3D Printer kya hai ? What is 3D Scanning & 3D Printing ? Explained in Details | Hindi

3D Printer kya hai ? 3D scanning, 3D printing kya hai ? explained in details in Hindi



Hello दोस्तों, आप सभी में normal scanning और printing के बारे में तो सुना होगा, अभी हम बात करने वाले हैं 3D scanning और 3D printing की;

पिछले 2 से 3 साल में 3D scanning और 3D printing के बारे में मार्केट में बहुत ज्यादा सर्चा है सभी लोग इसके बारे में जानना चाहते हैं तो 3D स्कैनिंग कि जहां तक हम बात करते हैं तो वो क्या होता है,

जैसे आप अगर 2D scan आप करते हैं तो उसमें आप एक paper या कोई भी document है, वह आप scanner पर रखते हैं तो वह scan हो जाता है,

जो नीचे से light beam आती है वह reflection के through उसकी scanning जो है, वह कर लेते हैं, 3D scanning मैं आप किसी कागज या document की scanning नहीं करते हैं आप किसी object की scanning करते हैं,

object मतलब कोई भी एक चीज, मान लीजिए आप,

अगर मैं आपको करना चाहूं तो अगर आपका एक 3D image मुझे बनाना होता है तो मेरे पास एक 3D scanner होना चाहिए।

3D scanner काम कैसे करता है -

जैसे आप चारों तरफ जैसे भी उसके use करने का तरीका है, अलग अलग technologies का अलग अलग है उसके according आपकी एक same to same.

same scale में एक 3D image तैयार कर देगा जिसको आप बाद में print कर सकते हैं, आप कहीं पे 3D layout पे use कर सकते हैं बगैरा बगैरा, 3D scanner में सबसे common तकनीक जो होती है वह होती है - laser based.

laser based टेक्नोलॉजी मैं क्या होता है -



3D scanning, 3D printing

जो scanner होता है, वह बहुत सारे laser beams को shot करते है target पे, वो उससे टकराकर वापस आते हैं और यह टाइम का पता लगाता है कि वह कितनी देर में टकरा के वापस आए, उसके according वो जो object है उसके डाइमेंशन, हाइट, width, कितना डीप है, उन सब चीजों का पता लगाता है।


मान लीजिए अगर आप मुझे scan करते हैं तो मेरी जो नाक है वह सब से बाहर निकली हुई है, अगर सामने scanner है, वहां से beam आया वह नाक पे टकराके वापस गया तो उसको पता लग गया कि यह point उसको मिल गया, और beam था वो थोड़ा नाक के side में जाकरके टकराया तो उसको पता है यह थोड़ी सी अंदर है और beam था थोड़ा गाल पे आकर के टकराया जो को पता चल गया की ये और अंदर है, फिर गले पर beam छोरा ,

वैसे ही वह beam छोड़ कर के scanning करेगा अलग-अलग angle से, तो overall उनको stitch करके आपके सामने एक 3D इमेज जो है वह ला देगा,

अब 3D scanners में लेजर जो beam है उनके अलावा normal दो कैमरा layout, तीन कैमरा layout भी होते हैं, जिसमें एक बहुत ही एक पतली फिल्म light की वो एक through करते हैं, जो target है उसमें और उसके बाद में अलग अलग angles जो है अलग अलग cameras है उनसे वो उनकी interference को देखते है कि वह किस point पे meet हो रही है,

किस point पे वो एकदम deverse होती है, उसके according वो जो उसकी depth है, उसका पता लगाता है, तो ये एक बहुत ही common चीज है, या तो आप कर सकते हैं light की मदद से और ये आप कर सकते हैं laser की मदद से;

अब हम बात करते हैं 3D printing कि, normal printer मैं अापने देखा होगा की वो ink डालते है या जो cartridge है वो डालते है और उसके बाद में कागज के ऊपर आपके सामने printing हो जाती है,

3D printing मैं हम एक object को print कर रहे हैं तो हमें भी एक ऐसी चीज चाहिए जिसकि मदद से हम 3D कुछ structure बना सकते है, आज की डेट में अगर आप सोचेंगे तो सबसे common, सबसे सस्ता, सबसे हल्का , सबसे easily बनने वाला एक घर में, वह है - plastic,

तो उसमें हम ink की जगह use करते हैं प्लास्टिक wires का, जो प्लास्टिक wires के role होते हैं, जो melt होके और उसके बाद में जो printing है वह करते हैं।


3D scanning, 3D printing

तो वह लेआउट जो है वह आप खुद से बना सकते हैं, अगर आपके पास में software है, अगर आपको 3D मॉडलिंग आती है, तो आप जो चाहे वो अपना डिजाइन structure बना सकते हैं।

या अगर आपने scanning करि हुई है तो आप scanning को as it is print कर सकते हैं, तो printing के दौरान क्या होता है वह जो printers है वो अलग अलग साइज के आते हैं, छोटे से लेकर बहुत बड़े बड़े भी होते हैं।

तो 3D प्रिंटर बाद में उस layout को as it is print करते हैं layer by layer, मतलब एक layer छपी तो दुबारा एक layer छपी, फिर एक layer, तो वो करते करते आपके सामने एक पूरा 3D structure जो है, वो उसको print कर देंगे, अब इसमें आपके पास में एक option होता है कि आप कौन सा color choose कर सकते हैं, वह एक option है,

उसके अलावा आप उसको material जो है आप कितना उसको smooth बनाना चाहते हैं, यानी कि आप कितना उसके अंदर अगर air gaps देना चाहते हैं तो light weight का बन जाए, तो आप बना सकते हैं अगर आपको durable चाहिए तो आप वो भी कर सकते हैं,

तो यह जो 3D printing technique है यह बहुत बहुत common है और मतलब पिछले 2-3 सालों में इसकी price भी काफी कम हुई है और आज के टाइम में हम बहुत बहुत जगहों पर हम use करते हैं।

कुछ 3D printers के अंदर scanner जो है वह inbuilt होते हैं, यानी कि printer के अंदर ही एक scanner भी लगा हुआ है।

अगर आपको मान लीजिए कि एक छोटे आपके पास object है, अगर आपको copy बनानी है तो आप क्या करेंगे, उस object को उस प्रिंटर के scanner में अंदर रख देंगे आप एक बटन दबाएं कंप्यूटर पर तो automatically चारों तरफ जो scanner लगे हैं, वह घूम-घूम के उस object का एक 3D layout तैयार कर लेंगे, आप उसको बाहर निकालिये एक बटन दबाएं और वापस से वो घूम-घूम के as it is उसका जो 3D print है वह आपके सामने तैयार कर देगा।

यानी कि जो आपके हाथ में एक चीज थी वह बदलके बाद में दो में बन गई है, तो 3D scanning और 3D printing basically यही चीज है की एक घर है, एक पूरी building है जिसको 3D printing से तैयार किया गया है, आप imagine कीजिये की उसका साइज क्या होगा।


3D scanning, 3D printing

और आज के डेट में एक बहुत ही important चीज बन गई है, जो geologist है, जो archeologist है, वह जगह जगह पर जाते हैं उनको कुछ मिलता है, कुछ पुराने उनको जो आइटम्स वगैरह जो मिलते हैं वह उनकी भी 3D scanning कर लेते हैं,

जगह जगह पर तो बड़ी-बड़ी building की 3D scanning कर रहे हैं तो उसको हम preserve करने के लिए 3D scanning कर रहे हैं, ताकि आप as it is उस चीज को रख सके घर में,

एक बहुत ही छोटा सा एग्जांपल मैं आपको बताऊंगा कि मान लीजिये - आपको स्क्रू चाहिए और वह स्क्रू आपको urgently चाहिए, वह आपको नहीं मिल पा रही है कहीं पर, आपको अभी स्क्रू चाहिए तो स्क्रू को print कर लीजिये, या अगर आपको एक चम्मच print करनी है, एक plate print करनी है, मतलब आप कुछ भी चीज इसकी imagination मान लीजिए unlimited है, आप जो चाहे वह print कर सकते हैं,

medical instruments है जो बहुत सारि जो 3D printing में बना के काम में ले रही है, क्योंकि ये एक बहुत ही esay चीज है, अगर मैं आपको example दूँ कि आप एक स्क्रू को एक matelic स्क्रू को अगर आप बनाना चाहेंगे तो वो बहुत ही मुश्किल process है, आपको उसकी दाई चाहिए, बड़े-बड़े आपको मशीन वगैरा चाहिए, high temperature पे आपको काम करना पड़ता है,

लेकिन अगर एक प्लास्टिक के स्क्रू की बात करूंगा तो आपकी घर में एक छोटा सा 3D प्रिंटर है, आपने कंप्यूटर से बटन दबाया और वो स्क्रू जो है आपने प्रिंट कर लिया।

इसी तरीके से अगर आप किसी प्रोजेक्ट पर या अगर आप खुद अपने कुछ मॉडल को तैयार करना चाहते हैं तो आप software में 3D के लेआउट बना लीजिये और जो डिजाइन बनेगा वो कंप्यूटर पे एक बटन दबाने से print हो जाएगा।

आज की डेट में ये सबसे इंटरेस्टिंग चीज है, जो है 3D printing pen भी मार्किट में available है, जी मैं बात कर रहा हूँ एक 3D pen की, एक pen है, pen के पीछे की तरफ जो आपने cartridge लगाया प्लास्टिक का और वो काफी गरम होने के बाद आगे से ऐसे form में प्लास्टिक निकलते है, जो एकदम melted भी नहीं है और एकदम solid भी नहीं है।

जिसकी मदद से आप जल्दी जल्दी हवा में मतलब आपके पास में एक कागज है और आपने उसमें draw करना start कर दिया और जैसे 3D printer काम करते है वैसे आप एक layer draw किया और बाद में और layer उसके बाद में और layer, ऐसेही आप एक 3D pen से एक 3D drawing कर सकते है।

वैसे आपको youtube में 3D printer और 3D scanner की वीडियो मिल जाएगी, आप देख सकते हो की कैसे print वगैरा होता है 3D printer या pen से, आपको सिर्फ search करना है - 3D printer, आपको बहुत सारी वीडियो देखनेको मिल जाएगी,

ये एक बहुत interesting चीज है, और आनेवाले टाइम में आपको 3D printing और 3D scanning में मतलब ये मान लीजिये की commercialize होने वाले है ये सब चीजें, लोग अपने घरों में इसको खरीदने वाले है, price काफी कम होने वाली है इनकी,


जैसे आज से 5-6 साल पहले 2D मतलब normal printers तो एक बहुत ही expansive items थे, लेकिन 5-6 सालो में आज की date में वो आपको 1500/2000 में भी मिल जाते है, तो इसी तरीकेसे वो जो 3D scanning है वो जो पहले बहुत ही expansive था।

अभी धीरे धीरे उसकी price कम हो रही है और normal domestic use के लिए आपको बहुत ही कम कीमत में आने वाले दिनों में मिल सकती है, intel की जो realsense टेक्नोलॉजी है 3D scanning के लिए उसका क्या करना होता है।


3D scanning, 3D printing

for example - की आप एक building में है और आपको building का layout चाहिए उसको आपको scan करना है तो आप कैसे करेंगे, आप क्या कीजिये scanner लेके घुमाई building में, आप करीद्वार में चल रहे है, वो अपने आप scanning हो रही दीवारों वगैरा मतलब सब तरह से।

आप room में गए अपने room में घुमाया scanner तो पुरे रूम को scan कर लेगा, ऐसे करते करते आप पूरी building में घूम लीजिये और वो घूमने के बाद में at the end आपके पास में एक पुरे building का 3D layout होगा हर angle, हर तरीकेसे जैसा आपकी building है वैसा ही layout होगा, google का जो project tango है वो भी कुछ इसी तरीकेसे काम करता है।


तो ये जो 3D printing और 3D scanning है बहुत ही मार्किट revolutionize करने वाले है, चीजों को जिस तरीकेसे वो interact करते है, जिस तरीकेसे हम चीजों को देखते है, चीजों को समझते है, तो ये जो बहुत बहुत ज्यादा अच्छा एक नया step होगा की आप 3D scanning के through किसी भी चीज को आप जैसे चाहे आप वैसे उसको scan कर सकते है।


आप अपने घर बैठे अपने images को duplicate कर सकते है, किसी भी object को duplicate कर सकते है, कोई भी object मतलब कोई भी।


 अगर आपको इस Article (
3D Printer kya hai ? What is 3D Scanning, 3D Printing Explained in Details) से related और कुछ पूछना है तो आप नीचे comment करके पूछ सकते है और इस post (3D Printer kya hai ? What is 3D Scanning, 3D Printing Explained in Details) को अपने friends के साथ facebook पर share कीजिये।


 आपका बहुमूल्य समय देने के लिए दिल से धन्यवाद,


Wish You All The Very Best.

Post a Comment

0 Comments