Featured Post

Expert Blogging Tips in Hindi - नया ब्लॉगर ये 5 बातें जरूर ध्यान रखें

Image
Expert Blogging Tips in Hindi. Hello दोस्तों, आज मैं आपको 5 ऐसी Best Blogging टिप्स बताऊंगा, जब Keywords research आप करते हैं आप ढूंढ लेते हैं Low Competition कौनसा हैं, High CPC किसका हैं और किससे आपको Traffic अच्छा मिलेगा,

 फिर भी कुछ न कुछ ऐसे Points रह जाते हैं, जो हम ध्यान ही नहीं देते है और जिसके वजह से हमारे Post, Google के अंदर Post Rank तो करती हैं, but वो First Page में नहीं आती या Top 3, 2, 1 पे नहीं आती।

तो कौनसी ऐसी Tips हैं जिसका आपको ध्यान रखना चाहिए वो सारा Points मैं आपको Details में बताऊंगा, की Low Competition Keywords ढूंढने के बाद भी आपकी Post Rank क्यों नहीं करती, कौनसी ऐसी चीज है जिसको हम बार बार करते है। तो चलिए वो Tips जान लेते हैं -




Expert Blogging Tips in Hindi - नया ब्लॉगर ये 5 बातें जरूर ध्यान रखें

#1 High Authority Websiteजब भी आप कोई Low competition, High CPC keywords research करते है और उसके ऊपर आप कोई Article या Post लिखते हैं, तो आपको गूगल के अंदर जरूर Search करना चाहिए की उसके ऊपर कोई High Authority Website already Rank तो नहीं हैं।


For Example -


गूगल Searc…

Book Review in Hindi - The One Thing (Complete Review) | Thoughtinhindi.com

Book Review in Hindi - The One Thing. Hello दोस्तों, ये Gary W. Keller and Jay Papasan की best selling बुक The One Thing: The Surprisingly Simple Truth Behind Extraordinary Results: Achieve Your Goals With One of The World's Bestselling Success book की review.

 ये The One Thing बुक आपको कम टाइम में ज्यादा काम करने के rules बताती है, और हमे बताती है successful लोग इसलिए successful हुए है क्यूंकि वो एक इम्पोर्टेन्ट काम में सबसे ज्यादा वक़्त गुजरते है, ना की बहुत सारे काम करके average रहते है।

 अगर आपने 80/20 प्रिंसिपल के बारे में सुना है तो ये 80/20 principle का extreme Case है। Extraordinary लोगों की सक्सेस का इकलौता Secret.
The One Thing Complete Book Review in Hindi

The One Thing Complete Book Review in Hindi




 पहला आदमी: क्या तुम जानते हो कि जीवन का रहस्य क्या है?

दूसरा आदमी: नहीं। क्या है?

पहला आदमी: यह। [एक उंगली ऊपर करता है।]

दूसरा आदमी: तुम्हारी उंगली?

पहला आदमी: एक चीज। केवल एक चीज। तुम केवल उसी से लगे रहो और दूसरी सारी चीजें बिना मतलब हैं।

दूसरा आदमी: बहुत बढ़िया। पर वह “एक चीज” क्या है?

पहला आदमी: यही तो तुम्हें पता करना है।

 यदि आप अपनी एक चीज के साथ पर्याप्त लंबे अरसे तक लगे रहें तब “आप जरूर जीतेंगे”। यही सफलता का रहस्य है।

 किसी भी असाधारण आदमी और उसकी अचीवमेंट्स के पीछे का एकलौता रहस्य।




 गोइंग स्माल

 यदि हर आदमी के लिए दिन में उतने ही घंटे होते हैं, तब ऐसा क्यों लगता है कि कुछ व्यक्ति औरों से इतना ज्यादा पा लेते हैं? उत्तर है कि – दे गो स्माल।

 “गोइंग स्माल” है उन दूसरी सारी चीजों की अनदेखी कर देना जिन्हें आप कर सकते थे, और वही करना जो IMPORTANT है, आपको करना चाहिए।

 यह पहचानना है कि सारी चीजें एक समान जरूरी नहीं हैं और उन चीजों को पा लेना जो सबसे ज्यादा जरूरी हैं।

 हमे यह इसे समझना है कि EXTRAORDINARY RESULTS असाधारण नतीजे सीधे इस बात से निर्धारित होते हैं कि आप फोकस कितना नैरो कर सकते हैं।

 जब आप जितना संभव है उतने छोटे बन जाते हैं, तब आप उस ONE THING कर रहे होंगे जो आपको LIFE में SUCCESS दिलाएगी, आप एक चीज पर घूरते होंगे।


असाधारण नतीजे पाना


 डोमिनोज़ गिराना बहुत सीधी सी बात है।

 आप उन्हें लाइन से खड़ा कर दीजिए और उनमें से पहला लुढ़का दीजिए।

 फिर भी, असली दुनिया में यह अधिक जटिल है।

 चुनौती यह है कि जीवन हमारे लिए कोई हमारे goals को line में नहीं लगा देता, सारी चीजों की लाइन नहीं लगा देता और यह नहीं कहता, “यहीं से तुम्हें शुरू करना चाहिए।”

 इसलिए, इसके बदले हर दिन, हमें starting से अपनी प्रयॉरिटीज़ की लाइन लगानी चाहिए,

 हमें अपने highest priority task को ढूँढना चाहिए और उस पे काम करते रहना चाहिए, जबतक वो achieve न हो जाये।

 यह अप्रोच काम करता है क्योंकि extra ordinary results sequential होते है यानी एक के बाद एक होते है, एक साथ नहीं।

 DOMINO EFFECT आपके काम और आपके BUSINESS पर भी लागू होता है, और उस छोटे से छोटे पल पर भी लागू होता है जब आप डिसाइड कर रहे होते हैं कि आगे क्या करना है।

 सफलता का निर्माण सफलता पर किया जाता है। सिर्फ एक बार में एक चीज।


 भाग 1:- झूठ: वे हमें भरमाते हैं और पटरी से उतार देते हैं


 समय के साथ, किस्से और असत्य हमारे ऊपर इतने अक्सर बरसाए जाते हैंकि अंत में वे जाने-पहचाने लगने लगते हैं और सच के समान सुनाई देने लगते हैं।

 तब हमें उनके आधार पर महत्वपूर्ण निर्णय लेने लगते हैं।

 अपनी सफलता की रणनीतियाँ बनाते समय जिस चुनौती का सामना हम सभी करते हैं, यह है कि सफलता के भी अपने झूठ होते हैं।

 यदि हम अपनी संभावना को अधिक से अधिक बढ़ाना चाहते हैं, तब, हमें निश्चित रूप से इन सभी झूठों को परे कर देना पड़ेगा।


  झूठ नं. 1: सभी चीजों का महत्व एक समान है


 न्याय और अधिकारों के नाम पर अनुसरण की जाने वाली बराबरी एक योग्य आदर्श है।

 तब भी, रिजल्ट्स की असली दुनिया में चीजें कभी भी एक बराबर नहीं होतीं।

 चाहे लोग कितने भी टैलेंटेड हों — इनमें से कोई भी दो कभी भी एक समान नहीं होते।

 हर चीज का महत्व भी एक बराबर नहीं होता।

 बराबरी एक झूठ है।

 हर चीज का महत्व समान नहीं होता, और सफलता कोई खेल नहीं है कि उसे वही जीते जो सबसे अधिक करता है।

 मगर रोजाना अधिकतर लोग ठीक इसी तरह से खेलते हैं।

 हालांकि टु-डू लिस्ट्स हमारे अच्छे इरादों के उपयोगी कलेक्शन का काम करते हैं, वे हमें छोटी-छोटी, गैरजरूरी चीजों से डराने का काम भी करते हैं जिन्हें हम करने के लिए मजबूर होते हैं — क्योंकि यह हमारी लिस्ट में हैं।

 अचीवर्स अलग तरीके से काम करते हैं। अचीवर्स हमेशा प्रायॉरिटी के क्लियर सेंस से काम करते हैं।

 टु-डू लिस्ट्स की जगह, आपको एक सफलता लिस्ट की जरूरत है  –– एक ऐसी लिस्ट जो असाधारण नतीजे पैदा करती है।

 यदि आपकी टु-डू लिस्ट में हरेक चीज है, तब शायद यह आपको सभी जगहों पर ले जा रही है, सिवाय उस जगह के जहाँ आप जाना चाहते हैं।

 पैरेटो के प्रिंसिपल का प्रयोग करना। पैरेटो का प्रिंसिपल, जो 80/20 प्रिंसिपल के नाम से भी जाना जाता है, यह कहता है कि आपकी अल्पसंख्यक कोशिशें (20 परसेंट) बहुसंख्यक रिजल्ट्स लाती हैं (80 परसेंट)। यह हमें सही दिशा दिखाता है।

 आप जो चाहते हैं उसका अधिकांश आप जो करते हैं उसके कमतर अंश से आएगा।

 ज्यादा लोग इसे समझते नहीं हैं मगर असाधारण रिजल्ट्स गैर-समानुपाती ढंग से हमारी कमतर कार्यवाहियों से आते हैं।

 परस्थितियों पर निर्भर करते हुए, यह 90/20 के रूप में भी खेल सकता है, जहाँ आपकी 90 परसेंट सफलता आपकी 20 परसेंट कोशिश से आती है।

 या 70/10 या 65/35. केवल इतना समझ लीजिए कि यह सभी एक ही प्रिंसिपल पर काम कर रही हैं।

अंतर्दृष्टि यह है कि हर चीज का महत्व एक समान नहीं है; कुछ चीजें दूसरी चीजों से ज्यादा जरूरी हैं — बहुत ज्यादा।

 जब आप पैरेटो के प्रिंसिपल का प्रयोग करते हैं, तब टु-डू लिस्ट सफलता लिस्ट बन जाती है।

यदि आप किसी हद को पार कर आगे जाना चाहते हैं, तब आप जितनी चाहें उतनी लंबी लिस्ट के साथ शुरुआत करें, परंतु यह मानसिकता विकसित करें कि आप वहां से अपना रास्ता कुछ क्रिटिकल चीजों पर  तराश लेंगे और तब तक नहीं रुकेंगे जब तक आपको वह अति आवश्यक एक चीज नहीं मिल जाए।  


 झूठ नं. 2: मल्टीटास्किंग


 मल्टीटास्किंग एक झूठ है क्योंकि लगभग सभी मानते हैं यह करने वाली बहुत एफेक्टिव चीज है, क्योंकि यदि आप दो चीजें एक साथ करने की कोशिश करते हैं, तब आप इनमें से किसी को भी अच्छी तरह नहीं करेंगे या कर नहीं पाएँगे।

 मल्टीटास्किंग कम काम करने का इफेक्टिव तरीका है।

 टर्म “मल्टीटास्किंग” कंप्यूटर के कई काम एक साथ करने की क्षमता का वर्णन करने के लिए 1960 के दशक में उभरा था।

 फिर भी, यह टर्म अंदरूनी तौर पर धोखेबाजी का है।

 मल्टीटास्किंग का मतलब है एक ही संसाधन (CPU) का एकांतर से साझा करना, परंतु समय के साथ संदर्भ बदल गया, और इसका अर्थ निकाला जाने लगा एक ही संसाधन (एक व्यक्ति) द्वारा का एक साथ मल्टिपल टास्क्स किया जाना।

 लोग एक साथ दो या ज्यादा काम कर सकते हैं, जैसे टहलना और बातें करना, परंतु हम एक साथ दो चीजों पर फोकस नहीं कर सकते।

 हमारा ध्यान आगे पीछे होता रहता है। यह कंप्यूटरों के लिए तो ठीक है, परंतु मनुष्यों में इनके गंभीर प्रभाव हो सकते हैं।

 जब आप एक टास्क से दूसरे टास्क पर स्विच करते हैं, तब दो चीजें होती हैं।

 पहली लगभग तत्काल है : आप स्विच करने का निश्चय करते हैं।

 दूसरी कम प्रेडिक्टेबल है : आप जो भी करने वाले हैं उसके लिए आपको “नियमों” को ऐक्टिवेट करना पड़ेगा।

 हमेशा किसी नए टास्क को शुरू करने में और जिसे आपने छोड़ दिया है उसे फिर से शुरू करने में कुछ समय लगता है।

 और कोई भी गारंटी नहीं है कि आपने जहाँ छोड़ा था वहीं से शुरू करेंगे। तो हम कभी भी मल्टीटास्किंग को बर्दाश्त क्यों करें जब हम सबसे महत्वपूर्ण काम कर रहे हैं?

 केवल इसलिए कि हमारा दिन का काम बाइपास सर्जरी से संबंध नहीं रखता इसका मतलब यह नहीं है कि हमारी सफलता के लिए फोकस करना कम क्रिटिकल है। आपका काम इससे कम आदर डिजर्व नहीं करता।


 झूठ न. 3: एक डिसिप्लिन्ड जीवन

 अधिकतर लोग जिसे मानते हैं उससे उलट, सफलता डिसिप्लीन्ड एक्शन की लंबी दौड़ नहीं है।

 अचीवमेंट आपसे यह मांग नहीं करता कि पूरे समय एक डिसिप्लीन्ड व्यक्ति बने रहें जहाँ आपका हर ऐक्शन प्रशिक्षित हो और जहाँ हर परिस्थिति का समाधान नियंत्रण है।

 असल में सफलता एक छोटी दौड़ है — एक स्प्रिंट, जिसमें इंधन तो डिसिप्लीन का है, केवल उतनी ही देर तक जब तक आदत हावी न हो जाए।

 आप जितना सोचते हैं उससे कम डिसिप्लीन से आप सफल हो सकते है, इसका कारण सीधा-सादा है : सफलता सही चीज करने के बारे में है, हर चीज सही करने के बारे में नहीं।

 सफलता के लिए तरकीब है सही आदत चुनना और केवल उतना ही डिसिप्लीन जो इसे जमाने के लिए काफी हो। बस हो गया।

 जैसे-जैसे यह आदत आपके जीवन का हिस्सा बनती है, आप एक डिसीप्लीन्ड व्यक्ति की तरह दिखने लगेंगे, मगर आप होंगे नहीं।

 आप वह व्यक्ति होंगे जिसने एक मजबूत आदत बनाने के लिए सेलेक्टिव डिसिप्लीन का इस्तेमाल किया था।

 स्वीट स्पॉट पहुँचने के लिए छियासठ दिन। सही डिसिपिलीन बहुत दूर तक जाती है, और आदतें केवल शुरुआत में मुश्किल होती हैं।

 समय के साथ, जिस आदत के आप पीछे पड़े हुए हैं उसे बनाए रखना आसान हो जाता है।

 आदत शुरू करने के लिए जितनी ऊर्जा की जरूरत होती हो उससे बहुत कम इसे बनाए रखने के लिए होती है।

 2009 में यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ लंदन के रिसर्चर्स ने यह प्रश्न पूछा था, “किसी आदत को लगाने में कितना समय लगता है?” रिजल्ट्स सुझाव देते हैं कि इसमें औसतन 66 दिन लगते हैं; पूरा रेंज 18 से 254 दिनों का था, परंतु 66 स्वीट स्पॉट दर्शाते थे — आसान आचरणों में कम दिनों की जरूरत होती है और कठिन आचरणों में ज्यादा की।

 सुपर-सफल व्यक्ति कोई सुपरह्युमन नहीं हैं; उन्होंने केवल कुछ सार्थक आदतों को विकसित करने में सेलेक्टिव डिसिप्लीन का उपयोग किया है – एक बार में एक, समय के साथ।


 झूठ न. 4: विलपावर जब चाहें तब आ सकती है


 अधिकतर लोग यह मान कर चलते हैं कि विलपावर का बहुत महत्व है, परंतु कई पूरी तरह नहीं समझते होंगे कि सफलता के लिए यह कितना ज्यादा जरूरी है।

 विलपावर इतना महत्वपूर्ण है कि इसका प्रभावी उपयोग सबसे ऊँची प्रायॉरिटी होनी चाहिए।

 दुर्भाग्यवश, चूंकि इसे हमेशा अपनी इच्छा से बुलाया नहीं जा सकता, इसके सबसे अच्छे उपयोग में लाने के लिए आपको इसे मैनेज करने की जरूरत होती है।

 विलपावर एक समय-सापेक्ष मुद्दा है; जब आपकी अपनी विल होती है, आप अपने मन-मुताबिक कर सकते हैं।

 विलपावर की बैटरी का जीवन सीमित होता है परंतु कुछ रुक करइसे रीचार्ज किया जा सकता है।

 आपको अपनी विलपावर के इंधन की गेज की चौकसी करना जरूरी है। पूरे-बल के विलपावर के लिए भरे टैंक इंधन की जरूरत होती है।

 इंधन कम होने के कारण कभी भी महत्वपूर्ण चीजों पर समझौता मत होने दीजिए। नियमित रूप से सही भोजन कीजिए और काफी विश्राम लीजिए।  

आप अपने विलपावर को काम में कैसे लगाते हैं? इस बारे में सोचिए। इस पर ध्यान दीजिए। इसका सम्मान कीजिए।

 प्रतिदिन, जो चीज सबसे जरूरी है उसे सबसे पहले कीजिए, जब आपका विलपावर सबसे बलशाली रहता है। अधिकतम शक्ति का मतलब है अधिकतम सफलता।


 झूठ नं. 5: संतुलित जीवन


 संतुलित जीवन यानी balanced life का idea हमें बहुत ज्यादा attract करता है पर ये practical नहीं है।

 सभी चीजों पर ध्यान देने के लिए आपकी कोशिशों से, आप कुछ भी ठीक ढंग से नहीं कर पाते, और किसी के भी साथ इन्साफ नहीं होता।

 जब हम कहते हैं कि हम अपने संतुलन से बाहर हैं, तब हम ये कहना चाहते है की हमारी कुछ प्रायॉरिटीज – चीजें जो हमारे लिए महत्व रखती हैं – उनकी देख-रेख नहीं हो रही है या वे पूरी नहीं की जा रही हैं।

 समस्या यह है कि जब आप उस चीज पर फोकस करते हैं जो सबसे जरूरी है, तब कोई-न-कोई चीज हमेशा अनदेखी रह जाएगी।

 हमेशा चीजें अधूरी रह जाएँगी। बढ़िया रिजल्ट पाने के बदले कुछ चीजों को बिन-किए छोड़ना जरूरी हो जाता है।

 मगर आप सारी चीजों को बिन-किए नहीं छोड़ सकते हैं, और यहीं पर काम आता है आपका काउंटरबैलेंसिंग करने का skill ।

 अपने काम और अपने व्यक्तिगत जीवन की काउंटर-बैलेंस आपके लिए बहुत जरूरी बन जाती है।

1. अपने काम की counterbalancing करना।

 काम को इस तरह देखें कि यह किसी कुशलता या ज्ञान से संबंधित है जिसमें best होना जरूरी है।

 यह एक कारण बनेगा जिससे आप अपनी एक चीज को बाकी चीजों के मुकाबले ज्यादा समय देंगे और इससे आप बाकी के गैर जरुरी कामों को दिनों, सप्ताहों, महीनों और वर्षों के लिए छोड़ देंगे।

 आपका कर्म-जीवन यानी work life दो क्षेत्रों में बंटा हुआ है एक जो सबसे महत्वपूर्ण है, और दूसरा - बाकी सारी चीजें।

 जो चीजें सबसे महत्वपूर्ण हैं उनमें आपको बहुत म्हणत करनी पड़ेगी तथा और औरों में बस ठीक-ठाक चलाते रहना पड़ेगा। प्रोफेशनल सफलता के लिए यह जरूरी है।

2. आपको अपने व्यक्तिगत जीवन की बाल्टी को भी को काउंटरबैलेंस करना पड़ेगा।

 स्वीकार कीजिए कि आपके जीवन में अनेक क्षेत्र हैं और प्रत्येक को कम-से-कम कुछ ध्यान दिए जाने की जरूरत है क्योंकि आप महसूस करते हैं कि आपका “एक जीवन है।”

 अगर आप किसी एक को छोड़ देते है, तब आपको उसके प्रभाव का अनुभव हो जाएगा। इसे निरंतर जागरूकता की आवश्यकता होती है।

 काउँटरबैलेंसिंग किए बिना आपको बहुत देर तक और बहुत दूर तक कभी नहीं जाना चाहिए क्योंके वे आपके जीवन के important areas हैं।  

 संतुलन का प्रश्न वास्तव में एक प्रायॉरिटी का प्रश्न है। जब आप अपनी भाषा को बैलेंसिंग से प्रायॉरिटाइज़िंग में बदलते हैं, तब आप विकल्पों को साफ़ तरीके से देख पाते है।

 जब आपको काम करना चाहिए, काम कीजिए, और जब आपको खेलना चाहिए, खेलिए।

 आप इस एक अजीब तनी रस्सी पर चल रहे हैं, परंतु केवल जब आप अपनी प्राटॉरिटीज को इधर-उधर करते हैं तभी चीजें छिन्न-भिन्न हो जाती हैं।  


 झूठ नं. 6: बड़ा खराब है


 यह संभवतः इन सभी में सबसे खराब झूठ है, क्योंकि जब आप बड़ी सफलता से डरते हैं, तब इसे पाने के लिए अपनी कोशिशों से या तो आप बचेंगे या उन्हें नाकाम करेंगे।

 कोई भी नहीं जानता कि सफलता की चरम-सीमा क्या है, इसलिए इसके बारे में चिंतित होना समय बरबाद करना है।

 जब आप खुद को स्वीकारने की इजाजत देते हैं कि बड़ा उसी के बारे में है जो आप बन सकते हैं, तब आप इसे अलग नजर से देखते हैं।

 असाधारण नतीजों के लिए बड़ा सोचना अनिवार्य है। सफलता को action कार्यवाही की आवश्यकता होती है, और कार्यवाही को विचार की जरूरत होती है।

 परंतु यहाँ एक कैच है – जो कार्यवाहियाँ actions बड़ी सफलता हासिल करने के लिए स्प्रिंगबोर्ड बनती हैं, केवल वही actions हैं जिनकी शुरुआत बड़ी सोच की जानकारी के साथ की गई थी।

 इनका कनेक्शन जोड़िए, और आपकी सोच कितनी बड़ी है, यह समझ में आने लगेगा।

 हरेक के पास समय की मात्रा एक ही है, और परिश्रम केवल परिश्रम है।

 नतीजे के रूप में, अपने काम के समय आप क्या करते हैं निर्धारित करता है कि आप क्या अचीव करेंगे।

 और चूंकि आप जो करते हैं वह इससे निर्धारित होता है कि आप क्या सोचते हैं, आप कितना बड़ा सोचते हैं वह इसका लॉन्चिंग पैड बनता है कि आप कितनी ऊँचाई को अचीव करते हैं।

 बड़े से मत डरिए। साधारण कोटि का होने से डरिए।

 केवल बड़प्पन से जीना ही आपको असली जीवन और कर्म की संभावना का अनुभव कराएगा।

 सफलता का अर्थ यही निकलता है : अपने जीवन के हर पल में उचित होना।

 यदि आप ईमानदारी से कह सकते हैं, “यही वह जगह है जहाँ मुझे ठीक इस समय होना चाहिए था, ठीक वही करते हुए जिसे मैं अभी कर रहा हूँ,” तब आपके जीवन की सभी अद्भुत संभावनाएँ संभव बन जाती हैं।


 फोकसिंग प्रश्न


 हम जो प्रश्न अपने आप से पूछते हैं उन्हें कैसे शब्दों में पिरोते हैं, उन उत्तरों को निर्धारित करते हैं जो अंत में हमारा जीवन बन जाते हैं।

 चुनौती यह है कि सही प्रश्न हमेशा इतना obvious नहीं होता।

 अधिकतर चीजें जिन्हें हम चाहते हैं, किसी रोडमैप या निर्देशों के सेट के साथ नहीं आतीं, इसलिए सही प्रश्न फ्रेम करना मुश्किल हो सकता है।

 स्पष्टता खुद हमसे आनी चाहिए। हम जिन उत्तरों को चाहते हैं उन्हें पाने के लिए, हमें सही प्रश्न गढ़ने पड़ेंगे — और उन्हें अपने-आप ईजाद करने के लिए छोड़ दिया जाता है।

 तब कैसे आप उन निराले प्रश्नों का आविष्कार करते जो आपको निराले उत्तरों तक ले जाते हैं?


आप एक प्रश्न पूछिए: फोकसिंग प्रश्न।


कोई भी, जो successful जीवन के सपने देखता है उसे इसे जीने के लिए कोई successful अप्रोच ढूँढ़ निकालना पड़ेगा। फोकसिंग प्रश्न वह successful अप्रोच है।  


प्रश्न की ऐनाटमी


फोकसिंग प्रश्न सभी संभव प्रश्नों को एक में संकुचित कर देता है: “वह एक चीज क्या है जिसे मैं कर सकता हूँ / जिससे इसे करने से/ दूसरी सारी चीजें आसान और अनावश्यक बन जाएँगी?


• भाग 1: “वह एक चीज क्या है जिसे मैं कर सकता हूँ ...”:


यह फोकस्ड कार्यवाही की चिनगारी सुलगा देता है। यह आपको किसी निश्चित चीज की ओर जाने के लिए विवश करती है।

 अंतिम चरण, “कर सकता हूँ,” एक अंदरूनी कमान है जो आपको वह कार्यवाही करने का निर्देश करती है जो संभव है।

 यह नहीं कि, करना चाहिए, कर सकता था या करूँगा। यह कार्यवाही कि आप “कर सकते हैं” हर बार नीयत को हरा देती है।


• भाग 2: “... जिससे इसे करने से ...”:


 यह आपसे कहता है कि एक मानक है criterion जिसे आपके उत्तर को संतुष्ट करना पड़ेगा।

 यह केवल कुछ करने और किसी निश्चित उद्देश्य (परपस) के लिए कुछ करने के बीच एक पुल है।


• भाग 3: “... दूसरी सारी चीजें आसान और अनावश्यक बन जाएँगी?”:


 यह अल्टिमेट लिवरेज टेस्ट है। यह कहता है कि जब आप यह एक चीजकरते हैं, हरेक अन्य चीज जिसे अपना लक्ष्य पाने के लिए आप कर सकते थे वह या तो कम कोशिश से करने लायक होगी या अब इसकी जरूरत भी नहीं होगी।

 यह, लिवरेज्ड चीज करते हुए और ध्यान बंटाने वाली चीजों से बचते हुए, आपका जीवन बदलने के लिए उत्तर की संभावना बढ़ा देता है।

 फोकसिंग प्रश्न आपसे आपके goal का सबसे important हिस्सा ढूंढ़ने के लिए मजबूर करता है एक बार जब आप इसे कर लेते हैं, तब आपको पता चलता है कि इसके पीछे आपके छोटे छोटे goals की एक लाइन है और वो सारे एक line में लगे है जिन्हे करते ही आप अपने main goal तक पहुँच जायेंगे।


सफलता की आदत


 आदतें बनाने में कठिन हो सकती हैं और तोड़ने में कठिन हो सकती हैं।

 मगर हर समय हम अनजाने में नई आदतें बना रहे हैं।

 यदि हम पर्याप्त लंबे समय तक, जब कोई सोचने का या काम करने का तरीका शुरू करते हैं और उसे जारी रखते हैं, तब हमने एक नई आदत बना ली है।

 हमें एक चुनाव का सामना करना पड़ता है कि हम जीवन से जो भी चाहते हैं उसे पाने वाली आदतें बनाना चाहते हैं या नहीं।

 यदि हम चाहते हैं, तब फोकसिंग प्रश्न वह सबसे शक्तिशाली सफलता की आदत है जिसे हम डाल सकते हैं।

 स्पष्ट रूप से, आप उस हर चीज के छोटे-छोटे पहलुओं का विश्लेषण करते हुए जिसे आप कर सकते थे, खुद को पागल बना सकते हैं।

 इसके बदले किसी बड़ी चीज के साथ शुरू कीजिए और देखिए कि यह आपको कहाँ ले जाती है।

 फोकसिंग प्रश्न आपको जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में आपको उस एक चीज की ओर निर्देशित कर सकता है।

 केवल अपने फोकस के क्षेत्र को डालते हुए फोकसिंग प्रश्न को रिफ्रेम कीजिए।

 आप एक टाइम फ्रेम भी शामिल कर सकते हैं — जैसे  “बिल्कुल अभी” या “इस वर्ष” अपने उत्तर को समयका एक उचित स्तर देने के लिए, या “पाँच वर्ष में” या “किसी को” बड़ी दृश्यावली का पता करने  के लिए जो आपको लक्ष्य करने लायक नतीजों की ओर संकेत करता है।

यहाँ कुछ फोकसिंग प्रश्न हैं जिन्हें आप अपने-आप से पूछ सकते हैं:

 • मेरे आध्यात्मिक जीवन के लिए : “वह एक चीज क्या है जिसे मैं दूसरों की सहायता करने के लिए कर सकता हूँ?”

• मेरे शारीरिक स्वास्थ्य के लिए : “वह एक चीज क्या है जिसे मैं अपने डायट गोल्स पाने के लिए कर सकता हूँ?”

• मेरे व्यक्तिगत जीवन के लिए : “वह एक चीज क्या है जिसे मैं अपनी कुशलता में सुधार लाने के लिए कर सकता हूँ?”

• मेरे मुख्य संबंधों के लिए : “वह एक चीज क्या है जिसे मैं अपने जीवनसाथी/पार्टनर के साथ अपने संबंधों में सुधार लाने के लिए कर सकता हूँ?”

• मेरी नौकरी के लिए : “वह एक चीज क्या है जिसे मैं यह सुनिश्चित करने के लिए कर सकता हूँ जिससे मैं अपने लक्ष्य पा लूँ?”

• मेरे व्यापार के लिए : “वह एक चीज क्या है जिसे मैं, इसलिए कर सकता हूँ कि हम अधिक कम्पिटिटिव बन जाएँ?”

• मेरे फायनैंसेज के लिए : “वह एक चीज क्या है जिसे मैं अपना नेटवर्थ बढ़ाने के लिए कर सकता हूँ?”

 आपकी उस एक चीज  को आपकी दैनिक रूटीन का हिस्सा बनाने के लिए, पहले आपको इसे समझना पड़ेगा और इस पर विश्वास करना पड़ेगा।

 यदि आप नहीं करते हैं, तब आप कार्यवाही नहीं करेंगे।

 तब आपको प्रतिदिन वह फोकसिंग प्रश्न अपने-आप से पूछने की जरूरत है।

 जब आप इसे करते हैं, तब आपकी दिशा स्पष्ट हो जाएगी।

 एक बार जब आप फोकसिंग प्रश्न को अपनी आदत बना लेते हैं, तब अपने मनचाहे नतीजे पाने के लिए आप पूरी तरह से अपनी शक्ति लगा देते हैं।

 खुद अपनी मदद करने के लिए, लिवरेज रिमाइंडर्स, जैसे कि एक चिन्ह लगाना जो कहता है, “जब तक मेरी एक चीज नहीं कर ली जाती — हरेक दूसरी चीज एक ध्यान बांटने वाली चीज है।” और सपोर्ट नियुक्त करना न भूलें — रिसर्च दिखाता है कि आपके आस-पास के लोग आप पर बहुत ज्यादा प्रभाव डालते हैं।

 यह एक आदत दूसरी कई आदतों की नीँव बन सकती है, इसलिए फोकसिंग प्रश्न का इस्तमाल करने की सफलता की आदत को जितना संभव हो सके, शक्तिशाली रूप से कार्यकारी रखना जारी रखें।  


 महान उत्तरों का पथ


 फोकसिंग प्रश्न आपकी एक चीज को किसी भी परिस्थिति में पहचानने में आपकी सहायता करेगा।

 यह स्पष्ट करता है कि अपने जीवन के बड़े क्षेत्रों में आप क्या चाहते हैं और तब अच्छी तरह बता देता है कि इसे पाने के लिए आपको क्या करना चाहिए।

 यह सरल प्रौसेस है : एक महान प्रश्न पूछिए, तब महान उत्तर को ढूँढ़ निकालिए।


 महान प्रश्न पूछिए


महान प्रश्न, महान लक्ष्यों की तरह, महान और निश्चित होते हैं।


 महान प्रश्न मैट्रिक्स पर विचार कीजिए :


 क्वाड्रैंट 1: बड़ा और निश्चित

 क्वाड्रैंट 2: बड़ा और व्यापक

 क्वाड्रैंट 3: छोटा और व्यापक

 क्वाड्रैंट 4: छोटा और निश्चित

 सेल्स बढ़ाने जैसे मुद्दे पर महान प्रश्न मैट्रिक्स का प्रयोग करते हुए, आपको निम्नलिखित ब्रेकडाउन मिलता है


 क्वाड्रैंट 4 (छोटा और निश्चित):


 इस वर्ष 5 परसेंट से सेल्स बढ़ाने के लिए मैं क्या कर सकता हूँ?

  यह एक निश्चित दिशा में आपको निशाना करता है, मगर इस प्रश्न के बारे में वास्तव में चुनौती-भरा कुछ भी नहीं है।

 अधिकतर सेल्सकर्मियों के लिए, सेल्स में 5 परसेंट की बढ़त आसानी से हो सकती है क्योंकि मार्केट आपके पक्ष में खिसक गया है।

 नीचे लक्ष्यों को असाधारण कार्यवाही की जरूरत नहीं होती, इसलिए वे बिरले ही असाधारण नतीजों की ओर ले जाते हैं।


 क्वाड्रैंट 3 (छोटा और व्यापक):


 सेल्स बढ़ाने के लिए मैं क्या कर सकता हूँ? यह वास्तव में कोई अचीवमेंट प्रश्न नहीं है।

 यह ब्रेनस्टॉर्मिंग का प्रश्न अधिक है।

 यह आपको विकल्पों को सुनने के लिए बहुत बढ़िया है परंतु आपके विकल्पों को संकरा करते हुए छोटा बनने के लिए अधिक की आवश्यकता है।

 दुर्भाग्यवश, यह उस तरह का औसत प्रश्न है जिसे अधिकतर लोग पूछते हैं और तब सोचते हैं कि क्यों उनके उत्तर असाधारण नतीजे डेलिवर नहीं करते।


 क्वाड्रैंट 2 (बड़ा और व्यापक):


 सेल्स दोगुणा करने के लिए मैं क्या कर सकता हूँ?

 यहाँ आपके पास एक बड़ा प्रश्न है, परंतु कुछ भी निश्चित नहीं।

 यह अच्छी शुरुआत है, परंतु निश्चितताओँ का अभाव है जो उत्तरों से अधिक प्रश्न छोड़ता है।

 तब भी बहुत ज्यादा विकल्प हैं, और निश्चितताओं के बिना, आप नहीं जानते कि शुरू कहाँ करना है।


क्वाड्रैंट 1 (बड़ा और निश्चित):


 छः महीनों में सेल्स दोगुणा करने के लिए मैं क्या कर सकता हूँ? अब आपके पास महान प्रश्न के सभी तत्व हैं।

 यह एक बड़ा लक्ष्य है, और यह निश्चित है।

 आप सेल्स दोगुणा कर रहे हैं, जो आसान नहीं है, और अपके पास छः महीनों की एक टाइमफ्रेम है, जो एक चुनौती है।

 आपको बड़े उत्तर की आवश्यकता होगी।

 आप जिसे संभव मानते हैं उसे खींचना पड़ेगा और समाधानों के टूलबॉक्स से बाहर झांकना पड़ेगा।  

 इसलिए यदि “छः महीनों में सेल्स दोगुणा करने के लिए मैं क्या कर सकता हूँ ?” एक महान प्रश्न है, तब इसे आप और भी शक्तिशाली कैसे बनाते हैं?

 इसे फोकसिंग प्रश्न में बदलिए: “वह एक चीज क्या है जिसे मैं छः महीने में सेल्स दोगुणा करने के लिए कर सकूँ जिससे इसे करने से, कोई भी दूसरी चीज ज्यादा आसान और अनावश्यक हो जाए?”


 एक महान उत्तर ढूंढ़ निकालिए


उत्तर तीन श्रेणियों में आते हैं : दोहरे, स्ट्रेच और संभावना।

 हाइ अचीवर्स पहले दो रास्तों को समझते हैं लेकिन उन्हें रद्द करते हैं।

 यदि असाधारण संभव है, तब वे साधारण से समझौता करना नहीं चाहते, उन्होंने एक महान प्रश्न पूछा है और सबसे बढ़िया उत्तर चाहते हैं।

 अपने उत्तर को ढूँढ़ते हुए, दूसरों के रिसर्च और अनुभव, शुरू करने के लिए सबसे अच्छी जगह हैं।

 ज्ञान से लैस हो कर आप एक बेंचमार्क स्थापित कर सकते हैं।

 स्ट्रेच अप्रोच के साथ, यह आपका मैक्सिमम था, परंतु अब यह आपका मिनिमम है।

 आप उतना ही नहीं करते, लेकिन यह पहाड़ की चोटी बन जाती है जहाँ आप यह देखने के लिए खड़े होंगे, कि यदि आप देख पाएँ कि आगे क्या आ सकता है।

 इसे ट्रेंडिंग  कहते हैं, और यह दूसरा कदम है।

 आप अगली चीज खोज रहे हैं जिसे आप कर सकते हैं, जिस दिशा में बेस्ट परफॉर्मर्स जिस दिशा में हैं, उसी दिशा में आगे बढ़ने के लिए, या, यदि जरूरत हुई, तो बिल्कुल नई दिशा में।

 चूंकि आपका उत्तर ऑरिजिनल होगा, संभवतः इसे इम्प्लिमेंट करने के लिए आपके खुद को रिइनवेंट करना पड़ेगा।

 साधारणतः एक नए उत्तर को एक नए आचरण की जरूरत होती है, इसलिए यदि कफी बड़ी सफलता के रास्ते में आप इस प्रौसेस में बदल जाऐँ तब चकित नहीं होइए।

 हमारे जीवनों में एक स्वाभाविक लय है जो उस एक चीज को लागू करने के लिए और असाधारण नतीजे अचीव करने के लिए एक सरल फॉर्मुला बन जाती है : परपस, प्रायॉरिटी और प्रोडक्टिविटी।

 सबसे अधिक प्रोडक्टिव व्यक्ति परपस से शुरु करते हैं और इसे कम्पास के समान प्रयोग करते हैं।


परपस के साथ और प्रयॉरिटी से जीवित रहिए


 हम कौन हैं और कहाँ जाना चाहते हैं निर्धारित करते हैं कि हम क्या करते हैं और क्या कर पाते हैं।

 परपस से जिया गया जीवन सबसे शक्तिशाली होता है – और सबसे खुशहाल होता है।

 फुलफिल्मेंट के रास्ते में खुशी मिल जाती है।

 हम सभी खुश होना चाहते हैं, मगर इसे पाने का सबसे बढ़िया उपाय इसकी खोज करना नहीं है।

 बनी रहने वाली खुशी हासिल करने के लिए सबसे सुनिश्चित रास्ता उस समय प्रकट होता है जब आप अपने जीवन को किसी ज्यादा बड़ी चीज के लिए बनाते हैं, जब आप अपनी रोजाना की कार्यवाहियों में मायने आर परपस लाते हैं।


परपस की शक्ति


 परपस शक्ति के लिए सबसे सीधा रास्ता है और व्यक्तिगत बल का अंतिम source स्रोत है – दृढ़ निश्चय की शक्ति और डटे रहने की शक्ति।

 असाधारण नतीजों का नुस्खा है उसे जानना जो आपके लिए महत्वपूर्ण है और इसीकी सीध में actions/कार्यवाहियों करते रहना।  

 कोई चीज आप क्यों कर रहे हैं इसे जानना, जब चीजें खराब होने लगती है तब इसकी (जिसकी) जरूरत होती है – वह ज्यादा पसीना बहाने के लिए इन्सपिरेशन और मोटिवेशन देता है।

 आपको क्या आगे बढ़ाता है इसे पूछते हुए अपना परपस ढूंढ़ निकालिए।

 परपस ही वह कारण है जिससे आप जीवन के बारे में एक्साइटेड रहते हैं।

 एक दिशा चुन लीजिए, उस रास्ते पर चलना शुरू कीजिए, और देखिए कि यह आपको पसंद है या नहीं।

 समय स्पष्टता लाता है, और यदि आपको लगता है कि आप इसे पसंद नहीं करते, तब आप हमेशा  अपना मन बदल सकते हैं।


अब के लिए लक्ष्य स्थापित करना


 अपने-आप से बचाने के लिए, सही प्रायॉरिटी सेट करने के लिए और अपने परपस को पाने के और अपने purpose के पास बढ़ने के लिए हमें एक सरल उपाय सोचने की जरूरत है।

 अब के लिए लक्ष्य स्थापित करना आपको वहाँ ले जाएगा।

 अब के लिए लक्ष्य स्थापित करने के फिल्टर से होकर सोचते हुए, आप भविष्य के लिए एक लक्ष्य स्थापित करते हैं और तब इस बात पर आते हैं कि ठीक इस समय आपको क्या करते रहना चाहिए।

 अब के लिए लक्ष्य-स्थापना को समझना और इसे पूरा करना आपके दिमाग को ट्रेन करता है कि कैसे सोचें, समय के साथ एक लक्ष्य को दूसरे के साथ कैसे कनेक्ट करें, जब तक आप सबसे महत्वपूर्ण चीज जान नहीं लेते कि ठीक अभी आपको क्या करना चाहिए। आप सीख रहे हैं कि कैसे बड़ा सोचें — परंतु, गो स्मॉल।


प्रोडक्टिविटी के लिए जीवित रहिए


 सबसे अधिक सफल व्यक्ति सबसे अधिक प्रोडक्टिव व्यक्ति हैं।

 प्रोडक्टिव व्यक्ति चीजें complete कर लेते हैं, बेहतर नतीजे अचीव करते हैं और इसलिए करते हैं क्योंकि वे अपनी टॉप प्रायॉरिटी, अपनी एक चीज पर अधिक से अधिक समय प्रोडक्टिव बने रहने में समर्पित करते हैं।

 वे अपनी एक चीज को टाइम ब्लौक कर लेते हैं और तब उन टाइम ब्लौक्स की रक्षा पूरी ईमानदारी के साथ करते हैं।


टाइम ब्लॉकिंग


 अधिकतर लोग सोचते हैं कि सफल होने के लिए कभी भी समय काफी नहीं होता, परंतु यदि इसे आप ब्लॉक कर लें तब होता है।

 टाइम ब्लॉकिंग समय देखने और इसका उपयोग करने के लिए बहुत रिजल्ट-ऑरिएंटेड उपाय  है।

 यह इसे सुनिश्चित करने के लिए एक उपाय है, कि जिसे करना है वह कर दिया जाता है।

 इसलिए अपने कैलेंडर पर जाइए और अपनी एक चीज करने के लिए  आपको जितने समय की जरूरत है उसे ब्लॉक कर लीजिए।

 यह एक वन-टाइम एक चीज है, उचित घंटे और दिन ब्लॉक कर लीजिए।

 यदि यह एक नियमित चीज है तब हर दिन कीजिए जिससे यह एक आदत बन जाए।

 दूसरी सारी चीजें — पेपर्स, ई-मेल, कॉल्स, — सबको इंतजार करना पड़ेगा।

 जब आप टाइम ब्लॉक करते हैं, तब आप सबसे प्रोडक्टिव संभव दिन की रचना इस तरह कर रहे हैं जो आपके बाकी जीवन में हर दिन दोहराए जाने लायक है।

 यदि एक कार्यवाही/action से ज्यादा/गैर-समानुपाती नतीजे आते हैं, तब आपको उस एक action/कार्यवाही को ज्यादा/गैर-समानुपाती समय देना चाहिए।

  प्रत्येक और हर दिन अपने ब्लॉक्ड टाइम के लिए फोकसिंग प्रश्न पूछिए : “आज, वह एक चीज क्या है जिसे मैं अपनी एक चीज के लिए इस तरह कर सकता हूं, जिससे इसे करने से, हर दूसरी चीज अधिक आसान या अनावश्यक हो जाएगी?”

 जब आपको उत्तर मिल जाता है, तब आप सबसे लिवरेज्ड काम के लिए सबसे लिवरेज्ड कार्यवाही कर रहे होंगे।

 इसी तरह नतीजे असाधारण बन जाते हैं। जब आपने उस दिन के लिए अपनी एक चीज कर ली है, तब उस दिन का बाकी समय, हर दूसरी चीज करने में लगा सकते हैं।

 केवल अपनी अगली प्रायॉरिटी की पहचान करने के लिए फोकसिंग प्रश्न का प्रयोग कीजिए, और उस कार्य को उतना समय दीजिए जिसके वह लायक है।

 जब तक आपका वर्क-डे समाप्त नहीं हो जाता, इस अप्रोच को दोहराइए। “हर दूसरी चीज” कर लेना रात में आपको बेहतर नींद लेने में मदद कर सकती है, पर इससे आप successful नहीं बनेंगे।


नतीजे पाने के लिए, इन तीन चीजों को निम्नलिखित क्रम में टाइम ब्लॉक कर लीजिए :

1. अपनी छुट्टी के समय को ब्लॉक कीजिए। सफल व्यक्ति अपने वर्ष की शुरुआत अपनी छुट्टी के समय की योजना बनाने के लिए समय लेते हुए करते हैं, क्योंकि वे जानते हैं कि उन्हें इसकी जरूरत होगी और वे इसे अफोर्ड करने के काबिल होंगे। विश्राम करना उतना ही जरूरी है, जितना काम करना।

2. अपनी एक चीज को टाइम ब्लॉक कीजिए। हाँ, आपकी एक चीज दूसरे नंबर पर आती है। क्यों? क्योंकि यदि आप अपने व्यक्तिगत “मनोरंजन” के समय की अनदेखी करते हैं तब आप अपने प्रोफेशनल जीवन में खुशी बनाए नहीं रख सकते।

 इसे कामयाब करने की कुंजी है, अपने दिन में जितना पहले हो सके टाइम ब्लॉक कर लेना। कम से कम चार घंटे ब्लॉक करने का लक्ष्य रखिए। यदि आप ज्यादा कर सकते हैं, तब कीजिए।  

 3. अपनी योजना बनाने के समय को टाइम ब्लॉक कीजिए। यह तब होता है जब आप इस पर चिंतन करते हैं कि  आप कहाँ हैं और कहाँ होना चाहते हैं।

 हरेक हफ्ते, एक घंटा अपने वार्षिक और मासिक लक्ष्यों को रिव्यू करने के लिए ब्लॉक कर लीजिए।

 पूछिए, “इस आधार पर कि इस समय मैं कहाँ हूँ, वह एक चीज क्या है जिसे मुझे अपने मासिक लक्ष्य में सही रास्ते पर रहने के लिए, और मेरे मासिक लक्ष्य को वार्षिक लक्ष्य के साथ सही रास्ते पर रखने के लिए करने की जरूरत है?” 


अपने टाइम ब्लॉक की रक्षा कीजिए


 जिससे टाइम ब्लॉक्स वास्तव में टाइम ब्लॉक करें, उनकी रक्षा करनी चाहिए इसलिए जब कोई आपको डबल-बुक करने की कोशिश करता है, तब केवल कह दीजिए, “मुझे दुःख है, उस समय पहले से ही मेरी एक अप्वाइंटमेंट है,” और विकल्प प्रस्तुत कीजिए।  


तीन कमिटमेंट्स


 टाइम ब्लॉकिंग के जरिए असाधारण नतीजे अचीव करने के लिए तीन कमिटमेंट्स की जरूरत होती है।

 पहला, आप उस व्यक्ति की मानसिकता अपनानी पड़ेगी जो mastery achieve करने की मांग करता है। mastery अपने लिए सबसे बढ़िया होने के लिए एक कमिटमेंट है।

 दूसरा, आपको चीजें करने के लिए लगातार सबसे बढ़िया उपाय ढूँढ़ने पड़ेंगे।

 और अंतिम, अपनी एक चीज अचीव करने के लिए जो आप कर सकते हैं वह हर चीज करने के लिए आपको सिर्फ खुद को ही ज़िम्मेदार समझना पड़ेगा।


1. Mastery के रास्ते पर चलिए


जब आप mastery/प्रवीणता को एक डिस्टिनेशन, एक रास्ते के रूप में देखते हैं, यह पहुँचने लायक और पाने लायक लगना शुरू हो जाता है।

 mastery/प्रवीणता के एक हेल्दी व्यू का अर्थ है अपने सबसे महत्वपूर्ण काम पर सबसे अच्छा होने के लिए जितना आप हो सकते हैं, आपके पास जो सबसे बढिया है उसे न्यौछावर करना।

 यह रास्ता उस ऐप्रेंटिस का है जो बेहतर अनुभव और निपुणता के लिए, बुनियादी चीजों को सीखने और फिर से सीखने की कभी भी समाप्त न होने वाली यात्रा पर है।


2. “E” से “P” की ओर बढ़िए


 किसी चीज में प्रवीण होन का रास्ता केवल आप जितना कर सकते हैं उतना सबसे बढ़िया कर रहे हैं का कम्बिनेशन ही नहीं है, बल्कि उतना बढ़िया करना भी है जितना किया जा सकता है।

 इसे “E”—  आंत्रप्रनरीअल अप्रोच — से “P” — परपसफुल अप्रोच की ओर बढ़ना कहा जाता है।

 हमारा स्वाभाविक अप्रोच आंत्रप्रनरीअल; यह किसी उस चीज को देखना है जिसे हम करना चाहते हैं या जिसे किए जाने की जरूरत है और अपनी पूरी ऊर्जा और स्वाभाविक क्षमताओं के साथ इसे करने के लिए उत्साह के साथ दौड़ पड़ना है।

 फिर भी हमारी स्वाभाविक क्षमताओं के अचीवमेंट की एक सीमा होती है, प्रोडक्टिविटी और सफलता का एक level/एक स्तर होता है जो अंत में समाप्त हो जाता है।

 अत्यंत प्रोडक्टिव व्यक्ति अपने स्वाभाविक अप्रोच की सीमाओं को अपनी सफलता पर आखिरी शब्द के रूप में स्वीकार नहीं करते।

 जब आप “P” को limitation/सीमाबद्धता की उसी सीलिंग पर लाते हैं, तब चीजें अलग दिखाई देती हैं।

 परपसफुल अप्रोच कहता है,  “मैं अब भी विकास करने के लिए कमिटेड हूँ, तब मेरे विकल्प क्या हैं?” तब आप फोकसिंग प्रश्न का इस्तमाल उन विकल्पों को अगली चीज के लिए संकुचित कर सकते हैं जिसे आपको करना चाहिए।

 यह नए मॉडल का अनुसरण करना हो सकता है, नई प्रणाली/system अपनाना हो सकता है, या दोनों हो सकते हैं।


3. जिम्मेदारी के चक्र में जीवित रहिए


 किसी दूसरे को नहीं बल्कि खुद को जिम्मेदार ठहराते हुए, अपने नतीजों की पूरी ज़िम्मेदारी ले लेना, सबसे शक्तिशाली चीज है जिसे अपनी सफलता को ड्राइव करने के लिए आप कर सकते हैं।

 इसलिए, संभवतः इन तीनों कमिटमेंट्स में जिम्मेदारी सबसे महत्वपूर्ण है।

 इसके बिना, जैसे ही आप किसी चुनौती का सामना करेंगे, प्रवीणता /mastery के पथ पर आपकी यात्रा रुक जाएगी, और आप समझ नहीं पाएंगे कि अचीवमेंट की सीलिंग्स को कैसे तोड़ कर निकले जो आपके रास्ते में आ गयी है।

 जिम्मेदार व्यक्ति धक्कों को सह लेते हैं और चलते रहते हैं; वे रिजल्ट-ओरिएंटेड हैं और कभी भी उन कार्यवाहियों, कुशलता के स्तरों, मॉडल्स, प्रणालियों या संबंधों का बचाव नहीं करते, जो काम नहीं करते।

 जब जीवन होता है, तब या तो आप जिम्मेदार हो सकते हैं, या गैर-जिम्मेदार।

 जब जीवन होता है, तब जिम्मेदार व्यक्ति वास्तविकता की खोज करता है, स्वीकार करता है, अपनाता है, समाधान ढूँढ़ निकालता है और इसके साथ आगे बढ़ता है।

 गैर-जिम्मेदार व्यक्ति वास्तविकता से बचता है, लड़ता है, दोष देता है, व्यक्तिगत बहाने बनाता है, और इंतजार करता है तथा आशा करता है।


चार चोर


 हमारे सबसे अच्छे इरादे नष्ट हो सकते हैं। ठीक वैसे ही जैसे छः झूठ हैं जो आपको धोखा देंगे और भटका देंगे, वैसे ही चार चोर हैं जो आपको रोक लेंगे और आपसे आपकी प्रोडक्टिविटी लूट लेंगे।


1. “नहीं” कहने में अक्षमता:


 जब आप फोकस करने की कोशिश कर रहे होते हैं तब विचलित हो जाना एक बात है; आपने अभी शुरू भी नहीं किया है तब हाइजैक्ड हो जाना एक और बात है।

 आपने जिसके लिए हाँ कहा है उसकी रक्षा करने तथा प्रोडक्टिव बने रहने का उपाय है उस किसी भी व्यक्ति को ना कहना, जो आपको पटरी से उतार सकता था। इसलिए यहाँ एक सरल नियम है :
आपके विचार करने के लिए निवेदन को, आपकी एक चीज से कनेक्टेड होना पड़ेगा।


2. गड़बड़ी का भय:


 जब आप केवल एक चीज पर फोकस करते हैं, तब झंझट लाजमी है जब आप अपने सबसे महत्वपूर्ण काम तराशते रहते हैं. तब दुनिया बैठी रह कर इंतजार नहीं करती। आपके लिए इस बात से लड़ने के बजाय इसे स्वीकार करना महत्वपूर्ण है।


3. खराब स्वास्थ्य की आदतें:


 व्यक्तिगत ऊर्जा की मिसमैनेजमेंट प्रोडक्टिविटी का खामोश चोर है। यह व्यायाम की कुंजी है, मेडिटेशन के लिए कुछ समय निकालिए, और सुनिश्चित कीजिए कि आप आठ घंटे नींद लेते हैं। बहुत ज्यादा काम लेने की कोशिश करते हुए अपने स्वास्थ्य का बलिदान मत दीजिए।


4. वातावरण आपके लक्ष्यों की सहायता नहीं करता:


 आपका वातावरण केवल वही है जिसे आप प्रतिदिन देखते हैं और जिसे अनुभव करते हैं। आपके जीवन में सही लोग/व्यक्ति और आपके आस-पास सही वातावरण आपको अपनी एक चीज पाने की कोशिशों में सहायता करेंगे।


यात्रा


 सफल होना जितना संतोषदायक होता है, उतना ही फुलफिलिंग यात्रा करना महसूस होता है, वास्तव में रोजाना उठ कर आपकी उस एक चीज पर कार्यवाही करने के लिए इससे भी बेहतर कारण है : कोई अफसोस नहीं।

 किया होता, कर सकते थे, करना चाहिए था जमा करने के लिए जीवन बहुत छोटा है।

 सफलता एक अंदरुनी काम है।

 जब आप खुद को संभाल लेते हैं, तब दुनिया अपनी जगह पर आ जाती है।

 आप जानते हैं कि क्या करना है।

 आप जानते हैं कि इसे कैसे करना है। आपका अगला कदम सरल है। आप पहले डोमिनो (ईँट) हैं।





Don't Miss -



 तो दोस्तों आपको आज का हमारा ये article The One Thing Complete Book Review in Hindi कैसा लगा नीचे कमेंट करके जरूर बताये और इस The One Thing Complete Book Review in Hindi को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करना न भूले।


आपका बहुमूल्य समय देने के लिए दिल से धन्यवाद,

Wish You All The Very Best.

Comments

Popular posts from this blog

SEO क्या है और कैसे करते है ? Best Way to Improve Your SEO Mastery in Hindi 2020

Meditation in Hindi - मैडिटेशन कैसे करें (सही और सरल तरीका)

Top 16 Chanakya Niti in Hindi - Best Unique Quotes 2019

Popular posts from this blog

Meditation in Hindi - मैडिटेशन कैसे करें (सही और सरल तरीका)

SEO क्या है और कैसे करते है ? Best Way to Improve Your SEO Mastery in Hindi 2020

Benefits of Meditation in Hindi - मैडिटेशन(ध्यान) क्या है और इसके क्या क्या फायदे है

Quiet The Power of Introverts Book Summary in Hindi - इंट्रोवर्टस होने से आपका फायदा ये हैं

अपने Body को Detox कैसे करें - A Simple Step-by-Step Detox Health Tips in Hindi | Thoughtinhindi.com