निडर रहो - Sandeep Maheshwari Motivational Speech in Hindi

sandeep-maheshwari-thoughts

Sandeep Maheshwari Best Motivational Speech in Hindi - Be Fearless. Hello दोस्तों, दोस्तों हम लाइफ में कुछ न कुछ करना तो चाहते है but अंदर एक fear होता है, की करू, ना करू, ये किया तो अगर ये नहीं हुआ तो, यही fear हमको ऊपर उठने नहीं देती है,

 तो आज मैं आप लोगों को संदीप महेश्वरी sir की मदद से बताऊंगा की हम fearless कैसे हो सकते है,

 कैसे हम लोग कोई action लें तो उसमें कोई fear न रहे, मतलब बिना डर के हम कैसे act कर सकते है -


Sandeep Maheshwari Motivational Speech - Be Fearless


No 1 - What is Fear ? डर है क्या ?

तो पहले ध्यान से समझो डर किस चीज का होता है ? सबसे ज्यादा डर हमें इस चीज का होता है की लोग क्या कहेंगे ! आप जो भी करो वही डर हमेशा लगता है आपको।


No 2 - Develop Attitude



 तो आपकी अंदर एक attitude होना चाहिए की लोग कुछ भी बोल रहे है, कुछ भी सोच रहें है उससे हमे कोई फर्क नहीं पड़ना चाहिए, हमें जो करना है वो तो करना ही है,

attitude

 हम हमेशा results के पीछे भागते रहते है, तो हमको results को ही छोड़ना होगा, result जो भी है उससे आपको कोई फर्क नहीं पड़ना चाहिए।


No 3 - Absolute Freedom

 आप सिर्फ ये करो की काम को करो, किसी को कुछ भी बोलना है तो आप डरो मत बोल दो, इसका मतलब ये है की आपका डर पूरी तरह से खत्म हो गए,

 जो लोग consequence की परवाह नहीं करता उसके अंदर डर नहीं होता है, मतलब आपको consequence को छोड़ना है।

No 4 - तो अब किन consequences को हम छोड़े, दो तरह की consequence है -

  •  एक है - Physical,

  •  दूसरा है - Psychological.



No 5 - Planning For Physical Fear

 आप psychological consequences को छोड़ दो, physical के लिए plan कर लो, मतलब की कोई काम आप करने वाले हो आपको डर लग रहा है, पहले आपको देखना है किस वजह से डर लग रहा है, that fear is psychological or that is physical.


No 6 - Example of Physical Fear

 जैसे मैं एक पहाड़ के ऊपर खड़ा हुआ हूँ, मुझे डर लग रहा है ऊपर से नीचे छलांग लगाने में, वो लगना भी चाहिए, that is not psychological, that is what physical.

hill

 physical fears के लिए क्या करना है plan करना है, वहा पर planning काम आती है, psychological fears में कोई planning काम नहीं आती है, वहा पर सिर्फ समझ काम आती है।


No 7 - Example of Psychological Fear

 जैसे आपको डर है public speaking का, वो psychological fear है, क्यूंकि physically आप public के सामने कुछ भी करके चले जाये, कोई कुछ नहीं करने वाला, सब देखेंगे लेकिन 2 - 4 मिनट में सब कुछ भूल भी जायेंगे।

 आप कोई काम करने वाले हो और आप कह रहे हो की मेरे को वो काम करने से डर लग रहा है, क्यूँ डर लग रहा है इसको figure out करना है आपको,

 क्या इसलिए डर लग रहा की मैं वो काम करूँगा तो लोग क्या कहेंगे, मेरे घरवाले क्या कहेंगे, किसी को बुरा न लग जाये, ये सब क्या है - psychological fear है।

No 8 - Example of Physical Fear

 या फिर डर इसलिए लग रहा है की मैंने 5 साल तक काम करके कुछ पैसा जोड़ा है, मानलो 5 लाख रूपए जोड़ा है,

 और ये पैसा बड़ी मेहनत करके सुबह से रात तक पैसा जोड़ा है, तो मुझे डर लग रहा है की मैं ये काम करू और वो पैसा चला न जाये, ये physical है, ये डर होना भी चाहिए,


 जिनमें ये डर नहीं होता वो सड़क पे आ जाते हैं, बर्बाद होने में 2 मिनट लगते है।

 तो बस ये 2 ही तरह के fears होते है, physical है, psychological है।


No 9 - How To Overcome Physical Fear ?

 physical में क्या काम आता है - planning, learning, knowledge, understanding of that thing you are doing,

 जैसे अगर पहाड़ से आपको छलांग लगानी ही लगानी है तो bungee jumping करो ना,

 physical के लिए we need to do a lot of things, in psychological fears nothing needs to be done, it just needs to be understood, उसको समझ लेना है और समझ करके act करना है,

 और जब आप act करोगे आप देखोगे की अरे इसमें तो डरने वाली कोई बात ही नहीं है,

 कोई भी चीज जबतक अपने नहीं सीखनी होती है तबतक डर लग रहा होता है या जब सीख जाते हो उसके बाद भी डर लगता है,

 और सीखने के बाद अगर आपको डर लग रहा है तो वो psychological नहीं है, वो physical है।



No 10 - Example Of Physical Fear

 यानि आपको swimming आगया है, जबतक swimming नहीं आता है तबतक पानी से बड़ा डर लगता है,


swimming-pool


 जब swimming आ जाता है तो क्या swimming pool से आपको swimming करने से डर लगता है - नहीं ना,

 but अगर समुद्र में swimming कर रहे हो वहा तो डर लगता है और वो डर लगना भी चाहिए,

 तो सीखने के बाद भी आपको डर लग रहा है that is a strong possibility that is a physical fear not a psychological fear, और होना भी चाहिए।



No - 11 Conclusion

 इन दोनों का बीच का फर्क अगर हमको समझ आता चला जाता है तो हमको बिलकुल clear हो जाता है किस तरह से अपनी लाइफ में आगे बढ़ना है,

 psychological fears धीरे धीरे जैसे जैसे हमारी समझ गहरी हो जाती है तो fears जीरो हो जाते है,


 मर गया तो क्या होगा ? - ये क्या है ? मेरे साथ में जो लोग है वो मर गया तो क्या होगा - ये physical fear है या psychological है ? - of course psychological है।


 लेकिन अगर आप अँधेरी रात में चले जा रहे हो किसी सुनसान सड़क पर आपके सामने से दो बंदे आ रहे gun या knife ले करके, अब आपको डर लग रहा है - ये physical fear है, ये fear होना भी चाहिए,


 जेम्स बांड नहीं बनना है जी, समझदारी से आगे बढ़ना है लाइफ में।


 अगर इस तरह से आप अलग अलग करके देखोगे तो ऐसा कोई डर नहीं है इस दुनिया में जिसको conquered न किया जा सके।''



 दोस्तों अगर आपको आज का हमारा यह article (Sandeep Maheshwari Speech - Be Fearless) अच्छा लगा तो आप इस article को अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और अगर आपको कुछ पूछना है तो आप नीचे कमेंट करके जरूर पूछे।



आपका बहुमूल्य समय देने के लिए दिल से धन्यवाद,

Wish You All The Very Best.

Comments

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner