Operating System क्या है in Hindi (What is Operating System in Hindi) Detail Explained

Operating System Kya Hai in Hindi (What is Operating System in Hindi). Operating System क्या है और ये कहा काम आता है - आज मैं इसके बारे में आपको Detail में बताऊंगा।


Operating System Kya Hai in Hindi (What is Operating System in Hindi)


Operating System Kya Hai in Hindi (What is Operating System in Hindi) Detail Explained in Hindi


 दोस्तों ये जो Operating System होते है ना, अगर ये काम करना बंद कर दे, तो आपके पास कैसा भी Powerful Computer Hardware हो बिलकुल बेकार हो जाता है।

 इसी बात से आप समझ गए होंगे की Operating System कहा काम में आता है।

 तो मैं आपको बताऊंगा Operating System क्या है और ये कैसे काम करता है, इसकी पूरी जानकारी।


Operating System क्या है ?

 जैसा की हम सभी जानते है की इंसान के पास दिल होता है, ठीक वैसे ही Computer के पास भी होता है और इसे Technology की भाषा में Computer का OS(Operating System) कहा जाता है।

 इसको छोटे नाम से OS भी बोला जाता है।

Operating System एक System Software है जो की User और Computer Hardware के बीच में एक Interface की तरह काम करता है।

 जब भी हम Computer को चलाते है, तब ये OS(Operating System) ही हमको Computer इस्तेमाल करने का जरिया बना देता है।

 तो आप ये समझे की आपके जो Hardware है जैसे की -

 CPU(Central Processing Unit) ये आपके System की Brain है,
 I/O(input/output) Device - Mouse, Keyboard, Printer, etc.
 RAM(Random Access Memory) - इसको Primary Memory or Main Memory कहा जाता है,
 ROM(Read-Only Memory) - इसको Secondary Memory कहा जाता है। जैसे आपके Hard Disk.

 तो ये सभी Hardware को जब हम Access करते है, तो हम इन Devices को ही Access करते है, लेकिन इन Devices को हम Direct Access नहीं कर सकते, तो हमे उसके लिए एक Interface की जरुरत होती है, जिसको हम बोलते है - Operating System.

 अगर ये OS(Operating System) काम करना बंद कर दे, तो हमारी आज की सारी Technology बेकार है और जब भी आप कोई mobile या फिर computer इस्तेमाल करते हो, तो हमेशा बोलते रहते है - Android, Windows, Mac, Linux. ये सभी Operating System के ही नाम है।

Example -
  •  Android - KITKAT, OREO, PIE, etc.
  •  Windows - Windows 7, Windows 8, Windows 10, Windows XP, etc.
  •  MacOS - Sierra 10.12, High Sierra 10.13, Mojave 10.14, Catalina 10.15, etc.
  •  Linux - Ubuntu, Fedora, Linux Mint, etc.
  •  IOS
  •  MS-DOS
  •  Symbian OS

 वैसे इन सभी चीजों के बारे में थोड़ा बहुत knowledge तो सबको है ही। 

दोस्तों जैसे आप गाने सुनते है, Videos देखते है, Word Document के ऊपर double click करते है, 3-4 window खोल लेते है Browser में, Keyboard में कुछ लिखते रहते है, और कुछ File Computer में Save करते है।

 तो ये सब आप बिना Operating System के कभी नहीं कर सकते।

 तो Operating System एक ऐसा Software जिसकी मदत से आप अपनी Computer को चलाते है, इसीलिए जब भी आप नया Computer खरीदते है, तो उसमें आप सबसे पहले Windows 7/8/10 को install करवाते है या Windows Pre-install भी होते है। और उसके बाद आप Computer को घर ले आते है।

 आजकल तो ज्यादातर लोग Online से ही खरीदते है, उसमें आपको Windows, Linux या MacOS pre-install ही मिलते है। वैसे MacOS आपको pre-install ही मिलेगा क्यूंकि ये Apple का Operating System है और ये मार्किट में अलग से available नहीं होते है, Apple खुद इसको Install करके आपको देता है।

 आपको ये बात बता दूँ की बिना Operating System के आप अपने Computer को On भी नहीं कर सकते।


Operating System को System Software क्यों बोला जाता है ?

 अगर आप Computer में कोई भी software या Application को चलाना चाहते है तो वो बिना OS के कभी भी नहीं चल सकते।

 ये OS Computer Hardware को अच्छे से इस्तेमाल करने में मदत करता है।


OS(Operating System) की जरुरत क्या है ?

 अगर आपके Computer पर Operating System Software नहीं होगा तो User मतलब की आप को किसी Particular Hardware को Access करने के लिए एक Program लिखना पड़ेगा। उस Program के through User हमेशा Access करेगा।


 बात यहाँ तक खत्म नहीं होता दोस्त, आपको जो Program लिखना पड़ेगा आपके कोई Particular Hardware Device को Access करने के लिए वो हर बार आपको लिखना पड़ेगा, जब भी उनको आप Access कर रहे होते है।

 जितने भी छोटे-बड़े Devices आपके Computer के अंदर है उन सभी के लिए आपको अलग अलग Program लिखना पड़ेगा बार बार।

Example -

 जैसे मेरे पास एक Word की Document है और मुझे उसको Print करना है।

 तो मैं Direct Print पे जा के print out नहीं निकाल सकता, मुझे उसके लिए एक Program लिखना पड़ेगा ताकि Printer को पता लगे की वो इस Document को Print करे।

ऐसे बाकि सारे devices के लिए भी आपको हर बार Program लिखना पड़ेगा।

 तो इस वजह से क्या होगा की User और Hardware के बीच में जो Communication है वो बहुत ज्यादा Complex हो जायेगा।

 तो इसीलिए हमको Operating System की जरुरत होती है। 


Types of Operating System

1.Multi-user Operating System

 ये Operating System में एक ही समय में लाखो-करोड़ो Users एक साथ काम कर सकते है। इसमें हर एक Particular User अपना अलग अलग काम एक ही समय में एक साथ कर सकते है।


2. Single-user Operating System

 ये Single-user Operating System एक समय में सिर्फ एक ही user को काम करने देता है। इस Operating System में एक ही समय में multiple users एक साथ काम नहीं कर सकते।


3. Multitasking Operating System

 इस तरह की Operating System, users को multiple programs को एक साथ चलाने की सुविधा देता है. इस Operating System पर आप एक ही समय में दो अलग अलग काम कर सकते है।

 जैसे आप एक Video देख रहे है, साथ ही अपने दोस्त से बाते भी कर सकते है और कुछ Browsing कर रहे है। तो यर multitasking के वजह से ही आप कर सकते है।


4. Multi Processing Operating System

 ये Operating System एक program को multiple CPU पर चलाने की सुविधा देता है.


5. Multi Threading Operating System

 ये Operating System आपके computer के किसी particular program विभिन्न भागों को एक साथ Run करने देता है।


6. Real Time Operating System

 ये operating system users के input को तुरंत output देता है। जैसे windows operating system.


OS(Operating System) का काम क्या है, और ये कहा कहा इस्तेमाल होते है ?

 Operating System मुख्य रूप से यही काम करता है की - जैसे Keyboard से कुछ input(instructions) लेता है > Instructions को Process करता है > Output को Computer Screen पर भेजता है।

 जब आप Game, MS Word, Adobe Reader, Vlc Media Player, Photoshop जैसे बहुत सारे Software Computer के अंदर रहते है। - इन सभी को चलाने के लिए एक Programm या बड़ा Software चाहिए, जिसको हम Operating System बोलते है।

 आसान भाषा में कहे तो Operating System को हम बहुत सारे Softwares का समूह यानी की Group कह सकते है।


Function of Operating System

 वैसे Computer बहुत सारे काम करता है, लेकिन सबसे पहले जब आप Computer को ON करते हो तब Operating System पहले Main Memory मतलब RAM में Load होता है और उसके बाद ये User Software को कौन कौन से Hardware चाहिए वो सब Allocate करता है।


1. Memory management

 Memory management का मतलब है Primary और Secondary Memory को Manage करना।

 Main Memory मतलब Ram में बहुत सारे छोटे छोटे खांचे होते है, जहाँ पर हम कुछ Data रख सकते है। जहाँ पर हर एक छोटे खांचे का Address होता है।

Main Memory या RAM(Random Access Memory) सबसे तेज चलने वाला memory है। जिसको CPU direct इस्तेमाल करता है, क्यूंकि जितने भी Program को चलाता है, वो सब Main Memory में ही होते है।

 तो Operating System ये सारे काम करता है। तो Multi Processing में Operating System ये Decide करता है की किस Process Memory दिया जायेगा और किसको कितना दिया जायेगा।

 जब Process, Memory मांगती है, तब उसको Operating System ही decided Memory दे देता है।

यहाँ Process का अर्थ है - एक Task या फिर एक छोटा काम, जो Computer के अंदर होता है।

 जब Process अपना काम खत्म कर लेती है तो OS वापस अपनी Memory ले लेता है।


2. Processor Management(Process Scheduling)

 जब MultiProgramming Environment की बात की जाये तो OS(Operating System) ही decide करता है की किस प्रोसेस को Processor मिलेगा और किसको नहीं मिलेगा। और कितने समय तक मिलेगा।

- इस Process को बोला जाता है Process Scheduling.

 OS(Operating System) ये सब काम करवाता है, OS(Operating System) ये भी देखता है की Processor खाली है या फिर कुछ काम कर रहा है,

 और Process ने अपने काम खत्म कर लिया है या नहीं।

 ये आप अपने Computer के Task Manager में जाकर ये देख सकते है की कितने काम चल रहे है और कितने नहीं चल रहे।

 जो Program ये सब काम करवाता है उसका नाम है Traffic Controller. और हमारे सारे Software की Process को CPU Allocate करता है।

 जब एक Process का काम खत्म हो जाता है, तो वो Processor को दूसरे काम में लगाता है और कुछ काम नहीं होने पर processor को free कर देता है।


3. Device Management

 आपके Computer में Driver का इस्तेमाल होता है, जैसे की Sound Driver, Bluetooth Driver, Graphics Driver, Wifi Driver, Touchpad Driver, etc.

 लेकिन ये बहुत सारी Input और Output Devices को चलाने में मदद करता है और इन Drivers को OS(Operating System) चलाता है।

 तो OS(Operating System) सभी Computer Devices को Track करता है और ये Task जो करवाता है उस Program का नाम है - IO Controller.

 जैसे अलग अलग Process को Devices चाहिए, कुछ Task करने के लिए, तो Device Allocate का काम भी OS(Operating System) करता है।

Example - एक Process को कुछ Task करने है, जैसे Video play करना, Print निकलना।

 तो ये दोनों Task Output Device Monitor और Printer की मदद से होगा।

 ये दोनों Devices को Process को कब देना है, ये काम OS(Operating System) करता है।

 तो जब Process का काम खत्म हो जाता है तो वो वापस Device Deallocate हो जाता है।


4. File Management

 एक File में बहुत सारे Directories को इकट्ठा करके रखा जाता है। क्यूंकि इससे हम आसानी से Data ढूंढ सकते है।


 तो इसमें OS(Operating System) का क्या काम है -

OS(Operating System) File Management के जरिये Information, Location और Status को इकट्ठा करके रखता है।

 ये सभी File System को देखता है। जैसे की किसको कौनसा Resource मिलेगा और Resource deallocate करना है।


5. Security

 जब आप अपना Computer ON करते है तो आपको वो Username का Password पूछता है। इसका मतलब ये है की OS आपकी System को Unauthenticated Access रोकता है, इससे आपका Computer सुरक्षित रहता है और कुछ Program को बिना Password के आप Open नहीं कर सकते है।

 उसके बाद जब आपका Computer आप Use कर रहे होते है, मतलब Basically आप Internet Browsing कर रहे है तो आपके Operating System के जो Security System है वो ये देखता रहता है कही से आपके Devices में Malicious Software या Malware(virus, threats, ransomware) वगैरह तो नहीं आ गए, और उस Malware को Scan करके Block या Remove करने की कोशिश करता है।


6. System Performance

 Operating System आपके Computer के Performance को भी देखता है और System को Improve करता है।

 और OS एक Service देने में कितना समय लगता है ये Record करके भी रखता है।


7. Error

 अगर आपके Systems में बहुत सारे Errors आ रहे है, तो उनको Operating System Detect करता है और आपको वो बाते Screen पर दिखाता भी है और उसको कुछ Command के through Recover भी करता है।


8. Software और User के बीच में तालमेल बनाना

 Operating System, सॉफ्टवेयर और User मतलब आपके बीच में तालमेल भी बनाता है।

 मतलब ये की Compiler, Interpretation और Assembler को Task sign करता है। अलग अलग Software को User के साथ जोड़ता है, जिसे User Software को अच्छे से इस्तेमाल कर सके।

 जैसे की User और System के बीच में Communication प्रदान करना, Operating System BIOS में stored करना और बाकि सब Application Software को भी User Friendly बनाता है।


Conclusion

  • 1. एक OS(Operating System) बोहत सारे Programs के Collection है, जो की बहुत सारे Programs को चलाता है।
  • 2. OS(Operating System) Input/Output Device को Control करता है।
  • 3. Computer के सारे Application Software को Run करने की Responsibility OS(Operating System) की होती है।
  • 4. Processes Scheduling का काम मतलब Process Allocate करना और Deallocates करने का काम भी OS(Operating System) का ही होता है।
  • 5. OS(Operating System), System या Device में हो रहे Errors और खतरों के बारे में अवगत कराता है।
  • 6. User और Computer Programs के बीच अच्छा तालमेल स्थापित करता है।


Don't Miss -

  1. Gaming PC vs Gaming Console Which One is For You
  2. What is 3D touch_3D Touch Explained in Detail_How It Is Works | Hindi
  3. What is 3D Scanning, 3D Printing Explained in Details | Hindi
  4. What is 4K_4K Technology Explained in Hindi
  5. Cache Memory क्या है ?_Detail Explained in Hindi
  6. HDD vs SSD vs SSHD Explained in Details | Hindi
  7. 3D Technology Explained in Details | Hindi
  8. What is VoLTE Explained in Details in Hindi
  9. What is PPI ? PPI क्या होता है ? - Explained in Details in Hindi
  10. Processor kya hai ? Processor क्या है ? - Intel i3 vs i5 vs i7 vs i9 Processor Explained in Details in Hindi

 तो दोस्तों आपको आज का हमारा यह Article (Operating System Kya Hai in Hindi (What is Operating System in Hindi) Detail Explained in Hindi) कैसा लगा नीचे कमेंट करके जरूर बताये और इस Article से related कोई भी सवाल हो तो नीचे कमेंट में आप मुझे पूछ सकते है और इस Article (Operating System Kya Hai in Hindi (What is Operating System in Hindi) Detail Explained in Hindi) अपने सभी दोस्तों के साथ Share जरूर करे।


आपका बहुमूल्य समय देने के लिए दिल से धन्यवाद,

Wish You All The Very Best.

Post a Comment

0 Comments