Featured Post

Expert Blogging Tips in Hindi - नया ब्लॉगर ये 5 बातें जरूर ध्यान रखें

Image
Expert Blogging Tips in Hindi. Hello दोस्तों, आज मैं आपको 5 ऐसी Best Blogging टिप्स बताऊंगा, जब Keywords research आप करते हैं आप ढूंढ लेते हैं Low Competition कौनसा हैं, High CPC किसका हैं और किससे आपको Traffic अच्छा मिलेगा,

 फिर भी कुछ न कुछ ऐसे Points रह जाते हैं, जो हम ध्यान ही नहीं देते है और जिसके वजह से हमारे Post, Google के अंदर Post Rank तो करती हैं, but वो First Page में नहीं आती या Top 3, 2, 1 पे नहीं आती।

तो कौनसी ऐसी Tips हैं जिसका आपको ध्यान रखना चाहिए वो सारा Points मैं आपको Details में बताऊंगा, की Low Competition Keywords ढूंढने के बाद भी आपकी Post Rank क्यों नहीं करती, कौनसी ऐसी चीज है जिसको हम बार बार करते है। तो चलिए वो Tips जान लेते हैं -




Expert Blogging Tips in Hindi - नया ब्लॉगर ये 5 बातें जरूर ध्यान रखें

#1 High Authority Websiteजब भी आप कोई Low competition, High CPC keywords research करते है और उसके ऊपर आप कोई Article या Post लिखते हैं, तो आपको गूगल के अंदर जरूर Search करना चाहिए की उसके ऊपर कोई High Authority Website already Rank तो नहीं हैं।


For Example -


गूगल Searc…

A Simple Guide of Triphala - त्रिफला के 114 Benefits, Uses and Side Effects | Thoughtinhindi.com

A Simple Guide of Triphala - त्रिफला के फायदे, उपयोग और नुकसान – Triphala Benefits, Uses and Side Effects in Hindi. Hello दोस्त, आज मैं आपको आयुर्वेद की ऐसी Medicine के बारे में बताऊंगा, जिसे आयुर्वेद में सबसे ज्यादा ताकतबर माना गया है और इस medicine की सबसे बड़ी खासियत ये है कि इसका कोई Side Effect भी नहीं है।

 इसके अलावा इस medicine के बारे में दो बातें और भी कही जाती है, जिसमें से पहली बात ये है कि अगर कोई Doctor इस medicine का सही तरीकेसे इस्तेमाल करना सीख ले, तो फिर वो किसी भी बीमारी को सही कर सकता है।

 और दूसरी बात जो इस medicine के बारे में कही जाती है वो ये कि अगर आपकी माँ नहीं है, तो फिर आप इस medicine को जरूर खाइये और ऐसा इसलिए क्यूंकि ये medicine बिलकुल एक माँ की तरह आपकी और आपकी सेहत की देखभाल करती है।

Medicine का नाम है - "त्रिफला (Triphala)"

 आज इस Article में मैं आपको बताऊंगा कि वो इंसान जो रोज त्रिफला खाता है, उसे कितने सारे फायदे मिलते है।


त्रिफला चूर्ण के फायदे, उपयोग और नुकसान – Triphala Churna Benefits, Uses and Side Effects in Hindi


त्रिफला चूर्ण के फायदे, उपयोग और नुकसान – Triphala Churna Benefits, Uses and Side Effects in Hindi



Definition of Triphala

 अब सबसे पहले तो आप ये समझिये त्रिफला असल में कहते किसे है -

 त्रिफला जो है ये तीन फलों का combination है। जो हरड़, बहेड़ा और आँवला को 1:2:4 के Ratio में मिलाकर बनाया जाता है।


Triphala Churna Combination Ratio

 अब इन तीनो चीजों की फायदों को भी समझ लीजिये -

 देखिये त्रिफला में सबसे ज्यादा quantity आँवला की डालती है, आँवला की सबसे बड़ी खासियत ये होती है, कि ये आपके शरीर में Toxins को यानि विषेले तत्वों को इकट्ठा होने ही नहीं देता।

 दूसरी चीज जो त्रिफला में डाली जाती है वो है हरड़। हरड़ को असल में योगवाही औषधि कहा जाता है और योगवाही औषधि से मतलब ये है की किसी भी आयुर्वेदिक medicine के साथ अगर हरड़ दी जाये, तो वो आयुर्वेदिक मेडिसिन Body में पूरी तरह से absorbed हो जाती है और अपना पूरा असर दिखाती है।

 तीसरी चीज जो त्रिफला में डाली जाती है वो है बहेड़ा। इसकी सबसे बड़ी खासियत ये होती है कि ये आपके शरीर के तीनों दोषों को यानी - वात, पित्त और कफ को बैलेंस(संतुलन) कर देता है।

 यानी अगर ये तीनों दोष बढ़े हुए है तो इनको कम कर के normal कर देता है और अगर कम है तो इनको बढाकर normal कर देता है।

 इस चीज को भी समझिये कि पुरे आयुर्वेद में Digestive System को बेहतर बनाने के लिए बहेड़ा से बेहतर कुछ भी नहीं है।

 यानी त्रिफला में जो आँवला है ये आपके शरीर से सभी बुरी चीजों को कम कर देता है और बहेड़ा आपके शरीर में सभी अच्छी चीजों को बढ़ा देता है। और जो हरड़ है ये आँवले को और बहेड़ा को Body में पूरी तरह से Absorbed करवाता है और इनका पूरा असर निकालता है।

 इस चीज को भी समझिये कि त्रिफला का main ingredient आँवला होता है, पर जब आँवले को हरड़ और बहेड़ा के साथ मिला दिया जाता है तो आँवले के गुण और प्रभाव कई गुना बढ़ जाते है,

 और यही चीज हरड़ और बहेड़ा के साथ भी होती है यानी हरड़ और बहेड़ा जब आँवले के साथ लिए जाते है तो इन दोनों के गुण और प्रभाव कई गुना बढ़ जाते है।

 अगर आप दिन भर में इतनाही आँवला, इतनाही हरड़ और इतनाही बहेड़ा अलग अलग समय पर ले तो आपको इतना फायदा नहीं मिलेगा, जितना इन तीनों चीजों को एक साथ में लेने पर होगा।

 Medical language में इस चीज को synergism कहा जाता है।


अगर कोई इंसान पहले से ही स्वस्थ है तो फिर उसको लेने की जरुरत क्या है ?

 इस चीज को समझने के लिए आप आयुर्वेद के 2 basic principal को समझ लीजिये।

आयुर्वेद के पहला Principle(सिद्धांत) ये है कि - "शरीर में जितनी भी बीमारियां होती है उनमें से 90% बीमारियाँ पेट से शुरू होती है और इसीलिए अगर आप स्वस्थ रहना चाहते हो, तो आपको अपना पेट स्वस्थ रखना चाहिए।"

 क्यूंकि त्रिफला हमारे Digestive Systems(पाचन तंत्र) को स्वस्थ रखने की सबसे असरदार Medicine है, इसीलिए भले ही चाहे आप स्वस्थ ही क्यों न हो तो भी आपको त्रिफला जरूर लेना चाहिए

आयुर्वेद के दूसरा Principle(सिद्धांत) ये है कि - शरीर की सभी बीमारियां वात, पित्त और कफ के imbalance की वजह से होती है।

 क्यूंकि हम अपनी Lifestyle की वजह से और अपनी खाने-पीने की आदतों की वजह से अपने वात, पित्त और कफ को balance नहीं रख सकते, इसीलिए भले हम चाहे स्वस्थ ही क्यों न हो तो भी हमे त्रिफला जरूर लेना चाहिए।


त्रिफला के फायदे(Benefits of Triphala)


त्रिफला के बहुत सारे फायदे होते है और इसीलिए इन सभी फायदों को एक एक करके समझ भी लीजिये -


Triphala for Digestive System :


digestive system

1. त्रिफला एक बहुत ही अच्छा Laxative होते है। यानी की ये आपके आंतो के peristaltic movement को बढ़ा देता है, जिसकी वजह से Constipation हो ही नहीं पायेगा और अगर है भी तो सही हो जाता है।


 यानी त्रिफला आपकी पेट को साफ करता भी है और आपके पेट को साफ रखता भी है। और इसी वजह से जितनी भी आयुर्वेदिक medicines होती है, जो पेट साफ करने के लिए ली जाती है या दी जाती है उन सभी में त्रिफला जरूर होता है।

पर क्यूंकि पेट साफ करने वाली दवाइयों का असली मकसद पेट साफ करना होता है इसीलिए इन सभी दवाइयों में त्रिफला के साथ साथ सनाय पत्ती भी डाल दी जाती है।

 सनाय पत्ती अगर रोज ली जाये तो ये शरीर के सभी essential nutrients को खींचकर शरीर से बाहर निकाल देती है।

 अगर आपको constipation(कब्ज) की परेशानी रहती है तो फिर आप त्रिफला लीजिये पेट साफ करने वाली आयुर्वेदिक medicine मत लीजिये।


2. देखिये त्रिफला जो है ये आपके Liver और Kidney के लिए बहुत ही ज्यादा फायदेमंद रहता है।

 अब जरा इसकी वजह भी समझ लीजिये की हमारे जो Daily खाने-पीने की चीजे जैसे सब्जिओ में pesticides के होने की वजह से या फिर शराब पीने की वजह से हमारे शरीर में जितने भी Toxins इकट्ठे हो जाते है, त्रिफला इन सभी Toxins को मल, मूत्र और स्वेद के जरिए, हमारे शरीर से बाहर निकाल देता है।

 इसके अलावा अगर आप इस तरह के कामो को करते है जिसकी वजह से आपको दिन भर बैठे ही रहना पड़ता है, या फिर जिसकी वजह से आप ज्यादा Physical Work नहीं कर पाते तो आपको त्रिफला जरूर लेना चाहिए (ये हमारे जैसा Blogger लोगो के लिए रामवाण Medicine सिद्ध हो सकता है).

 जब आपको Constipation Problem नहीं रहती है, तो फिर आपको भूख भी खुल कर लगती है और आप जो भी खाते है पूरी तरह से हजम होता है। यानी त्रिफला ना केवल भूख बढाती है बल्कि आप जो कुछ भी खाते है वो पूरी तरह से हज़म भी होता है।

 इसीलिए वो लोग जो Bodybuilding करते है, यानी वो लोग जो बहुत ही तेजी के साथ अपना वजन और अपनी ताकत बढ़ाना चाहते है उन्हें त्रिफला जरूर लेना चाहिए।

 Athletes और Weightlifters को भी त्रिफला जरूर खाना चाहिए।

 इस चीज को भी समझिए की त्रिफला में जो हरड़ होती है ये adipose tissue को यानी वो tissue जो Fats को store करते है ये उनको खत्म करती है,

 और इसीलिए वो लोग जो Muscular Body बनाना चाहते है या फिर वो लोग जो अपना वजन कम करना चाहते है उन लोगो को त्रिफला जरूर लेना चाहिए।

3. अगर आपको पेट से Related कोई भी बीमारी जैसे पेट दर्द, हाजमे की खराबी, उल्टी या दस्त, पेचिश या मरोड़, गैस या एसिडिटी और पेट में कीड़े हो,

 तो इन सभी तरह की परेशानियों के लिए आप केवल त्रिफला लेना शुरू कर दीजिये और आपकी पेट से related जितने भी परेशानियां होंगी वो सही हो जाएँगी और अगर नहीं है तो कभी भी नहीं होंगी।

4. अगर आपके मुँह में छाले होते रहते है, मसूड़ों में सूजन रहती है, दांतो में दर्द रहता है या फिर मसूड़ों से खून आता है तो आप केवल त्रिफला लेना शुरू कर दीजिये और इन सभी परेशानियों को भूल जाईये 

 पर अगर आपको पायरिया है तो आपको ना केवल त्रिफला खाना चाहिए बल्कि त्रिफला के चूर्ण से आपको आपके मसूड़ों की मंजन/मालिश भी करना चाहिए।


Triphala for Circulatory System :


Circulatory System

1. त्रिफला आपकी खून में जितने भी Toxins है, उन सभी Toxins को पसीने से या फिर पेशाब के रास्ते से बाहर निकाल देता है।

 इससे आपका फायदा ये होता है कि आपको थकान, आलस या भारीपन महसूस नहीं होता।

 इस चीज को समझिये कि अगर आप थकान, आलस या भारीपन महसूस करते है, तो फिर आपको त्रिफला शहद के साथ लेना चाहिए। और जितना त्रिफला ले रहे है उतना ही शहद भी लेना चाहिए।

2. त्रिफला में जो हरड़ होता है ये आपके Blood Cholesterol को Normal कर देता है। यानी जो extra Cholesterol होता है, ये उसको आपके शरीर बाहर निकाल देता है।

 इसका सबसे बड़ा फायदा ये होता है कि आपको कभी भी High Blood Pressure की problem नहीं होती है। और इसीलिए अगर आपकी family history High Blood Pressure की या Heart Problems की है तो फिर आपको त्रिफला जरूर लेना चाहिए।


Triphala for Respiratory System :

1. अगर आपको सूखी खांसी रहती है या फिर गीली खांसी रहती है तो त्रिफला इन दोनों को सही कर देता है।

2. अगर आपको अस्थमा की problem है तो फिर त्रिफला आपके लिए खास तौर पर फायदेमंद है, क्यूंकि त्रिफला में जो आंवला होता है ये पुराने से पुराने Cough खींच कर बाहर निकाल देता है।

3. त्रिफला में जो आंवला होता है ये दुनिया का सबसे बेहतरीन Anti-oxidant होता है और इसीलिए अगर आप Smoking करते है, या फिर आप ऐसी जगह पर रहते है जहाँ पर बहुत ही ज्यादा Pollution रहता है, तो फिर आपको त्रिफला जरूर लेना चाहिए।


Triphala for Skin, Hair and Nails :


beauty

1. त्रिफला लेने से आपकी खूबसूरती भी बढ़ जाती है, ऐसा इसलिए - क्यूंकि त्रिफला में जो आँवला रहता है ये ना केवल आपकी खाल में कसावट लाता है बल्कि ये आपकी खाल में लोच भी पैदा करता है।

2. त्रिफला की वजह से आपके नाख़ून और आपके बाल चमकदार और शनदार हो जाते है।

3. अगर आपको कील मुंहासे होते रहते है या अगर आपको फोड़े फुंसी होते रहते है और या फिर अगर आपको किसी भी तरह के Skin Infections होते रहते है तो आप केवल त्रिफला लेना शुरू कर दीजिये,

 और 6 महीने के अंदर अंदर आपकी जितनी भी Skin की परेशानियां है सब की सब जड़ से दूर हो जाएँगी।

Skins के Related Problems के लिए ना केवल आपको त्रिफला खाना है, बल्कि आपको इसे नीम की पत्तिओ के paste(पेस्ट) के साथ मिलाकर उस जगह पर लगाना भी है।

बालों की बात की जाये तो -

  •  त्रिफला बालों की जड़ों को मजबूत करता है,
  •  बालों का पतला होना रोकता है,
  •  बालों का समय से पहले सफ़ेद होना रोकता है,
  •  बालों का झड़ना भी रोकता है
  •  बालों की चमक भी पहले से और चमकदार बना देता है।

इन सभी फायदों के लिए आपको ना केवल त्रिफला खाना चाहिए, बल्कि अपने बालों पर लगाना भी चाहिए।

 पर देखिये इस चीज को भी समझिये कि अगर आपके बाल Heredity के वजह से झड़ रहे है, तो आपके झड़ेंगे तो जरूर पर बहुत देर से झड़ेंगे।


Triphala for Eye :

 त्रिफला आँखों के लिए भी बहुत फायदेमंद रहता है, और आँखों को फायदा पहुंचाने के लिए आपको त्रिफला खाना भी चाहिए और सुबह सुबह त्रिफला के पानी से अपनी आँखों को धोना भी चाहिए।

इसके लिए रात में 10 ग्राम त्रिफला चूर्ण 500 ml पानी में रात भर के लिए रख दीजिये और सुबह सुबह इस पानी को रुमाल से छानकर, उस पानी से अपनी आँखे धो लीजिये।

 इससे आपके ना केवल आँखों की रौशनी बढ़ती है, बल्कि अगर आपकी आँखों में किसी भी तरह का infection हो तो वो भी सही हो जाता है।

Triphala for Urinary System :

 वो औरतें आमतौर पर Urinary tract infections रहते ही है, उन औरतों को त्रिफला जरूर लेना चाहिए।

ऐसा इसलिए क्यूंकि त्रिफला सभी तरह के Urinary tract infections को irregularities को सही कर देता है।

Triphala for Immune System :


Immune system

 त्रिफला आपकी immunity को बढ़ा देता है। ऐसा इसलिए होता है क्यूंकि त्रिफला में ना केवल Anti-inflamatory बल्कि Anti-viral Properties भी होती है।

 और इसका सबसे बड़ा फायदा ये होता है कि आप बहुत सारी बीमारियों से और बहुत सारी Allergy से बचे रहते है।

 यानी वो लोग जो त्रिफला लेते रहते है उन्हें हर बार मौसम बदलने पर झुकाम नहीं होता और इसके अलावा भी वो लोग जिन्हे साल भर झुकाम बना रहता है या फिर जिनकी नाक साल भर बंद रहती है, इस तरह की लोगों को त्रिफला जरूर लेना चाहिए।

Triphala for Brain :

1. क्यूंकि त्रिफला में अच्छी खासी quantity में आँवला होता है, इसी वजह से त्रिफला एक बहुत ही अच्छा Brain Tonic भी है।

 यानी अगर आप त्रिफला लेते है तो ना केवल आपका Concentration बढ़ जायेगा बल्कि आपकी याद्दास्त(Memory) भी बहुत अच्छी हो जाएगी।

2. अगर आपको सही तरह से नींद नहीं आती तो आपको त्रिफला जरूर लेना चाहिए।

3. अगर आपको सिर में दर्द रहता है और अगर आपको चक्कर आते रहते है, तो आप केवल त्रिफला लेना शुरू कर दीजिये और थोड़े ही दिन में आपकी सभी परेशानियां दूर हो जाएँगी।

Triphala for Aging Process :



 त्रिफला को सभी रसायनो का राजा कहा जाता है, और रसायन असल में उस चीज को कहा जाता है जिसकी वजह से Aging Process, यानी जिसकी वजह से शरीर बूढ़ा होता है, उस process को धीमा कर देता है।

 यानी अगर आप त्रिफला लेते रहते है, तो आप अपनी असली उम्र से कमसे कम 10 साल तक छोटे दिखेंगे।


Triphala कितनी Quantity में लेना चाहिए ?

 इसका जवाब बहुत ही आसान है - जितनी आपकी उम्र है, आपको उतना Ratti त्रिफला रोज खाना चाहिए।


1 Ratti = 0.12125 gram

Triphala(त्रिफला) कब खाना चाहिए ?

 त्रिफला खाने का सबसे सही समय होता है रात के खाना खाने के 45 मिनट बाद, त्रिफला चूर्ण/त्रिफला Liquid हल्के गुनगुने पानी के साथ ले लेना चाहिए।


Triphala लेना कब से शुरू कर सकते है और इसे कितने समय तक खा सकते है ?

 जब आप चाहे तब से त्रिफला को लेना शुरू कर सकते है और जब तक आपकी जिंदगी है, तब तक आप इसे रोज खा सकते है। मतलब पूरी जिंदगी आप त्रिफला खा सकते है।


Triphala Side Effects :

 दुनिया में ऐसे कुछ ही Medicine है जिसका कोई भी Side Effect नहीं है।*


*Note :

  • त्रिफला को जरुरत से ज्यादा नहीं लेना चाहिए, मतलब अधिक सेवन आपके लिए हानिकारक है। जैसे ऊपर इसका Quantity बताया गया है उतना ही लेना चाहिए।
  • छोटे बच्चों को त्रिफला नहीं देना चाहिए, मतलब 6-7 साल के नीचे वाले बच्चे को त्रिफला नहीं देना चाहिए।
  • Pregnancy के दौरान त्रिफला नहीं लेना चाहिए।
  • अगर आप ज्यादा समय के लिए खाने की सोच रहे है तो कम मात्रा में लीजिये और अगर कम समय मतलब एक महीने के खाने की सोच रहे है तो आप ऊपर बताये गए मात्रा में ले सकते है।
  • दोस्तों अगर आपके पेट में कुछ problem हो रही है तो आपके आस-पास के डॉक्टरों के साथ consult जरूर करे, क्यूंकि आपकी त्रिफला लेने की Quantity वो आपको निर्धारित करके दे सकता है, मैं आपको नहीं दे सकता कि आपको कितनी त्रिफला चूर्ण लेनी चाहिए, क्यूंकि मैं आपसे बहुत दूर बैठा हुआ हूँ।
  • ऊपर बताये गए Quantity उसी Person के लिए है जो एकदम स्वस्थ है। लेकिन अगर आपके शरीर में कुछ problem हो रही है तो आपके आस-पास के Ayurvedic doctor के साथ जरूर consult करे।
  • अगर आप चाहे तो त्रिफला Juice भी ले सकते है, इसको लेने के लिए आपको doctor को पूछने की जरुरत नहीं पड़ेगी। हाँ इसको आप Daily एक teaspoonful ले सकते है, इससे ज्यादा मत लीजिये। और इस Quantity के साथ आप त्रिफला पुरे जीवन भर ले सकते है।

अगर आप इन सभी नियमों को follow करेंगे तो आपको कोई भी Side Effect या Problems का सामना नहीं करना पड़ेगा।


Conclusion

 दोस्तों आपको त्रिफला के बारे में सब कुछ पता चल गया होगा कि -

  •  इसको खाने से आपको क्या क्या लाभ मिलेगा,
  •  कब से त्रिफला आप ले सकते है,
  •  Daily कितनी Quantity में आपको त्रिफला खाना चाहिए,
  •  इसका Side effects क्या है,
  •  कौन कौन लोग को और किस situation में इसको Avoid करना है,
  •  इसको लेने से पहले अगर आप त्रिफला चूर्ण ले रहे है तो आस-पास के Doctor के साथ Consult जरूर करे।
  •  अगर त्रिफला Juice ले रहे है तो Doctor के पास जाने कि जरुरत नहीं है आपको।

 फिर भी अगर आपको इसके बारे कुछ Doubt है तो मुझे नीचे कमेंट में पूछ सकते है।

 अगर आप चाहे तो Amazon से इसको खरीद सकते है या फिर Local Market से भी खरीद सकते है, इसे use जरूर करे, अगर आपको एक स्वस्थ जिंदगी चाहिए तो।

*Note: घर में इसको मत बनाये क्यूंकि इसको जो 4:2:1 Ratio (आँवला:बहेड़ा:हरड़) में बनाना होता है, इससे अगर quantity ज्यादा या कम हो जाएगी तो इसका अनुमान आप घर में नहीं लगा सकते।

 फिर भी अगर आप एकदम उस Ratio में बना सकते है तो घर में ही बना सकते है।

 मैंने नीचे आपलोगो के लिए Amazon का link ढूँढ़ के दिया है, वहां से आप Purchase कर सकते है -



 तो दोस्तों आपको आज का हमारा यह Article (A Simple Guide of Triphala - त्रिफला के 114 Benefits, Uses and Side Effects) कैसा लगा नीचे कमेंट करके जरूर बताये और इस Article (A Simple Guide of Triphala - त्रिफला के 114 Benefits, Uses and Side Effects) को अपने सभी दोस्तों के साथ share जरूर करे।


आपका बहुमूल्य समय देने के लिए दिल से धन्यवाद,

Wish You All The Very Best.

Comments

Popular posts from this blog

SEO क्या है और कैसे करते है ? Best Way to Improve Your SEO Mastery in Hindi 2020

Meditation in Hindi - मैडिटेशन कैसे करें (सही और सरल तरीका)

Top 16 Chanakya Niti in Hindi - Best Unique Quotes 2019

Popular posts from this blog

Meditation in Hindi - मैडिटेशन कैसे करें (सही और सरल तरीका)

SEO क्या है और कैसे करते है ? Best Way to Improve Your SEO Mastery in Hindi 2020

Benefits of Meditation in Hindi - मैडिटेशन(ध्यान) क्या है और इसके क्या क्या फायदे है

Quiet The Power of Introverts Book Summary in Hindi - इंट्रोवर्टस होने से आपका फायदा ये हैं

अपने Body को Detox कैसे करें - A Simple Step-by-Step Detox Health Tips in Hindi | Thoughtinhindi.com