Book Review in Hindi - The Richest Man In Babylon (Complete Review) | Thoughtinhindi.com

Hello दोस्तों, आज मैं आपको बताऊंगा The Richest Man In Babylon की बुक Review, अगर आपको अमीर बनना है तो अमीर लोगो से सीखना होगा तो ये बुक Review ध्यान से पढ़े और इस बुक को खरीदके पूरा पढ़े।


The Richest Man In Babylon Book Review in Hindi

The Richest Man In Babylon Book Review in Hindi With AudioBook (Complete)





दोस्तों, “द रिचेस्ट मेन इन बेबीलोन” जोर्ज एस कलासन ने लिखी है। लेखक एक रिटायर सोल्ज़र था जो बाद में एक बिजनेसमेन बन गया। उनकी एक बुक फाईनेंशियल एडवाइस पर सबसे फेमस स्टोरी है।


 इस बुक के आईडियाज सच में इफेक्टिव है और आज की प्रेजेंट लाइफ में उतने ही काम के है। इसमें एनशियेंट बेबीलोन के बारे में एक स्टोरी है। स्टोरी का मेन थीम है मनी मैनेजमेंट के 7 बेसिक प्रिंसिपल को इस तरीके से समझाना ताकि ये ईजिली सबकी समझ में आ सके।


 जैसे कि ,

  1. एक बैटर फ्यूचर के लिए अपनी टोटल अर्निंग का कम से कम 10% किसी इन्वेस्टमेंट फंड में सेव करे,
  2. जो 90% आपके पास बचता है उसमे गुज़ारा करे और हो सके तो उसमे भी कुछ सेविंग करे।
  3. आपके पास जो भी कैपिटल है उसे ऐसे प्रोजेक्ट्स में इन्वेस्ट करे जिसका कम्पाउंड इंट्रेस्ट मिलता रहे और आपकी सेफ, स्टीडी इनकम होती रहे,
  4. उन्ही जगहों पर इन्वेस्ट करे जिनकी आपको अच्छी नॉलेज हो या फिर इस मामले में उन लोगो की हेल्प ले जिन्हें इन्वेस्टमेंट का बैटर एक्स्पीरियेंश हो।
  5. खुद का घर ले जिससे हर महीने रेंट के पैसे सेव हो सके।
  6. रियलिस्ट इंश्योरेंश प्रोग्राम ले।
  7. पैसे कमाने के एक से ज्यादा तरीके ढूंढें जिससे आपकी इनकम इनक्रीज हो।



चैप्टर 1 - बेबीलोन का एक ऐतिहासिक स्केच






चैप्टर 2 - वो आदमी जिसे गोल्ड की डिजायर थी




 ये चैप्टर बंसिर की स्टोरी से शुरू होता है जो बेबीलोन का रहने वाला था। एक दिन वो एक दिवार पर बैठा अपनी सिचुएशन के बारे में सोच रहा था। तभी उसका दोस्त कोब्बी उसके पास आया जिसे बंसिर से कुछ पैसे उधार चाहिए थे।


 बंसिर और कोब्बी की सालो से दोस्ती थी लेकिन उस टाइम बंसिर के पास कोब्बी को देने के लिए पैसे नहीं थे तो उसने कोब्बी को मना कर दिया। इन्फेक्ट वो खुद पैसे की तंगी से गुज़र रहा था।


 कोब्बी ये सुनकर काफी डिसअपोइन्ट हुआ और दोनों पैसे की प्रॉब्लम पर डिस्कस करने लगे। दोनों को रियेलाईज़ हुआ कि शायद आगे चलकर उनके बेटे भी जिंदगी भर गरीब ही रहेंगे क्योंकि वे भी उन्ही के फूट्स्टेप पर चल रहे थे।


 जब उनकी डिस्कसन एक इम्पोर्टेंट पॉइंट पे पहुंची तो दोनों ने फील किया कि उन्हें ज्यादा पैसे कमाने के तरीके ढूढने होंगे। वे दोनों अपने-अपने हालात का रोना रो रहे थे कि तभी उन्हें अपने दोस्त अरकद की याद आई जो बेबीलोन का सबसे अमीर आदमी था।


 दोनों ने डिसाइड किया कि चलकर अपने दोस्त की मदद ली जाये। दोनों उसके पास गए और उसे अपनी प्रॉब्लम बताई तो अरकद ने उन्हें लॉ ऑफ़ कैपिटल मेकिंग के बारे में बताया।


 हालांकि हर कोई ये एक्सेप्ट करता है कि पैसा ही सब कुछ नहीं होता और कुछ चीज़े पैसे से भी नहीं खरीदी जा सकती पर ये बात भी सच है कि इस दुनिया में पैसा ही सक्सेस का दूसरा नाम माना जाता है, और इस पर्सपेक्टिव को लेकर ही लोग अमीरी को एक स्कोरकार्ड की तरह लेते है।


 सक्सेस भी पैसे से ही रीप्रेजेंट होती है क्योंकि ये पैसे से इंसान जो चाहे वो चीज़ कर सकता है। पास में अच्छा ख़ासा पैसा होने से इंसान अपने लिए हर तरह की ख़ुशी और एंजोयमेंट खरीद सकता है।


 अलग-अलग लोगो की ज़रूरते भी अलग-अलग होती है। जिसके चलते अक्सर लोगो को कैश की दिक्कत रहती है और कई बार वे अपने बिल्स भी टाइम से नहीं भर पाते।


 पैसे की इतनी ज्यादा तंगी के चलते ही कई बार लोग समझते है कि शायद पैसा उनके पास आना ही नहीं चाहता। पर ये बात नहीं है। सच तो ये है कि पैसा बहुत है मगर उनके लिए जो दौलत इकठ्ठा करने के लॉ जानते है।


 अगर आप भी अच्छा खासा पैसा जोड़ना चाहते है तो बैटर होगा कि कम खर्चा करना सीख ले। पास्ट के दुखो पर पछताने के बजाये पैसा और टाइम दोनों सोच समझ कर ही खर्च करे और साथ ही लॉज़ ऑफ़ एक्वीजीशन ऑफ़ मनी पर फोकस करना आपके लिए एक बेनिफिट माइंडसेट होगा।


 हम ये सदियों से देखते आये है कि कुछ लोगो के पास हमेशा दुसरो से ज्यादा पैसा होता है। कई लोग इसे गुड लक समझते है या फिर हो सकता है कि उन्होंने कंजूज़ी करके इतनी दौलत जोड़ी हो।


 खैर, जो भी हो मगर जो इसे सिर्फ गुड लक समझते है उनके लिए लाइफ में अमीर बनने के उतने ही चांस है जितने कि कभी कोई जैकपॉट लगने के, और जो लोग हार्ड वर्क पर डिपेंड रहते है और घंटो काम करते रहते है उनके अमीर होने के चांसेस ज्यादा बनते है।


 ये एक सिंपल सी अप्रोच है कि पैसा सेविंग से इकठठा किया जा सकता है और कुछ सिंपल रूल्स फॉलो करने से आप अपना पैसा दुगना-तिगुना कर सकते है। हमें बस इन रूल्स पर चलना होगा और थोडा एफर्ट करेंगे तो ज़रूर बहुत सारा पैसा कमा सकते है।




चैप्टर 3 - बेबीलोन का सबसे अमीर आदमी




 जब बंसीर और कोब्बी अरकद से मिले तो उन्होंने उससे पुछा कि तुम्हारी इतनी अच्छी किस्मत कैसे है कि तुम अमीर हो। वो भी उनके जैसा ही था। उसने भी उतनी ही पढ़ाई की थी और कभी वो भी उनकी तरह ही गरीब था।


 उन दोनों ने शायद अरकद से ज्यादा ही मेहनत की होगी पर फिर भी अरकद ज्यादा पैसे वाला था। इस सवाल के ज़वाब में अरकद ने बताया कि एक बार उसने एक बहुत अमीर आदमी अलगामिश के यहाँ नौकरी की थी। बदले में उसने उस अमीर आदमी से उसकी दौलत का राज़ पुछा। 


 तो उस आदमी ने उसे “लॉज़ ऑफ़ मेकिंग कैपिटल” के बारे में बताया जो उसने खुद अपनी लाइफ में अप्लाई किये थे। अरकद ने भी वही लॉज़ फॉलो करने शुरू किये और देखते ही देखते वो भी अमीर बन गया। पैसे के बारे में अरकद ने जो सीखा था वो बंसीर और कोब्बी को भी बताया।


 मनी सेविग का फर्स्ट और सबसे ज़रूरी बेसिक तरीका ये है कि अपनी अर्निंग का 10% अलग रख दे, और जो 90% बचता है उसमे अपने खर्चे पूरे करने की कोशिश करे, और अगर आप इस बचे हुए 90% से भी बचा सके तो और भी बढ़िया है।


 खूब सारा पैसा जमा करना है तो दो ऐसे मोस्ट इम्पोर्टेन्ट तरीके है जो आपको अप्लाई करने होंगे। पहला तो है टाइम और दूसरा स्टडी। जब हम टाइम की बात करते है तो ये सबके पास होता है।


 मगर मुसीबत तो ये है कि कुछ लोग और भी गरीब बनने के लिए इस टाइम का यूज़ करते है। वे खुद को इतनी सारी एक्टिविटीज़ में एंगेज कर लेते है कि मनी मेकिंग लॉ के लिए उनके पास टाइम ही नहीं बचता।


 जब आप खुद को इतनी सारी एक्टिविटीज़ में बीजी करते है तो आपका टाइम तो पास हो जाता है मगर इससे दौलत इकठठा नहीं होगी।


 वही दूसरी ओर जब स्टडी और रीसर्च की बात आती है तो ऐसे दो टाइप के लेसंस है जो उनके काम आ सकती है जो पैसा कमाना चाहते है। पहली तो एक स्पेसिफिक सब्जेक्ट के बारे में है और दूसरी ये कि इसे कैसे ढूंढें जो कि ज्यादातर लोगो को पता है नहीं होता। ये दोनों टाइप की लर्निंग वेल्यूबल भी है और यूजफुल भी।


 नीचे कुछ बेसिक प्रिंसिपल दिए है जो पैसे बनाने के लिए बड़े काम की चीज़ है।


 जो भी आप कमाए उसमे कम से कम में गुज़ारा करने की आदत डाले। जब लोग मंथ एंड में आराम से अपने सारे बिल्स भरते है तब जाकर उन्हें अमीर और वेल्थी होने की फीलिंग आती है।


 लेकिन अमीर होने का मतलब सिर्फ बिल्स भरना या चीज़े खरीदना नहीं होता। बल्कि इसका असली मतलब है कि आप सबसे पहले खुद को पे करते है।


 हर मंथ आप जब बाकी बिल्स भर सकते है तो पहले खुद के लिए पे क्यों नहीं कर सकते ? अपनी अर्निंग का टेन परसेंट खुद को पे करना आपके फ्यूचर में काफी हेल्प करेगा।


 एक्चुएल में ये पैसे जोड़ने का बड़ा बेनेफीशियल तरीका है। लाइफ में असली चेंज तो तब आएगा जब हर मंथ के शुरू में आप सबसे पहले खुद के लिए pay करेंगे।


 अगर आप ये कर सके तो डेफिनेटली बाकी के पैसे से आप पूरा मंथ निकालना सीख लेंगे और बदलें में आपकी कैपिटल रिज़र्व धीरे-धीरे बढती जाएगी।


 हमेशा उनकी एडवाइस ले जो इस मामले में बेस्ट है। अब जैसे कि मान लो आप बीमार हो तो आपको डॉक्टर के पास जाना पड़ेगा ना कि प्लम्बर के। same बात यहाँ पर भी अप्लाई होती है।


 अगर आपको किसी चीज़ में एडवाइस चाहिए तो जो लोग उसमे एक्सपर्ट है, आपको उनके पास जाना चाहिए। आखिर एक एक्सपर्ट की एडवाइस हमेशा इम्पोर्टेन्ट होती है।


 जब आप अपने लिए कैपिटल बिल्ड करना शुरू करे तो स्टार्टिंग स्माल इन्वेस्टमेंट से करे मगर साथ ही ये भी एंश्योर कर ले कि आपका पैसा सेफ जगह में जाए। बिना जांच पड़ताल के एक पैसा भी इन्वेस्ट ना करे वर्ना आपका पैसा वेस्ट चला जाएगा। हमेशा याद रखे कि हर इन्वेस्टमेंट जेनुअन नहीं होती। इसलिए आपको इस मामले में केयरफुल होने की बहुत ज़रूरत है।



चैप्टर 4 - सेवन क्योर्स फॉर अ लीन पर्स





 इस चैप्टर में राइटर ने आपके पर्स को हमेशा भरा हुआ रखने के सेवन सीक्रेट्स शेयर किये है। ये सेवन टेक्नीक्स है :


  1. आपको सबसे पहले ये सीखना है कि आपका पर्स हमेशा भरा हुआ कैसे रहे। आपको बस एक सिम्पल रुल फॉलो करना है। जैसे कि अगर आप अपने पर्स में 10 कोयन्स डालते है जो आपने कमाए है तो उसमे से सिर्फ 9 कोइन स्पेंड करे। बाकी बचा हुआ 1 कोइन सेव कर ले। ये वाला रुल फॉलो करते ही आपका बैग तेज़ी से भरने लगेगा और जल्दी ही आप अपने 9 कोइन से मैनेज करना सीख जायेंगे।
  2. आपको अपने खर्चो पर लगाम लगानी होगी। नॉर्मली ये माना जाता है कि जैसी इनकम हो लोग वैसा ही खर्च करते है। लेकिन ये एकदम गलत बात है क्योंकि मनी मेकिंग लॉ के खिलाफ है। तो अगर आपकी इनकम बढ़ भी जाए तो भी आपको अपने खर्चे कम करने होंगे। अपनी डिजायर को नीड्स से कन्फ्यूज़ ना करे। अपने मनी रीजेर्व्स को बढाने के लिए एक्स्ट्रा इनकम को किसी इन्वेस्टमेंट टूल में लगाए।
  3. थोडा बहुत गोल्ड तो हर कोई खरीदता है इसलिए ट्राई करे कि आप अपने गोल्ड को मल्टीप्लाई करे जिससे आपके पास बहुत सारा गोल्ड हो जायेगा फिर इसे आप लोन्स या दूसरी अपोर्च्युनिटीज में इन्वेस्ट कर सकते है। क्योंकि गोल्ड एक ऐसी चीज़ है जो बहुत जल्दी मल्टीप्लाई होती है।
  4. किसी भी तरह के अनएक्स्पेक्टेड लोस से अपनी जमा पूँजी को प्रोटेक्ट करके रखे। गोल्ड या दुसरे इन्वेस्टमेंट को केयरफुली प्रोटेक्ट करना बहुत ज़रूरी है। रातो-रात करोडपति बनने के सपने ना देखे वर्ना हो सकता है कि आप अपना खज़ाना खो बैठे। किसी भी इन्वेस्टमेंट से पहले दो बार सोच ले और एक्सपर्ट की एडवाइस ज़रूर ले।
  5. अपनी प्रॉपर्टी को अपने लिए प्रोफिटेबल इन्वेस्टमेंट बनाए। जैसे अगर आपके पास एक्स्ट्रा मकान या ज़मीन है तो उसे रेंट पर लगा दे। जिससे हर मंथ आपकी एक्स्ट्रा इनकम हो जायेगी और फिर उस पैसे को आप रिजर्व कर सकते है या फिर आगे इन्वेस्ट कर ले।
  6. हर किसी को प्लान बनाके फ्यूचर इनकम के लिए कोई काम जरूर करना चाहिए। शोर्ट में बोले तो आपको अपने बच्चो, पेरेंट्स या अपनी ओल्ड एज के लिए किसी भी तरह की फ्यूचर इनकम का अरेंजमेंट करना होगा। इसके लिए मकान या लैंड में अपना पैसा इन्वेस्ट करे।
  7. लास्ट में सबसे इम्पोर्टेन्ट पॉइंट्स ये कि खुद को इम्प्रूव करे। अपनी अर्निंग एबिलिटी को इन्क्रीज करे ताकि आप ज्यादा से ज्यादा कमा सके। जितना ज्यादा केपेबल आप होंगे उतनी ही बैटर अपोर्च्युनिटीज़ आपको मिलती रहेंगी और आपकी अर्निंग होती रहेगी।




चैप्टर 5 - गुड लक की देवी से मिले




 जो लोग सही अपोर्च्यूनिटी को एक्सेप्ट करते है, गुड लक भी उन्ही का दरवाजा खटखटाती है। गुड लक एक ऐसी चीज़ है जो हर कोई अपने लिए चाहता है। हमें अपनी लाइफ में, बिजनेस में या किसी भी काम में गुड लक की ज़रूरत पड़ती है।


 लेकिन बहुत से लोगो को लगता है कि “गुड लक” भगवान् की दी हुई चीज़ होती है। लेकिन असल में गुड लक और कुछ नहीं बल्कि अपोर्च्यूनिटीज़ है जो हमे लाइफ में मिलती है जिससे हम अपना टाइम और लक दोनों ही बदल सकते है।


 अब भला ऐसा कौन होगा जिसे अपने बिजनेस या करियर में गुड लक नहीं चाहिए। मगर बदकिस्मती से बहुत से लोग अपनी टालमटोल करने की आदत के चलते लाइफ में मिली अपोर्च्यूनिटीज़ का फुल एडवांटेज नहीं ले पाते है।


 जो भी अपोर्च्युनिटी हमें मिले, हमें उसका पूरा एडवांटेज लेना चाहिए। इंसान में इतनी एबिलिटी हो कि वो किसी भी तरह के बिजनेस प्रोपोजल को समझ सके।


 गुड लक को अट्रेक्ट करने का ये एक स्ट्रोंग और इफेक्टिव तरीका है जो खाली हाथ पर हाथ रखकर बैठने से तो बेहतर है। कुछ लोग इंतज़ार करते रहते है जैसे हर चीज़ सिल्वर प्लेट में उनके सामने आ जाएगी मगर ऐसा तो हो नहीं रहा क्योंकि आपको अपना गुड लक खुद क्रियेट करना पड़ेगा और ये एक मेहनत का काम होगा..



चैप्टर 6 - गोल्ड के फाइव लॉज़




 यहाँ गोल्ड के फाइव लॉज़ दिए गए है जो इस तरह है:



1. जो इंसान अपनी इनकम का वन टेंथ सेव करता है वो अपने और फेमिली के बैटर फ्यूचर के लिए आराम से गोल्ड जमा कर सकता है।


2. जो लोग गोल्ड को प्रोडक्टिव तरीके से इन्वेस्ट करते है ये उनको ये बड़ी जल्दी और डीलिजेंट तरीके से प्रॉफिट दिलाता है।


3. इंटेलिजेंट लोग जो इसे सही ढंग से सही जगह पर इन्वेस्ट करते है, उनके पास ही गोल्ड रहता है।


4. जो लोग गलत तरीके से गोल्ड को बेवजह कहीं भी इन्वेस्ट कर लेते है, उन्हें गोल्ड से कोई प्रॉफिट नहीं होता बल्कि उल्टा नुकसान ही होता है।


5. गोल्ड ग्रीडी लोगो से दूर भागता है जो इसे ऐसे प्रोफिट्स बनाने के लिए यूज़ करते है जो एक तरह से इम्पोसिबल ही होते है।




चैप्टर 7 - बेबीलोन का गोल्ड लेंडर (द गोल्ड लेंडर ऑफ़ बेबीलोन )




 इस चैप्टर में स्टोरी थोड़े डिफरेंट ट्रैक पर मूव हो जाती है। ये स्टोरी एक स्पीयर मेकर की है जिसे राजा से फिफ्टी पीस गोल्ड गिफ्ट मिलता है। उसे बढ़िया क्वालिटी के स्पीयर्स बनाने होते है तो स्पीयर मेकर रोदान एक मनी लेंडर के पास जाता है जिसका नाम था मथोंन।


 रोदान माथोंन से मोनिटेरी एडवाइस लेना चाहता था क्योंकि उसे इस बारे में कोई खास आईडिया नहीं थाऔर साथ ही उसने ये भी बताया कि उसकी बड़ी बहन अपने हसबैंड आरामान के लिए कुछ पैसे चाहती थी जिससे कि वो एक मर्चेंट बन सके।


 रोदान की बात सुनकर माथोंन उससे कहता है कि वो उसे दो डिफरेंट स्टोरी सुनाएगा जिसे सुनकर शायद वो कोई बैटर डिसीजन ले सके। अपने फ्रेंड्स की हेल्प करना कॉमन बात है लेकिन अगर आप हेल्प कर रहे है तो कुछ इस तरह करे कि वो आपके दोस्तों को कोई एहसान ना लगे।


 जैसे एक्जाम्पल के लिए माथोन एक फार्मर की स्टोरी सुनाता है जिसे एनिमल्स की लैंग्वेज आती थी। एक दिन शाम के वक्त वो फार्मर अपने स्टेबल के सामने से गुज़र रहा था तो उसने बैल को गधे से बोलते हुए सुना कि “मेरा काम तुम्हारे काम से ज्यादा मुश्किल है क्योंकि मुझे पूरा खेत जोतना होता है जबकि तुम सिर्फ फार्मर को अपनी सवारी कराते हो”


 बैल की बात सुनकर गधे ने कहा कि “तुम कल बीमार होने का नाटक करना फिर तुम्हारा काम में कर लूँगा”


 दुसरे दिन प्लान के हिसाब बैल बीमार हो गया तो फार्मर ने उसके बदले गधे को खेत जोतने के काम में लगा दिया। शाम को बैल ने गधे का शुक्रिया अदा किया कि उसने उसकी इतनी मदद की और उसे रेस्ट करने का मौका दिया।


 ये बैल और गधे की ट्रू फ्रेंडशिप की स्टोरी थी जो माथोन ने रोदान को सुनाई। अब दूसरी स्टोरी इस तरह है,


 एक बार माथोन ने रोदान से पुछा कि क्या इसे ट्रू सेन्स में लोन माना जाएगा अगर लोन लेने वाला इंसान उसे रिपे ना कर सके तो ? माथोन ने खुद ही अपने सवाल का ज़वाब भी दिया, उसने कहा कि तीन टाइप के बोरोवर्स होते है।


 फर्स्ट टाइप के वो जो अपनी केपेसिटी से ज्यादा लोन लेते है। सेकंड टाइप के वो जो अपनी केपेसिटी के हिसाब से लोन बोरो करते है और रिटर्न भी आराम से कर देते है, और थर्ड टाइप के वो होते है जिनके पास ना ही कोई प्रॉपर्टी होती है और ना किसी तरह की पक्की इनकम का सोर्स। ये लोग लोन ले तो लेते है मगर कभी रिटर्न नहीं कर पाते है।


 तो इन थर्ड टाइप के लोगो को कभी लोन नहीं देना चाहिए। इससे रिलेटेड कुछ और शोर्ट स्टोरीज़ भी है जैसे कि एक औरत थी जिसने अपने बेटे को मर्चेंट बनाने के लिए पैसे उधार लिए थे।


 उसने अपने गहने गिरवी रखने के लिए दिए तो माथोन उसे मना नहीं कर पाया। माथोन को ये आईडिया पसंद आया कि पैसे के बदले रियल सिक्योरिटी यानी गोल्ड गिरवी रखा जा सकता है जिससे उधार देने वाला भी घाटे में ना रहे। बेसिकली ये एक वाइज़ पर्पज था।


 मोरल ऑफ़ द स्टोरी ये है कि आप एक्स्ट्रा इनकम के लिए लोगो को लोन प्रोवाइड करा सकते है। मगर किसी को उधार देने से पहले ये श्योर कर ले कि लोन लेने वाला आपके पैसे लौटा भी पायगा कि नहीं।


 अगर आपके पैसे फंस गए तो इससे आपका बड़ा लोस होगा। इसलिए बैटर होगा कि थोडा अलर्ट रहा जाए ताकि बाद में पछताना ना पड़े। हमेशा अपनी सिक्योरिटी का ध्यान पहले रखे।


 इन दोनों स्टोरीज़ से हमें पहली सीख ये मिली कि दुसरो का बोझा अपने सर ना ढोए और दूसरी सीख ये कि अपनी इनकम इनक्रीज करने के लिए लोन पर पैसे देना एक बढ़िया आईडिया है। लेकिन पॉइंटलेस प्लेजर यानि बेमलब के लिए पैसे उधार देने से आपका लोस भी हो सकता है।



चैप्टर 8 - बेबीलोन की दिवार ‘द वाल्स ऑफ़ बेबीलोन”



 एक इंसान की नीड्स और प्रोटेक्शन की डिजायर का एक आउटस्टेंडिंग एक्जाम्पल है। इस चैप्टर में एक सोल्ज़र की स्टोरी है जो बेबीलोन के गेट्स का गार्ड था। अपनी वन हण्ड्रेड एंड सिक्सटी फीट हाईट की वजह से बेबीलोन की वाल्स बहुत पोपुलर थी।

 एक बार एक एनिमी ने बेबीलोन पर अटैक कर दिया। चार हफ्तों तक लड़ाई चलती रही मगर फिर दिवार की हाईट और थिकनेस की वजह से दुश्मन ने हार मान ली और पीछे हट गया।


 इस स्टोरी से जो हम सीख सकते है वो ये कि हम चाहे तो किसी भी अनएक्स्पेटेड ट्रेजेडी से खुद को गार्ड कर सकते है। बस खुद को शांत रखने की ज़रूरत है।



चैप्टर 9 - बेबीलोन का कैमल ट्रेडर ( द कैमल ट्रेडर ऑफ़ बेबीलोन)




 ये चैप्टर एक भूखे आदमी के बारे में है जो दो दिनों से भूखा था इसलिए उसने दो फिग्स चुराकर खा लिए और इससे पहले कि वो पकड़ा जाए, भाग गया। तब उस भूखे आदमी को जिसका नाम तारकद था, एक दबासीर नाम का आदमी टकराया।


 दबासीर कभी सीरिया में स्लेव हुआ करता था। किसी ज़माने में वो अपने फादर के साथ उनके सैडल मेकिंग बिजनेस में हाथ बंटाता था मगर अपनी एक्स्ट्रावेगेंट लाइफ स्टाइल की वजह से उसने सारा पैसा उड़ा डाला था।


 उसके सर पे उधारी चढ़ गयी थी और उसकी बीवी भी उसे छोडकर चली गयी। दबासीर तारकद को एक ढाबे में लेकर गया और उसको खाना पीना खिलाया। उसने तारकद को अपनी लाइफ की ट्रेजिक स्टोरी बताई कि कैसे वो सीरिया में गुलामी की जिंदगी जी रहा था और वहां से किसी तरह बचकर भाग गया था।


 फिर उसे एक नया मास्टर मिला जिसने उसे अपनी बीवियों के हरम की देखभाल के लिए गार्ड की नौकरी दे दी। किस्मत से उसके मास्टर की सबसे बड़ी वाइफ ने कहा कि उनके पास पहले ही बहुत से गार्ड है इसलिए तारकद को कैमल की देखभाल का काम दे दिया गया।


 और इस तरह सब कुछ लुटा कर गरीबी की मार झेल रहे एक इंसान को फिर से अच्छी लाइफ जीने का मौका मिला और वो अब हर तरह से आज़ाद था। इस स्टोरी से हम ये समझ सकते है कि जहाँ डिटरमिनेशन होता है वहां कोई ना कोई रास्ता निकल ही आता है।



चैप्टर 10 - बेबीलोन के क्ले टैबलेट्स (द क्ले टैबलेट्स फ्रॉम बेबीलोन)





 ये चैप्टर फाइव टेबलेट्स में डिवाइड है। हर टैबलेट में दबासीर की स्टोरी और भी डिटेल्स में दी गयी है। इसमें बताया गया है कि दबासीर ने कैसे अपने सारे कर्जे उतारे और अपनी लाइफ के साथ एक हेल्दी और वेल्दी लाइफ जीने लगा।

 टैबलेट नंबर वन में दबासीर ने कैपिटल मेकिंग लॉ को फॉलो किया और अपनी सेलेरी का वन टेंथ हर महीने बचाया। जब वो बेबीलोन वापस आया तो उसकी बीवी भी उसके पास लौट आई और दोनों ख़ुशी से रहने लगे।


 दबासीर अपनी अर्निंग के सेवेन टेंथ से अपने सारे बिल्स भर देता था फिर बचे हुए पैसे से वो पूरा मंथ निकाल लेते। वो बाकी के बचे टू टेंथ से क्रेडिटर्स के कर्जे चूका देता था।


 दुसरे टैबलेट में वो अपने टू टेंथ पर सेंट मनी को स्प्लिट करता था। फिर क्रेडिटर्स की लिस्ट बनाकर देखता था कि उसे कितनो को पैसे देने है या कितने लोगो को उसका पैसा चुकाना है।


 तीसरे टैबलेट में दबासीर ने एक्सेप्ट किया है कि जब वो बेबीलोन में था तब उसने बड़े बेवकूफी भरे काम किये थे। उसके कुछ क्रेडिटर्स उसकी हरकतों के लिए उसे कोसते रहते थे कुछ उसे पैसा लौटाने के लिए धमकाते थे और कुछ रिक्वेस्ट करते थे कि वो उनका पैसा चूका दे। मगर इस बार दबासीर ने पक्का इरादा किया कि वो सबकी पाई-पाई चूका देगा।


 चौथे टैबलेट में दबासीर ने क्लेम किया है कि वो और उसकी वाइफ अब ख़ुशी से एक हेल्दी और वेल्दी लाइफ जी रहे है। जो मनी मेकिंग लॉ उसने अपनी लाइफ में अप्लाई किया है उससे उसकी जिंदगी की गाडी पटरी पर आ गयी थी और वो अब एक स्लेव नहीं रहा बल्कि एक रिस्पेक्टेड आदमी बन गया था।


 फिफ्थ टैबलेट में दबासीर ने कहा है कि अब बारह महीने हो गए है और उसने अपने सारे कर्जे उतार दिए है। अपनी अर्निंग का टू टेंथ स्प्लिट करके दबासीर ने अपने सारे क्रेडिटर्स को बराबर पैसे देकर सारा कर्जा उतार दिया था।



चैप्टर 11 - बेबीलोन का सबसे किस्मत वाला आदमी (द लकियेस्ट मेन इन बेबीलोन)


 इस चैप्टर में एक नया केरेक्टर इंट्रोड्यूस किया गया है जिसका नाम है शर्रू नाडा जो बेबीलोन का मर्चेंट प्रिंस था। वो भी कभी स्लेव हुआ करता था। उसने अपनी लाइफ की डिफीकल्टीज शेयर की और ये भी बताया कि कैसे उसे सारी प्रोब्लम्स से छुटकारा मिला,


 और अब उसके पास इतना पैसा था कि वो अपनी फ्रींडम खरीद सकता था। हालांकि वो आज एक मर्चेंट बन गया था मगर कभी ऐसा भी दिन था कि उसे यकीन नहीं था कि वो अपने मास्टर की नौकरी छोड़ भी पायेगा या नहीं। सच बात तो ये है कि काम ही दौलत की चाबी होती है। इसलिए उसने बहुत हार्ड वर्क किया और एक सक्सेसफुल मर्चेंट बन गया।



चैप्टर 12 - बेबीलोन का हिस्टोरिक स्केच (एन हिस्टोरिक स्केच ऑफ़ बेबीलोन)

 बेबीलोन एक एक्सीलेंट एक्जाम्पल है कि लोग कैसे अपनी लाइफ में सकेस्फुल और वेल्दी बन सकते है। बेबीलोन सिटी एक ड्राई और फ्लेट वैली में है जहाँ खेती करने लायक भी बारिश नहीं होती। इस सिटी में कोई फारेस्ट एरिया भी नहीं है फिर भी लोग यहाँ रहते है और उन्होंने ग्रेट सक्सेस अचीव की है। बेबीलोन की सारी वेल्थ और अमीरी मेन मेड है।


Buy This Book -







चैप्टर 13 - कन्क्ल्यूजन

 याद रखे जो भी गोल्ड और मनी आपने हर मंथ की सेविंग से बचाया है, एक दिन आपके लिए काम करेगा जैसे कोई स्लेव करता है, और पैसे से ही आप और ज्यादा पैसा कमा सकते है।

 आपको जानना है कि अपनी अर्निंग कैसे सेव करे। इसके लिए आपको लॉ ऑफ़ कैपिटल मेकिंग मेंटेन करना है। हर मंथ की स्टार्टिंग से ही अपनी अर्निंग का 10 परसेंट सेव करना शुरू करे।


 हमेशा हार्ड वर्क में बिलीव करे और अपनी इनकम बढाने के लिए डिफरेंट तरीके ढूढे। अपनी केपेबिलीटी और क्वालिटी इनक्रीज करते रहे। शोर्ट कट ना ही अपनाए तो बैटर होगा।


 याद रखे कि जो आराम से हाथ लगता है उतनी ही आसानी से चला भी जाता है। इसलिए हार्ड वर्क का कोई दूसरा option ही नहीं है। कोशिश करे कि ज्यादा से ज्यादा सेव कर सके। जो भी बढ़िया अपोर्च्यूनिटी मिले, लपक ले। अपना पैसा सिक्योर जगह पे इन्वेस्ट करे और हमेशा एक्सपर्ट एडवाइस लेना ना भूले।



The Richest Man In Babylon Book Full Audio Book





 तो दोस्तों आपको आज का हमारा यह आर्टिकल The Richest Man In Babylon Book Review in Hindi कैसा लगा नीचे कमेंट करके जरूर बताये और इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करे।



आपका बहुमूल्य समय देने के लिए दिल से धन्यवाद।

Wish You All The Very Best.



recommended books -


   



Comments

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner