 

 

Recommended Books –

 

 

Conclusion

 

दोस्तों आपको आज क्या सीखने को मिला ?

क्या आपने इसका पहला पार्ट पढ़ा है ?

क्या आपको इन सारी बातों से ऐसा लगा है कि आप भी बहुत Smartly एक स्टार्टअप कर सकते हैं?

मेरा एक सलाह ये है कि अगर आप आज के टाइम में कोई भी स्टार्टअप शुरू कर रहे हैं या बिज़नेस कर रहे हैं तो आपको उसको Online ले जाना ही पड़ेगा, नहीं आपका बिज़नेस आगे चलकर कुछ सालों में बंद हो जायेगा।

क्या आप भी बिज़नेस करना चाहते हैं ? अगर यहाँ तक पढ़ा है तो सच में आपके अंदर एक Entrepreneur ही है।

आपको आज का यह The $100 Startup Book Summary in Hindi कैसा लगा ?

अगर आपके मन में कोई भी सवाल या सुझाव है तो मुझे नीचे कमेंट करके जरूर बताये।

 

आपका बहुमूल्य समय देने के लिए दिल से धन्यवाद,

Wish You All The Very Best.

सम्बंधित लेख –

  1. Re-Work Book Summary in Hindi – स्टार्टअप कैसे स्टार्ट करें?
  2. The E-Myth Book Summary in Hindi – अगर बिज़नेस करना है तो ये पढ़ो (PART – 1)
  3. The E-Myth Book Summary in Hindi (PART – 2)
  4. Eat that Frog Book Summary in Hindi – सक्सेस के सीक्रेट जानिए
  5. Duct Tape Marketing Book Summary in Hindi – क्या आप अपना बिज़नेस बड़ा बनाना चाहेंगे ?

Leave a Comment