Complete Book Summary in Hindi - ReWork | Thoughtinhindi.com

Book Summary in Hindi - ReWork: Change the Way You Work Forever. Hello दोस्तों, ये है Jason Fried की best selling बुक ReWork: Change the Way You Work Forever बुक की summary.

 क्या कभी आपको अच्छा बिजनेस आइडिया आया लेकिन उसे लागू करने में आप झिझक कर रहे थे?

 क्या आप इसके नॉलेज ना होने पर और इस नए बिज़नेस में कितना समय देना पड़ेगा इस बात से डरते थे? क्या आपको मोटिवेशन तब मिली जब आपको पता चला कि आपके पास बहुत कॉम्पीटीशन करने की ताकत है?

 क्या लगता है, हर व्यक्ति जो एक बिज़नेस आईडिया के साथ आता है उसे इसका सामना करना पड़ता है। जेसन फ्राइड और डेविड हेनीमियर के पास एक अच्छा आईडिया था, और वे इसे लागू करने से डरते नहीं थे। और उन्होंने अपने अनुभव से जो कुछ सीखा, वह थोड़ा आश्चर्यचकित करने वाला है - आपको लंबे समय तक काम करने, बिज़नेस मीटिंग और दूसरे बोरिंग काम से डरना नहीं है।

 जैसा कि आप इस सारांश(summary) में देखेंगे, आपको निवेशकों और पार्टनर्स को ढूढ़ने की आवश्यकता नहीं है (कम से कम शुरुआत में नहीं)। बिल्कुल इसके विपरीत। फ्राइड और हेनीमियर के अनुसार, इस तरह की चीजें वास्तव में आपके बिज़नेस में सफल होने की संभावनाओं में बाधा डालती हैं। और यह दो लोग कोई रैंडम व्यक्ति नहीं है, जिन्होंने एक किताब लिखने और पैसा कमाने का फैसला किया है। उन्होंने कुछ साल पहले अपनी रेप्युटेशन साबित की जब उन्होंने एक प्रसिद्ध प्रोग्रामिंग भाषा, रूबी ऑन रेल्स बनाई। आपने इसके बारे में कभी नहीं सुना होगा, लेकिन कुछ बेहद लोकप्रिय ऐप और शोपिफाई और ट्विटर जैसी साइटें शायद आज मौजूद नहीं होती अगर यह प्रोग्रामिंग भाषा नहीं होती।

 क्या आप जानना चाहते हैं कि मल्टी-मिलियन कंपनी बनाने से REWORK के लेखकों ने क्या सीखा? 

 तो इस किताब के साथ चिपके रहे हम आपको महत्वपूर्ण आईडिया के बारे में बताएँगे आपका आइडिया किसी चीज से जुड़ा होना चाहिए जिसके लिए आप लड़ोगे विशेष रूप से, केवल बिज़नेस इसलिए शुरू न करें क्योंकि आप बहुत सारा पैसा बनाना चाहते हैं।


Book Review in Hindi - ReWork Change the Way You Work Forever


Book Summary in Hindi - ReWork: Change the Way You Work Forever


 ज़रूर, कभी-कभी इस लालची रुख से भी सफलता मिलती है, लेकिन बहुत बार यह नुक्सान पहुँचाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि यदि आप केवल पैसे पर ध्यान देते हैं, तो आप कभी-कभी ज्यादा पैसा बचाने के चक्कर में अपनी कंपनी के आस-पास के जरुरी कामो पर लापरवाही करोगे।

और यह लापरवाही लंबे समय में (हर एंगल से) बहुत नुकसान पहुँचाएगी।

 मान लीजिए कि आपने एक छोटी सी कंपनी शुरू की है जो एप्लिकेशन बनाती है। आपके पास केवल कुछ कर्मचारी हैं, लेकिन, निश्चित रूप से, आप भविष्य(future) में कहीं न कहीं इसे बढ़ाना चाहते हैं।

 अब, यदि आपका ध्यान सिर्फ पैसा कमाना है, तो आप शुरुआत से ही इसे फैलाना शुरू कर दोगे और अधिक से अधिक एम्प्लॉई को हायर करोगे। बहुत बार, इसका मतलब है कि आप बहुत कम सैलरी दोगे। और अनुमान लगाएं कि जब लोग अपने काम के लिए कम पैसे लेंगे तो क्या होता है? आप सही हैं, वे कम काम करेंगे, यह इतना सिंपल है।

 दूसरी ओर, आप एक अलग दृष्टिकोण(vision) अपना सकते हैं। केवल पैसे पर ध्यान देने के बजाय, आप कुछ ऐसा कह सकते हैं: “एक मिनट रुको। मेरी कंपनी के पास एक प्रोडक्ट है। मैं चाहता हूं कि यह प्रोडक्ट सबसे अच्छा साबित हो। पैसा मेरी कंपनी की कवालिटी का केवल एक बायप्रोडक्ट है। यदि अच्छे एप्लिकेशन बनाने का मतलब है कि मैं अपने एम्प्लॉय को ज़यादा पैसे देना है, तो मैं ऐसा करूंगा।” यह, निश्चित रूप से, कई उदाहरणों में से एक है। आप बिज़नेस के सभी क्षेत्रों में इस तरह की सोच को लागू कर सकते हैं: फ़ार्मास्यूटिक्स, गेमिंग और प्रोग्रामिंग, डिज़ाइन… अनगिनत ऑप्शन हैं।

 हम यह कहना नहीं चाहते हैं कि पैसा एक प्रेरक नहीं है। लेकिन पैसा सबसे महत्वपूर्ण चीज नहीं है। क्या आपको लगता है कि बिल गेट्स तब भी दुनिया के सबसे अमीर आदमी बनना चाहते थे जब उन्होंने खुद का बिज़नेस शुरू ही किया था? शायद नहीं। वह बस एक युवा प्रोग्रामर था, जिसे वह करना पसंद था और जो सबसे अच्छा प्रोडक्ट बनाना चाहता था। और कुछ 30 वर्षों के बाद, दुनिया की सबसे मजबूत कंपनियों में से एक को लीड कर रहे है। और बिल गेट्स के साथ, हम एक और महत्वपूर्ण विषय पर आते हैं। जो लोग केवल लाभ के लिए बिज़नेस में प्रवेश करते हैं, वे “सफल” होते ही बेहद शक्तिसाली और फैंसी बन जाते हैं। बिल गेट्स के साथ ऐसा नहीं था।

 आप उसे किसी सनसनीखेज मैगज़ीन के पीले पन्नों पर नहीं देखेंगे। वह अपने बच्चों के साथ भी ऐसे ही है। उदाहरण के लिए, बिल गेट्स अपने बच्चों के टेक्नोलॉजी के उपयोग के बारे में बहुत सावधान हैं। वह जानते है कि पैसा कमाना कितना मुश्किल है, और वह उनका अच्छे से पालन-पोषण करना चाहता है, जिन्हें असली चीजों का पता हो। और आप स्वयं, यदि आप वास्तव में सफल होना चाहते हैं, तो इस तरह से कुछ करने का प्रयास करना चाहिए। निष्कर्ष निकालने के लिए, आप जिस चीज़ से प्यार करते हैं, उस पर ध्यान दें। यह उतना कॉम्प्लिकेटेड नहीं है।

 बड़ी कॉर्पोरेट मार्केटिंग छोटी ईमानदार कंपनियों के लिए नहीं है, पहले चेप्टर में, हमने कहा कि पैसे कमाने से ज्यादा महत्वपूर्ण क्वालिटी फोकस्ड कंपनी बनाना है।

 यहां हम उस दिशा में जाते रहेंगे। यदि आप इसको फॉलो करते हैं, तो सबसे महत्वपूर्ण सलाह जो “rework”; में मिल सकती है, आप स्वाभाविक रूप से इस एक का पालन करेंगे: usual (झूठी) marketing strategies के बारे में भूल जाएं। यदि आप वास्तव में आप जिससे प्यार करते हैं उस पर ध्यान केंद्रित करते हैं, यदि आप अपनी चीज के लिए लड़ने के लिए वास्तव में तैयार हैं, तो आपको बड़े मार्केटिंग की आवश्यकता नहीं है। निश्चित रूप से, आपकी कंपनी का विकास शायद थोड़ा धीमा होगा, लेकिन आप अपना सारा ध्यान उन बातों पर केंद्रित कर पाएंगे जो matter करती है ना कि उन मामूली मार्केटिंग चीजो में जिन पर सभी लोग ध्यान केंद्रित करते हैं।

 आइए अपने खुद के अनुभव से शुरू करें| आपने कितनी बार टीवी विज्ञापन देखा है जिसमे कहते है: “इस हेयर प्रोडक्ट को खरीदें! यह आपके बालों को पहले से कहीं ज्यादा खूबसूरत बना देगा! उस सहकर्मी को याद करें जो आपको नजरअंदाज करता है? अब उसे आपको नोटिस करना होगा क्योंकि आपके बाल बेहद खूबसूरत होंगे और अच्छी महक भी आएंगे।” कहने की जरूरत नहीं है कि हमने पूरी तरह से realistic होने की कोशिश नहीं की है, लेकिन आपको इसका अंदाजा है। जब आप ऐसा कुछ सुनते हैं, तो आप तुरंत जान जाते हैं कि विज्ञापन झूठ बोल रहा है। विज्ञापन और मार्केटिंग का पूरा उद्देश्य आपको कुछ खरीदने के लिए दबाव देना है। कहानी का अंत। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि उन्हें आपको समझाने के लिए झूठ बोलना पड़े।

 आप इस तरह की मार्केटिंग का सहारा नहीं लेना चाहते हैं, खासकर अगर आप कुछ ऐसी चीज बेचने की कोशिश कर रहे हैं जिसमें कुछ क़्वालिटी है। बेशक, हम यह नहीं कहना चाहते हैं कि आपको पूरी तरह से मार्केटिंग को नजरअंदाज करना होगा। मार्केटिंग जरुरी है, लेकिन यह भी जरुरी नहीं है कि इस बेईमानी के खेल में बहुत फंसें। उदाहरण के लिए, कुछ विज्ञापन बनाने के बजाय जिन्हें हम सभी एक हज़ार से अधिक बार देख चुके हैं, कुछ ऐसा बनाएं जो सबसे अलग हो, कुछ असाधारण हो।

 उदाहरण के लिए, कुछ क्रिसमस-थीम वाले विज्ञापन बनाने के बजाय, आप अपना विज्ञापन tropical environment में बना सकते हैं। इसके अलावा, कोका-कोला ने पहले ही अनगिनत टीवी विज्ञापनों के साथ क्रिसमस को monetize कर दिया है। इसका मतलब है कि कोका-कोला के लिए क्रिसमस वाली विज्ञापन प्रॉफिटेबल है, और आपके लिए नहीं। इसलिए, मूल(simple??) बने रहें, और मार्केटिंग पर ध्यान केंद्रित करने के बजाय, एक ऐसा प्रोडक्ट बनाने की कोसिस करें जो इतना अच्छा हो कि उसे मार्केटिंग की भी आवश्यकता न हो।

एक वर्कहोलिक(काम में डूबा हुआ) और एक प्रोडक्टिव व्यक्ति दो कम्पलीट चीज़ है।

 हम एक ऐसे समाज में रहते हैं जो मूल्यों पर काम करता है। ऐसे समाज में, हर समय काम में पूरी तरह से डूब जाना और दुनिया की दूसरी सभी महत्वपूर्ण चीजों को भूलना आसान है। इससे भी जरुरी बात, यदि आप अपने आप को लंबे समय तक काम करने के लिए मजबूर करते हैं, तो आप लेस प्रोडक्टिव हो जाएंगे। इसके बजाय, आप जितना चाहें उतना काम करें। इसी तरह, दूसरों से लंबे समय तक काम करने की मांग न करें। ऐसा करने से, आपके एम्प्लोई आपका सम्मान करेंगे, क्योंकि वे देखेंगे कि आप उन्हें इंसान के रूप में मानते हैं, न कि कैस-मशीनों के रूप में।

 पश्चिम के लोग इस बारे में भी डींग मारते हैं कि वे कितना काम करते हैं और पिछले हफ़्ते उन्होंने कितने घंटे काम किया है। यह निश्चित रूप से ठीक है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हर किसी को वर्कहॉलिक (काम में डूबे रहने वाला) होना चाहिए। काम में डूबे रहने वाले व्यक्ति विशेष रूप से अपने काम के बारे में चिंतित हैं। वे एक ही समय में परफेक्शनिस्ट भी हैं। यह एक डेडली कॉम्बिनेशन है क्योंकि इसका मतलब है कि वास्तव में कुछ भी नहीं किया जा सकता है। आइए एक रियल लाइफ example ले।

 मार्क एक अकाउंटिंग फर्म में काम कर रहे थे। अपने पूरे जीवन के दौरान, उन्हें अपने जिम्मेदारियों को पूरा करने का जुनून था- पहले स्कूल में और अब अपने काम पर। परिणामस्वरूप, थोड़े से काम तलने के मामूली हिंट पर भी वह बेहद बेचैन हो जाता था। जब भी उसे एहसास हुआ कि उसे काम खत्म करने में थोड़ा अधिक समय लगेगा, तो वह इतनी टेंशन में आ गया कि उसने

 काम पूरा करने के लिए सब कुछ अनदेखा कर दिया। उसने खाना,सोना और बाकी नार्मल एक्टिविटीज नहीं की। परिणामस्वरूप, वह लंबे समय के लिए बिमार हो गया, और वह उस काम को भी करने के लायक नहीं रहा जो इकट्ठा हो गया था।

 मार्क एक परफेक्शनिस्ट भी थे। कुछ भी अच्छा नहीं था। वह हमेशा कुछ गलती ढूंढता जिन्हें ठीक करने की जरूरत होती। और जब वह गलती ठीक हो जाती तो वह दूसरी गलती को ढूंढता और ऐसा करते रहता। कहने की जरूरत नहीं है, यह उसके लिए उतना ही तनावपूर्णथा जितना कि उसके आसपास के दुसरे व्यक्तियों के लिए, जो परफेक्शनिस्ट नहीं थे। इसलिए, न केवल मार्क ने खुद को रोका, बल्कि उन्होंने अपने सहयोगियों को भी निराश किया। इसका मतलब यह नहीं है कि आपको सभी गलतियों को छोड़ देना चाहिए। लेकिन, क्या आवश्यक है इस पर विचार करने की आवश्यकता है ना कि छोटी गलतियों पर।

 ऐसा करने के बजाय, तब तक काम करने की कोशिश करें जब तक यह आपको सूट करे। एक efficient worker बनने में सबसे जरूरी चीज है कुछ घंटों लगातार काम करना। जब आप वास्तव में किसी चीज़ पर ध्यान लगते हैं, तो आप फेसबुक मैसेज, इंस्टाग्राम पोस्ट और दूसरे disturbance से परेशान नहीं होना चाहते। लेकिन जिस दुनिया में हम रहते हैं, इस तरह की चीजों से खुद को अलग करना बहुत मुश्किल है- यही वजह है कि आपको इसके लिए कड़ी मेहनत करनी होगी,

 खासकर तब जब आप हर 5 मिनट में अपने सोशल नेटवर्क को check करने के आदी हो गए हो।

 यह शायद उन चीजों में से एक है, जिसमे जेसन फ्राइड और डेविड हेनीमियर ने सबसे अधिक जोर दिया-वे प्रोग्रामर हैं, और वे अफ्फोर्ड नहीं कर सकते थे कि बेकार कि जानकारी से उनका समय बर्वाद हो। यदि आप काम करते वक्त अपने सोशल मीडिया का use कम करना चाहते हैं, तो बस फोन बंद कर दें, या कम से कम इंटरनेट बंद कर दें। अन्य तकनीकें भी हैं- उदाहरण के लिए, आप अपने फोन को कार्यालय में कहीं रख सकते हैं जहां से फ़ोन use करना मुश्किल हो, यही कारण है कि आप शायद ही कभी जा पाएंगे और फ़ोन ले पाएंगे। बेशक, तरीके और भी हैं लेकिन जो आपको सबसे अधिक सूट करता है आप उसे ढूंढे।

 अगली चीज़ जो productivity के लिए बहुत खराब है, vo hai लंबी, बेकार की स्टाफ मीटिंग। फ्राइड और हेनीमियर को इस टाइप की मीटिंग से नफरत थी, और यहां कारण है- 10 लोग एक मीटिंग में हिस्सा लेते हैं जो केवल एक घंटे तक चलती है। इसका मतलब यह है कि 10 घंटे के focussed काम को कड़ी मेहनत के अलावा किसी और चीज पर खर्च किया गया है। बेशक, मीटिंगे हमेशा खराब नहीं होती हैं- कुछ महत्वपूर्ण निर्णय होते हैं जिन्हें बिना किसी मीटिंग के आयोजन के नहीं किया जा सकता है - लेकिन आपको बहुत सावधानी बरतने की ज़रूरत है कि आप इसे दूर तक ना ले जाए। कई तरीके हैं जिनसे आप मीटिंग को productivity के रास्ते में आने से रोक सकते हैं - बस मीटिंग की शुरुआत में एक टाइमर सेट करें। जब समय खत्म हो जाएगा, तो मीटिंग भी।

 इतना ही आसान। इसके अलावा, आमतौर पर employers पहली बार इन मीटिंग को पसंद नहीं करते हैं। जो लोग शर्मीले होते हैं वह बहुत सारे लोगों के सामने बोलना पसंद नहीं करेंगे क्योंकि यह उनकी चीज नहीं है। यही कारण है कि आपको यह नहीं सोचना चाहिए कि मीटिंग के दौरान सब कुछ organized होता है - शर्मीले लोगों के साथ, आमने सामने बातचीत हमेशा बेहतर होती है। इस तरह कि बातचीत में उन्हें और पीछे रखा जा सकता है जिससे वह शायद बेहतर सुझाव दे पाएंगे और आखिरकार, यह उनके लिए बहुत कम स्ट्रेस वाला होगा।

आपको अपना बिज़नेस शुरू करने के लिए जितना सोचते हो उससे कम की जरूरत होती है।

 आज के लोग फ्यूचर को लेकर बेहद सतर्क हैं - वे अपना समय और पैसा किसी ऐसी चीज में नहीं लगाते, जब तक कि उन्हें पूरी तरह से यकीन नहीं हो जाता कि वह काम उनके लिए फायदेमंद होगा। यही कारण है कि बहुत से लोग कभी भी अपने बिज़नेस आईडिया को विकसित नहीं कर पाते है। आज की दुनिया आपको ध्यान से सब कुछ तैयार करने, 10 साल आगे का प्लान बनाने, investor को इकट्ठा करने आदि के बारे में सिखाती है। "Rework" में आप सीखेंगे कि ये सभी आपके बिज़नेस शुरू न करने के लिए बहाने हैं।

 मान लीजिए कि आपको अपने ही शहर में एक वियतनामी(simple??) रेस्तरां खोलने का आईडिया आया है। आप वियतनामी खाना पसंद करते हैं और इसे पकाने का आनंद लेते हैं और लोगों को खाली प्लेटें लौटाते हुए देखते हैं। स्वाभाविक रूप से, आप विस्तार करना चाहेंगे। हालाँकि, तुरंत आपके सामने कई अड़चनें आती हैं: कौन सी जगह पर खोले?; कॉम्पेटिशन कितना कड़ा होगा; आपका 5 साल का प्लान क्या है ?; कुछ समय बाद, आप शायद सब कुछ छोड़ देंगे और अपने कम्फर्ट ज़ोन में बैठ जाएंगे। फ्राइड और हेनीमियर आपको जो सिखाते हैं वह बस यह है कि वही करना है जिससे आप प्यार करते हैं।

 बस रेस्तरां खोलें और देखें कि यह कहाँ जा रहा है। एक रेस्तरां को लीड करने के प्रोसेस में, आप कुछ महत्वपूर्ण बदलाव करने में सफल होंगे जो आपको सफलता की ओर ले जाएगा। और आप इन changes के लिए संभावनाओं को नहीं देख पाएंगे, जब तक आप अपना पहला साहसिक कदम नही ले लेते।

 आज इंटरनेट पर, आप लाखों खुद से बने कंसलटेंट देख सकते हैं, जो आपको विश्वास दिलाने की कोशिश करते हैं। वे बिज़नेस और entrepreneurship को इतने मुश्किल तरीके से बताते हैं कि आप इसे समझ भी नहीं पाएंगे, यही कारण है कि आपको उन्हें आपकी मदद करने के लिए पैसे देने पड़ेंगे। इन लोगों के झांसे पर ना आए- आमतौर पर, उनके पास कोई भी ज्ञान नहीं होता है, और वे जो भी करते हैं वह बात और केवल बात है। विशेष रूप से, वे कुछ भी रियल नहीं करते हैं।


छोटा शुरू करने से मत डरो

 यह शायद Rework से सबसे महत्वपूर्ण लेने वाली चीज़ों में से एक है। लेखक इसे इतनी बार दोहराते हैं कि हमें सिर्फ इसको बताना है। सबसे पहले, छोटी कंपनियों में बहुत कुछ सुंदर है - सब कुछ छोटा है, बहुत ज्यादा पर्सनल है। आप हर एम्प्लॉई और उसके परिवार के बारे में पर्सनली जानते है। आप लोगों की एक छोटी कम्युनिटी बन जाती हैं जो एक ही आईडिया के लिए लड़ते हैं। यह कुछ ऐसा है जिसे प्यार किया जाना चाहिए क्योंकि जैसे ही आप बड़े हो जाते हैं, आप अपनेपन की इस भावना को खो देते हैं।

 इसलिए छोटी चीज़ों के साथ शुरू करने से डरो मत- पहली बारी में, जो कुछ भी आपके पास में है, जो भी काम करता है उसका उपयोग करें, और देखें कि चीजें आपके लिए कैसे चल रही हैं। बहुत ज्यादा कर्ज़ों में ना डूबे क्योंकि आपको लगता है कि आपका आईडिया काम करने वाला है।

 यदि आप बहादुरी से अपना बिज़नेस शुरू करने का डिसिशन लेते हैं, तो चांसेस है कि आपके पास पहले से ही एक नौकरी हो। अपनी पुरानी नौकरी को पूरी तरह छोड़ने के बजाय,दोनों करने की कोशिश करें और देखें कि चीजें कैसे चल रही हैं। अपने नए बिज़नेस पर अनगिनत घंटे न लगाए- बस इसके बारे में सोचकर शुरुआत करें, और हफ्ते के कुछ घंटे अपने बिज़नेस आईडिया को develop करने के लिए दे। कुछ समय बाद, आप यह तय करने में सक्षम होंगे कि क्या आपको अपनी पुरानी नौकरी को पूरी तरह से छोड़ देने की आवश्यकता है।

 छोटे से शुरू करने का मतलब है कि आपकी कंपनी के कुछ सेक्टर undeveloped रह जाएंगे, ऐसे सेक्टरों पर आपको शुरू से ध्यान देना चाहिए- ये कोर सेक्टर हैं। ये कुछ ऐसे सेक्टर हैं जिनके बिना आपकी कंपनी काम नहीं कर सकती है। आइए एक बार फिर वियतनामी रेस्तरां का उदाहरण पेश करें- ऐसी जगह खोलने के लिए आवश्यक चीज, बेशक, फ़ूड, इंग्रेडिएंट्स। और आप बेस्ट इंग्रेडिएंट्स हासिल करना चाहते हैं। दूसरी ओर, कौन बेकार के सामान के बारे में परवाह करता है जैसे की रेस्तरां पर कुर्सी की क्वालिटी? यदि आप उस पर बैठ सकते हैं और नीचे नहीं गिर रहे हैं, तो वह अपना काम कर रही है। कम से कम शूरूआत के समय पर।

 चलिए एक और उदाहरण लेते हैं - मान ले कि आपको पेंटिंग करना पसंद है। यह आपका पैशन है और यह एक चीज है जिसे आप सबसे ज्यादा करना पसंद करते हैं। अब, एक बात जिस पर आपको ध्यान देने की जरूरत हैं, वह है आपकी स्किल। यदि आप अपना समय और पैसा बाहरी सामान में लगा दोगे जैसे कि फ्रेम, तो आप एक औसत(SIMPLE??) दर्जे की पेंटिंग और एक औसत (SIMPLE??) दर्जे के पेंटर बनकर रह जाओगे। यह संगीत के साथ भी लागू होता है - जो आपके लिए जरूरी है उसमें ध्यान लगाने के बजाए (जैसे कि आपकी तकनीक) आप दिखावे जैसी चीज़ों पर ध्यान लगाते हो जैसे कि लुक्स। और एक बार फिर तुम एक अच्छे दिखने वाले औसत दर्जे के संगीतकार बनकर समाप्त हो जाओगे।

 अंत मे, छोटे से शुरू करने से डरो मत, और सबसे महत्वपूर्ण बात, इम्पोर्टेन्ट चीज़ों को सही से प्राप्त करें।


बहुत जल्द इन्वेस्टर के लिए खोज न करें

 यह एक और सिम्पटम है अपनी नौकरी में जल्दबाजी करने का। जैसे ही आप अपनी पहली सफलता प्राप्त करते हैं, आप कुछ इन्वेस्टर को ढूंढने लगेंगे जो आपकी कंपनी को विकसित करने में मदद करेंगे। लेकिन ऐसा करने से आप कई गलतियाँ कर रहे हैं। सबसे पहले, इन्वेस्टर को खोजने का मतलब है कि कंपनी में आपका हिस्सा छोटा हो जाएगा। यदि चीज़े सही तरीके से आगे बड़ती है, तो आप कम पैसे होने के कारण समाप्त हो जाएंगे क्योंकि आप शुरुआत में बहुत जल्दबाजी में थे।

 दूसरा, इन्वेस्टर पर भरोसा करके आप उनकी राय के अनुसार अपनी कंपनी के नियमों को बदलने के लिए डिपेंड रहोगे। और यह एक ऐसी चीज है जिसे आप नहीं चाहते हैं। आखिरकार, आप अपना खुद का बिज़नेस शुरू इसलिए करना चाहते थे क्योंकि आपको लीडर बनना था, जो डिसिशन ले सके। और यहाँ हम एक और महत्वपूर्ण बात पर आते हैं - यदि आप बिज़नेस शुरू इसलिए करना चाहते है ताकि आप इसे बेच सके जब वह थोड़ा बहुत सक्सेसफुल हो जाए, तो इसे शुरू करने से परेशान न हों।


रिज्यूम और फॉर्मल एजुकेशन में भरोसा न करे

 सबसे पहले, rewrite आपको सिखाता है कि जब जरूरी हो तब ही hire करे। इस तरह आपके पास एक एम्प्लॉई होगा जो आपके लिए बिल्कुल जरूरी है, और एम्प्लॉई अपने को जिम्मेदार और वहाँ(??) होना जरूरी समझेगा।

 जब खुद से लोगो को काम पर रखने की बात करे, तो सावधान रहें कि बड़ी कंपनियों में लोगों को काम पर रखने के तरीके को कोपी करने की कोशिश न करें। वे जो करते हैं वह अनगिनत जॉब इंटरव्यूज की लिस्ट बनाना है, जो लोगों के रिज्यूमे पर आधारित होते है। ये दो बेकार की चीज़ करने के समान हैं। आप अपना और दूसरों का समय बर्बाद कर रहे हैं। इसके बजाय, अपनी खुद की गट फीलिंग में भरोसा करें। कई रिज्यूमे पढ़ने के बजाय, पोटेंशियल एम्प्लॉई को ढूंढने के लिए मौजूदा एम्प्लॉई की मदद ले - यदि आपके पास पहले से ही अच्छे, मेहनती एम्प्लॉई हैं, तो नए लोगों को खोजने में आपकी मदद करने के लिए कहने से डरें नहीं। 

 क्यों रेज़्यूमे जरूरी नहीं है? सबसे पहले, संभावना है कि पोटेंशियल एम्प्लॉई ने  खुद अपना रेज़्यूमे ना लिखा हो। ऐसे लोग हैं जो पैसे के लिए रिज्यूमे लिखते हैं। भले ही आप इंटरव्यू के दौरान इसे नोटिस कर लोगे, लेकिन समय बर्वाद क्यो करोगे? इसके बजाय, अपने मौजूदा एम्प्लॉई के कहने पर कुछ इंटरव्यू रखे, और देखें कि सब कुछ आपके लिए कैसे चल रहा है।


फेलियर केवल एक संभावना नहीं है - यह जरूरी है

 जैसे ही आप यह महसूस करते हैं, आप अनेक असफलताव से शांत दिमाग से निपट सकते है। इसके बारे में जरा सोचें- क्या उसैन बोल्ट ने हर एक दौड़ जीती है जिसमें उन्होंने भाग लिया था? निश्चित रूप से नहीं। क्या एक अच्छा आईडिया होने का मतलब यह है कि आप सफल होने वाले हैं? हरगिज नहीं। 

 इसलिए आपको फेलियर को एक्सेप्ट करना चाहिए, भले ही वे जितनी बड़ी हो, निश्चित रूप से आएंगी। इसे दबाने की कोशिश करने के बजाय, आपको इसे एक्सेप्ट करना चाहिए और इसके लिए तैयार होना चाहिए, कम से कम इमोशनली।

 उदाहरण के लिए, मान लें कि सब कुछ ठीक चल रहा हो, आपने अपना बिज़नेस शुरू किया और उसको एक्सपैंड करना भी शुरू कर दिया। शायद आप इसे लेकर बहुत आगे की सोच रहे है और आपने जितना आपके पास है उससे ज्यादा पैसा उधार ले लिया है और कुछ समय बाद आपको पता चलता है कि आप अपना उधार वापस नहीं कर पाएंगे। इसके बारे में ज्यादा परेशान होने के बजाय, आपको यह एक्सेप्ट करना चाहिए कि समस्या मौजूद होती है लेकिन इससे निपटना चाहिए।

 खुद के साथ ईमानदार हो। कुछ ऐसा कहें: "हां मैं अब फेल हो गया हूँ, लेकिन इसका मतलब है कि मुझे अब पता है कि भविष्य में क्या नहीं दोहराना है।" प्रॉब्लम के बारे में एक अच्छी कहावत है: "कोई प्रॉब्लम नहीं है, केवल सॉल्युशन हैं।" यदि आप इस दृष्टिकोण से सब्जेक्ट की ओर आगे बढ़ोगे, तो आप देखेंगे कि प्रॉब्लम को एक चुनौती के रूप में देखा जा सकता है जिसे सॉल्व किया जा सकता है।

 बिज़नेस को लीड करते समय इस तरह की मानसिकता जरूरी है। कुछ बेहद सफल लोगों ने अपने करियर के शुरुआती दिनों में संघर्ष किया, सिर्फ बाद में दुनिया में सबसे ज्यादा सक्सेसफुल बनने के लिए। यदि बिल गेट्स केवल अकैडमिक सफलता के आधार पर अपनी योग्यता देखते, तो हमारे पास आज माइक्रोसॉफ्ट नहीं होता- क्योंकि बिल गेट्स वास्तव में एक अच्छे स्टूडेंट नहीं थे।


Conclusion (निष्कर्ष)

 हमारी राय के अनुसार, ये सबसे जरूरी सीखने वाली चीज़ों में से एक थी। लेकिन हम आपको अपने दम पर किताब पढ़ने के लिए encourage करते हैं, और खुद को जज करने के लिए कहा- शायद आप कुछ ऐसा ढूंढ सकते हैं जो आपकी पर्सनल समस्याओं से संबंधित है।

और, अंत में, आपको इन स्टेटमेंट्स को याद रखना चाहिए जो Rework में मिल सकते हैं:

1. आपका बिज़नेस आईडिया कुछ ऐसी चीज़ से जुड़ा होना चाहिए जिसके लिए आप लड़ोगे- केवल इस लिए बिज़नेस शुरू न करें क्योंकि आप इसे कुछ सालो के बाद इसे बेचना चाहते हैं। कुछ ऐसा करें जो वास्तव में आपके लिए मायने रखता हो।

2. बड़ी कॉर्पोरेट मार्केटिंग छोटी ईमानदार कंपनियों के लिए नहीं है- बड़ी कंपनियों के मार्केटिंग के तरीके का प्रयोग करने की कोशिश न करें, खासकर अपने बिज़नेस के शूरूआती दिनों में। इसके बजाय, सबसे जरूरी चीजों पर ध्यान दें।

3. वर्कहोलिक होना और प्रोडक्टिव व्यक्ति होना दो कम्पलीट चीजें हैं- अगर आप देखते हैं कि काम थोड़ा धीमा चल रहा है, तो घबराएं नहीं। unconstructive और चिंता वाले काम पर कई घंटे बिताने के बजाय इसे आसान बनाएं। टहलने जाएं, या पुश-अप्स का एक सेट करें। 1 घंटे का फोकस्ड काम 10 घंटे के वर्कहोलिक काम से बेहतर है।

4. आपको शायद अपना बिज़नेस शुरू करने के लिए जितना सोचते हो उससे कम की जरूरत है- शुरुआत में हर कोई छोटा होता है। शुरुआत में इसे सिंपल और छोटा रखने से न डरें। यह लंबे समय में आपके लिए फायदेमंद रहेगा।

5. छोटे से शुरू करने से डरें नहीं।

6. इन्वेस्टर के लिए बहुत जल्दी खोज न करें - वे आपको खरीद लेंगे, और आप अपनी खुद की कंपनी पर कन्ट्रोल खो देंगे।

7. रेज़्यूमे और फॉर्मल एजुकेशन में भरोसा ना करे- जैसा कि फ्राइड और हेनीमियर का कहना है कि "अपनी खुद की इंस्टिंक्ट पर भरोसा करें"। अपने एम्प्लोयी से पर्सनली मिलें।

8. असफलता केवल एक संभावना नहीं है- यह जरूरी है- हर कोई फेल हो जाता है। आप भी निशचित रूप से होंगे। यही कारण है कि आपको यह एक्सेप्ट करना होगा कि आगे कुछ प्रोबलेम आएगी और आप उससे डरने और घबराने वाले नहीं हैं। कोई प्रॉब्लम नहीं है, केवल सल्यूशन है।


Don't Miss -

  1. Book Summary in Hindi - Men are from Mars Women are from Venus
  2. Book Summary in Hindi - Original: How Non-Conformists Move The World
  3. Book Summary in Hindi - Quiet The Power of Introverts
  4. Book Summary in Hindi - High-Performance Habits
  5. Book Summary in Hindi - Awaken The Giant Within
  6. Book Summary in Hindi - The Alchemist (Interesting Novel)
  7. Interesting Book Summary in Hindi - Man's Search for Meaning
  8. Book Summary in Hindi - When Breath Becomes Air
  9. Book Summary in Hindi - Switch: How to Change Things When Change Is Hard

 तो दोस्तों आपको आज का हमारा यह "Book Summary in Hindi - ReWork: Change the Way You Work Forever" कैसा लगा नीचे कमेंट करके जरूर बताये और इस "Book Summary in Hindi - ReWork: Change the Way You Work Forever" को अपने दोस्तों के साथ share जरूर करे।


आपका बहुमूल्य समय देने के लिए दिल से धन्यवाद,

Wish You All The Very Best.

Post a Comment

0 Comments