Losing My Virginity Book Summary in Hindi - Sir Richard Branson की सक्सेसफुल लाइफ स्टोरी

Losing My Virginity Book Summary in Hindi - Richard Branson की सक्सेसफुल लाइफ स्टोरी।

 Hello दोस्तों, क्या आपको पता है रिचर्ड ब्रान्सन विर्जिन ग्रुप के सक्सेसफुल ओनर कैसे बने ? कैसे वो एक फेमस एंटप्रेन्योर, वर्ल्ड रिकॉर्ड ब्रेकर और फिलानथ्रोपिस्ट हुए? अगर आपको जानना है तो इस बुक में आपको उनकी लाइफ स्टोरी मिलेगी.


Losing My Virginity Book Summary in Hindi - Sir Richard Branson की सक्सेसफुल लाइफ स्टोरी


Losing My Virginity


परिचय Introduction

 रिचर्ड ने जब 17 साल के थे तो उन्होंने एक मैगजीन स्टार्ट की. फिर वर्जिन म्यूजिक और वर्जिन रिकार्ड्स को ट्रांसफॉर्म करके उन्होंने इंडस्ट्री में बड़ा नाम कमाया. वर्जिन एयरलाइन्स के साथ उन्होंने अपना बिजनेस एक्सपेंड किया. उन्हें एडवेंचर से प्यार था इसीलिए एक हॉट एयर बलून में बैठकर उन्होंने अटलांटिक और पेसीफिक क्रोस करने की कोशिश की थी. और गल्फ वार के दौरान उन्होंने होस्टेजेस (hostages ) को भी बचाया था. रिचर्ड ने एचआईवी/ एड्स (HIV/AIDS) और क्लाइमेट चेंज जैसे कॉज के लिए भी कई फंड्स रेज़ किये. 2000 में प्रिंस चार्ल्स ने उन्हें नाईट (knighted)  by Prince Charles in 2000. 60 की उम्र में भी रिचर्ड ब्रान्सन लाइफ को फुल् एन्जॉय कर रहे है.  


वर्जिन्स एट बिजनेस (Virgins at Business)

रिचर्ड ब्रान्सन ने अपने हाई स्कूल क्लासमेट जोंनी के साथ एक मैगजीन निकाली थी. दोनों तब सिर्फ 17 के थे, इस मैगजीन का नाम उन्होंने “स्टूडेंट” रखा जो ब्रिटेन के यंगस्टर्स के लिए थी रिचर्ड और जोंनी सारा दिन अपने घर के बेसमेंट में बैठकर नयू इश्यू फिनिश करने में लगे रहते. दोनों यंग और बोल्ड थे और स्टूडेंट्स को रेबेलियस यूथ कल्चर बड़ा पसन्द होता है. रिचर्ड ने एक बार ल्लोय्ड्स बैंक, कोका कोला, पेप्सी और डेली टेलीग्राफ को अपनी मैगजीन में एडवरटीजमेट देने के लिए फ़ोन किया. वो अपनी मैगजीन में एड्स और इंटरव्यू देने के लिए हमेशा बड़े ब्रांड्स के बारे में सोचता था. रिचर्ड एक बार स्टूडेंट्स के कैरीकेचर बनवाने के लिए पीटर ब्लेक को लेके आया जिसने बीटल्स का सार्जेंट पेपर एल्बम (Sergeant Pepper album) डिजाइन किया था. अपनी मैगजीन में उन्होंने जॉन लेनन और मिक जैगर का एक शोर्ट इंटरव्यू भी रखा. रिचर्ड और जोंनी के बाकी फ्रेंड्स भी स्टूडेंट मैगजीन बेचने में उनकी हेल्प करते थे लेकिन बदले में वो कोई पैसे नहीं लेते थे. सब लोग जोंनी के घर के बेसमेंट में इकट्ठा होते थे. रिचर्ड जोंनी और बाकी लोग मिलकर ज्यादा इश्यू प्रिंट करवा लेते थे. फिर जल्दी ही बेसमेंट में 20 यंगस्टर्स मिलकर काम करने लगे जो हाई वोल्यूम में बीटल्स, रोलिंग स्टोन और बॉब डायलन (Bob Dylan loud ) के गाने सुनते रहते थे. उनके लिए ये म्यूजिक पोलिटिकल था क्योंकि ये उनके ड्रीम्स को रीप्रेजेंट करता था कि एक दिन ये लोग दुनिया को बदल देंगे. रिचर्ड ने देखा कि लोग भले एक टाइम के मील के लिए 40 शिलिंग्स खर्च ना करे लेकिन बीटल्स का लेटेस्ट एल्बम ज़रूर खरीद लेंगे. उसे एक आईडिया आया कि क्यों ना मेल-आर्डर के थ्रू रिकार्ड्स बेचे जाए. क्योंकि ये थोडा चीप पड़ता था इसलिए उन्हों ढेर सारे ऑर्डर्स मिलने लगे. ये स्टूडेंट मैगजीन के लास्ट इश्यू का मार्क था. रिचर्ड और उसके फ्रेंड्स ने मेल आर्डर बिजनेस पर फोकस करने का सोचा, अब उन्हें अपने ग्रुप के लिए कोई न्यू नेम चाहिए था, एक लड़की ने बोला ‘वर्जिन कैसा रहेगा? क्योंकि हम भी बिजनेस के मामले में एकदम वर्जिन है. और इस तरह रिचर्ड ब्रान्सन के वर्जिन एंटरप्राइजेस स्टार्ट हुआ.


आई ऍम प्रीपेयरड टू ट्राई एनिथिंग वंस (I am prepared to try anything once)

रिचर्ड और उसके फ्रेंड्स स्ट्रीट्स में और कॉन्सर्ट वेन्यूज के बाहर मेल आर्डर के लीफलेट्स लगा देते थे. वर्जिन को रोज़ ढेरो लेटर्स मिलने लगे थे, कस्टमर पहले ही पेमेंट भेज देते थे. इसीलिए वर्जिन के पास अच्छा कैपिटल अच्छा था. हालाँकि वर्जिन के सामने एक बड़ा चैलेंज आ गया. हुआ ये कि पोस्ट ऑफिस एम्प्लोयीज़ स्ट्राइक पे चले गए, सारे लैटर्स लॉक करके वे घर चले गए थे. एम्प्लोयीज़ ने काम पे आने से मना कर दिया, वर्जिन के मेल ऑर्डर्स रुक गए. अब रिचर्ड को एक रिकॉर्ड शॉप खोलने का आईडिया आया. लेकिन उस टाइम पे दो रिकॉर्ड शॉप्स पहले से ही मार्किट में छाई हुई थी. हालांकि दोनों बड़ी फॉर्मल और डल सी थी. लोग आते, रिकॉर्ड खरीदकर चले जाते. स्टाफ के अंदर म्यूजिक को लेकर कोई पैशन नहीं था. रिचर्ड चाहता था कि उनकी रिकॉर्ड शॉप बिलकुल स्टूडेंट मैगजीन जैसे हो जहाँ यंग लोग आये, मिलकर गाने सुने. रुककर आपस में बाते करे और थोडा गुड टाइम स्पेंड कर सके. रिचर्ड और उनके फ्रेंड निक ने ऑक्सफ़ोर्ड स्ट्रीट में प्रोपर्टी देखनी शुरू की, एक शू स्टोर के ऊपर उन्हें फ्री स्पेस मिल गया था, शॉप ओनर ने कहा” तुम्हे कोई रेंट देने की ज़रुरत नहीं है” रिचर्ड ने बोला “ नहीं, आप सही बोल रहे है, अभी हम कोई रेंट अफोर्ड भी नहीं कर सकते लेकिन हमारी शॉप में ढेर सारे लोग आयेंगे जो आपकी शॉप की विंडो से गुजरेंगे और आपकी शॉप से शूज़ लेंगे” “किस टाइप के शूज़? शॉप ओनर ने पुछा. “ जीसस सैंडल्स मार्किट में आये है, क्या आप डॉक् मार्टेन्स बेचते है “ निक ने कहा और इस तरह वर्जिन को एक फ्री स्पेस मिल गया. उन्होंने ओनर को बोला कि अगर उसे कोई रेंट देने वाला मिल गया तो वे इस शॉप को खाली कर देंगे. और फिर 5 दिनों के अंदर ही रिचर्ड और निक ने शॉप में शेल्व्स लगबा दिए, बैठने के लिए सोफा सेट और कुशंस आ गए. उन्होंने शॉप में हेडफोन्स भी रखे ताकि कस्टमर वही पर गाने सुन सके. यहाँ तक कि उनकी शॉप में फ्री म्यूजिक मैगजीन और फ्री कॉफ़ी भी रखी गयी थी. एक बार फिर से उन्होंने ऑक्सफ़ोर्ड स्ट्रीट में लीफलेट्स बांटे. ओपनिंग डे वाले दिन वर्जिन रिकार्ड्स के बाहर लोगो की लम्बी लाइन लगी थी. फर्स्ट कस्टमर ने कहा” तुम्हारे नीचे बड़ा फनी बन्दा रह्र्ता है, जब मै लाइन में खड़ा था, वो मुझे डॉक् मार्टेन्स बेचने की कोशिश कर रहा था.. शॉप क्लोजिंग के बाद रिचर्ड शॉप ओनर से मिलने गया, उसने देखा कि उसकी विंडो में डॉक् मार्टेन्स का ढेर लगा था. “बिजनेस कैसा चल रहा है? रिचर्ड ने पुछा “ एकदम बढ़िया, पहले से काफी बेहतर, ओनर बोला. शॉप ओनर से बात करने के बाद रिचर्ड बैंक के लिए निकल पड़ा क्योंकि उस दिन उसके पास कैश से भरा हुआ एक भारी बैग था. वर्ड ऑफ़ माउथ स्प्रेड, उनकी शॉप में अब ज्यादा से ज्यादा कस्टमर आने लगे थे. उन्हें वर्जिन का माहौल और एक्स्पिरियेंश अच्छा लगता था. रिचर्ड को बाड़ा प्राउड फील होता था जब कस्टमर वर्जिन के शोपिंग बैग लेकर ऑक्सफ़ोर्ड की गलियों से गुजरते थे.


“आई थॉट आई उड मूव इन” जोन ने कहा (I thought I’d move in,” Joan said.’ )

1976 में रिचर्ड अपने फ्यूचर वाइफ जोन (Joan)से मिला लेकिन प्रॉब्लम ये थी कि उस टाइम पर दोनों ही शादीशुदा थे, उनके पार्टनर्स अलग थे. जब 1 साल तक उनका रोमांस चल रहा था तब दोनों ही टफ मैरीड लाइफ से गुज़र रहे थे. जोंन (Joan) एक रिकॉर्ड प्रोड्यूसर की वाइफ थी जो मेनोर में काम करता था. रिचर्ड को पहली नज़र में ही उससे प्यार हो गया था. जोन (Joan’) का पति बिजनेस के लिए हमेशा बाहर रहता था. जोन एक एंटीक शॉप में अस्सिस्टेंट की जॉब करती थी और रिचर्ड उससे वही जाके मिलता था. शुरू में रिचर्ड ने ओल्ड हैण्ड पेंटेड साइन्स (old hand-painted signs) में इंटरेस्टेड दिखाया लेकिन जॉन (Joan) से मिलने का ये बस एक बहाना था उसके लिए. उसने जॉन से इतने साइन्स खरीद लिए थे कि उसके पास एक अच्छा खासा कलेक्शन हो गया. इस तरह दोनों में फ्रेंडशिप हो गयी थी. रिचर्ड जॉन (Joan) के साथ उसके फ्रेंड्स को भी पार्टी में बुलाने लगा था, फिर वो उनसे पूछ कर उन्हें टैग भी कर देता था. जॉन के फ्रेंड्स मज़ाक में उसे “टैग अलोंग गाए” (“tag-along guy”) बुलाते थे. लेकिन रिचर्ड किसी भी तरह बस जॉन के साथ कुछ पल बिताना चाहता था. दोनों डेनबिघ टैरेस (Denbigh Terrace) में मिलते थे जो दोनों के ऑफिस के पास पड़ता था. उस टाइम दोनों को बस यही लगता था कि जैसे इस दुनिया में बस वो दोनों ही अकेले है. लेकिन एक दिन रिचर्ड की वाइफ वापस लंदन लौट आई. क्रिस्टन तब 20 साल की थी और रिचर्ड 22 के जब दोनों की शादी हुई थी. लेकिन जब रिचर्ड जॉन को डेट कर रहे थे उन्ही दिनों क्रिस्टन किसी दुसरे आदमी के साथ चली गयी थी. हालांकि उसने रिचर्ड को बोला कि वो ये शादी फिक्स करना चाहती है. फिर एक पार्टी में क्रिस्टन, रिचर्ड और जॉन सब इनवाईटेड थे, जॉन की बेस्ट फ्रेंड लिंडा ने रिचर्ड से स्ट्रेट पूछ लिया “ तो तुम किसे चाहते हो ? “ ऐसा कब तक चलेगा ? तुम्हे कोई न कोई रास्ता तो निकालना पड़ेगा”. रिचर्ड ने हॉल के दूसरी तरफ जॉन को देखकर कहा ” मै किसी से प्यार करता हूँ लेकिन वो मुझसे प्यार नहीं करती”.लिंडा बोली “ मै बता रही हूँ कि वो यही औरत है”
अगली रात रिचर्ड जब अपने हाउसबोट ड्यूएंडे (Duende) पर अकेला था. बाहर बड़ी जोरो की बारिश हो रही थी, वो कुछ बिजनेस कॉल्स करने में बीजी था कि तभी दरवाजा खुला, वहां जॉन खड़ी थी” वेल, मैंने सोचा मुझे यहाँ आना चाहिए” उसने कहा.


लिविंग ओन द एज (Living on the edge)

रिचर्ड ने 180,000 यूरोज़(euros) में नेकर आईलैंड(Necker Island) खरीदा था. ये आईलैंड ब्रिटिश वर्जिन आईलैंड्स का एक पार्ट है. इस खूबसूरत आईलैंड पर उसने अपने फ्रेंड्स और फेमिली के साथ बहुत मेमोरेबल टाइम स्पेंड किया था. रिचर्ड और जॉन न्यूयॉर्क में थे जब अचानक उन्होंने एक ट्रिप पे जाने के बारे में सोचा. दोनों का ही अपने पार्टनर्स से सेपरेशन होने वाला था. रिचर्ड ने वर्जिन आईलैंड के चक्कर लगाने के लिए एक हेलीकॉप्टर का अरेंजमेंट किया. उसने रियल एस्टेट के मालिक को अपने वर्जिन मयूजिक की सक्सेस के बारे में बताया. उसने ये भी कहा कि वो रीकार्डिंग आर्टिस्टो के लिए एक वेकेशन प्लेस देख रहा है. ये सुनकर रियल एस्टेट का ओनर रिचर्ड और जॉन को ख़ुशी-ख़ुशी आईलैंड दिखाने ले गया. ये एक छोटा सा आईलैंड था जिसका मालिक ब्रिटिश लार्ड था जो इसे बेचना चाहता था. आईलैंड काफी सुनसान लेकिन चारो तरफ से व्हाइट सेंड और क्लियर ब्ल्यू-सी से घिरा हुआ था. रिचर्ड को इस आईलैंड की नेचुरल ब्यूटी बड़ी पसंद आई. उसे पता चला कि नेकर आईलैंड 3 मिलियन यूरोज़ में बिक रहा है, उसने इंटरेस्ट दिखाया तो एजेंट ने पुछा ‘आप कितना खर्च कर सकते है?’ तो रिचर्ड ने कहा‘ हम इसका £150,000 देंगे. उसके बाद रियल एजेंट के तेवर बदल गए. रिचर्ड और जॉन वापस लंदन लौट आये. वहां पहुँच कर रिचर्ड को मालूम पड़ा कि ब्रिटिश लार्ड उस आईलैंड को जल्द से जल्द बेचना चाहता है क्योंकि उसे स्कॉटलैंड में एक बिजनेस सेट करना था. रिचर्ड ने उसे £175,000 का ऑफर दिया.

तीन महीने बाद रिचर्ड को एक कॉल आई” अगर आप £180,000 दे रहे है तो आईलैंड आपका हुआ” और इस तरह रिचर्ड ने नेकर आईलैंड खरीद लिया. बाद में वो जॉन को वहां होली-डे के लिए लेकर गया. बीफ आई लैंड पर दोनों को प्यूरटो रिको (Puerto Rico) के लिए फ्लाईट पकड़ने वाले थे लेकिन फ्लाईट कैंसिल हो गयी तो रिचर्ड को एक ब्रीलिएंट बिजनेस आईडिया आया,खुद की एयरलाइन्स सर्विस खोलने का प्लान वर्जिन एयरलाइन्स के नाम से. वहां पर रिचर्ड और जॉन के अलावा बहुत से स्ट्रानडेड पेसेंजेर(stranded passengers) भी थे. रिचर्ड ने कुछ कॉल्स किये और $2,000 में एक चार्टेड प्लेन का बुला लिया. उसने वहां खड़े पेसेंजेर्स को खाली सीट्स बेच दी, एक ब्लैक बोर्ड में उसने लिखा” वर्जिन एयरवेज़ : $ 39 सिंगल फ्लाईट टू प्यूरटो रिको” (VIRGIN AIRWAYS: $39 SINGLE FLIGHT TO PUERTO RICO) उसने चार्टेड प्लेन की सारी सीट्स बेच दी थी. इस तरह उसे अपना पैसा भी वापस मिल गया था. और जब वे लोग प्यूरटो रिको (Puerto Rico) में लैड हो रहे थे तो एक पेसेंजर रिचर्ड के पास आकर बोला वर्जिन एयरवेज़ बुरी नहीं है– अगर सर्विस थोड़ी बैटर करोगे तो तुम्हारा बिजनेस अच्छा चलेगा”


“शायद मै ऐसा ही करूँगा” रिचर्ड ने जवाब दिया.

सक्सेस केन टेक ऑफ विदाऊट वार्निंग (Success can take off without warning)

वर्जिन रिकार्ड्स ने ट्यूबुलर बेल्स से काफी पैसा कमाया जो म्यूजीशियन माइक ओल्डफील्ड का एक एल्बम था. लेकिन जिन आर्टिस्टस ने उन्हें मेनस्ट्रीम तक पहुँचाया वो थे, सेक्स पिस्टोल्स और बॉय ज्योर्ज. 1981 में वर्जिन रिकार्ड्स ने बॉय ज्योर्ज और कल्चर क्लब नाम के एक रेगी(reggae) बैंड को साइन किया. रिचर्ड जब फर्स्ट टाइम बॉय ज्योर्ज से मिले तो शॉक रह गए, बॉय ज्योर्ज एक ब्यूटीफुल ड्रैग क्वीन लुक और सॉफ्ट वौइस् वाला आर्टिस्ट था. उसने ड्रेड लॉक वाली हेयर स्टाइल रखी हई थी और फेस व्हाईट और आई ब्रोव्स आर्च थी. उसने एक कलरफुल रोब्स पहना हुआ था. बॉय ज्योर्ज का थर्ड सिंगल का टाईटल “डू यू रियली वांट टू हर्ट मी?” (Do you really want to hurt me?”) काफी हिट हुआ. वो रातो-रात एक पोपुलर आइकोन बन गया था, और ये चीज़ रिचर्ड ने पहले ही प्रेडिक्ट कर ली थी. “किसिंग टू बी क्लीवर” ( “Kissing to Be Clever”) एल्बम की 4 मिलियन कॉपीज बिकी. लेकिन वर्जिन रिकार्ड्स और बॉय ज्योर्ज की किस्मत जिसने बदली वो सोंग था “कर्मा कमिलियन”Karma Chameleon.”. इसने पूरी दुनिया में धूम मचा दी थी, ये गाना यूके में ही नहीं बल्कि जापान, घाना और बाकी कंट्रीज में भी नंबर 1 पोजीशन पर था.
1980 में वर्जिन को 900,000 यूरोज़ का घाटा हुआ लेकिन धीरे-धीरे कंपनी फिर से रिकवर हुई.  1983 में वर्जिन की सेल्स 94 मिलियन यूरोज़ तक पहुँचगयी थी.रिचर्ड को लगा कि लोग इस ह्यूज़ सक्सेस से अफ्रेड है लेकिन उससे नहीं. उसे हमेशा से ही रिस्क लेना पसंद था, वो अपनी लाइफ में एक्साईटमेंट और थ्रिल चाहता था.


‘यू गो अहेड विथ दिस ओवर माई डेड बॉडी (You go ahead with this over my dead body)’

बिजनेस में रिचर्ड का अप्रोच कुछ ऐसा था कि जब भी वर्जिन को बड़ा प्रॉफिट होता, वो किसी वेंचर में इन्वेस्ट कर देता था. एयरलाइन्स इंडस्ट्री उसे इंट्रेस्टिंग लगी इसीलिए वो इस बिजनेस में आया था. वर्जिन ब्रांड वैसे ही अपनी फन और एक्साईटमेंट वाली इमेज के लिए फेमस था. रिचर्ड लाइफ हर तरीके से एन्जॉय करना चाहता था इसीलिए वो नए एक्स्पिरियेंश करता रहता था. एक दिन रंदोल्फ़ फील्ड्स (Randolph Fields ) जोकि एक लॉयर था उसने रिचर्ड से पुछा क्या वो एक एयरलाइन्स चलाने में इंट्रेस्टेड है ? रिचर्ड को आईडिया पसंद आया उसने सोचा क्यों नहीं ट्राई किया जाये, जब उसने वर्जिन रिकार्ड्स के अपने पार्टनर्स से इस बारे में बात की तो उन्हें कोई ख़ास एक्साईटमेंट नहीं हुई, उन्हें ये कम्पनी के लिए एक बड़ा रिस्क लग रहा था. उसके लॉन्ग टाइम पार्टनर और कजिन सिमोन( Simon ) ने कहा “यू गो अहेड विथ दिस ओवर माई डेड बॉडी” लेकिन रिचर्ड को कोई फर्क नहीं पड़ा. रिचर्ड ने सिविल एविएशन ऑथरिटी से परमिशन ले ली , उसने बोइंग से भी एक लीजिंग एग्रीमेंट कर लिया था. वर्जिन बोइंग एक साल के लिए 747 (Boeing 747 ) एयरक्राफ्ट्स यूज़ कर सकता था. रिचर्ड के हिसाब से अब तक सब ठीक चल रहा था.
वर्जिन एयरलाइन्स ने अपनी फर्स्ट फ्लाइट ली. इस प्लेन का नाम मेडेन वोएजर(Maiden Voyager) था. इसके पेसेंजेर्स में रिचर्ड की फेमिली और क्लोज फ्रेंड्स थे. रिचर्ड अपनी वाइफ जॉन और बेटी होली के साथ बैठा. उनके पीछे जर्नलिस्ट, फोटोग्राफर्स और पूरा वर्जिन स्टाफ बैठा था.
यूके से न्यू यॉर्क के बीच 8 घंटे की ये फ्लाईट किसी पार्टी से कम नहीं थी. उन लोगो ने शेम्पेन पी , और मैडोना के लेटेस्ट सोंग्स” लाइक अ वर्जिन” पर डांस किया.

द वर्ल्ड’स बिगेस्ट बलून (The world’s biggest balloon

पर लिंडस्ट्रेंड (Per Lindstrand) एक रिकॉर्ड ब्रेकर हॉट बलून एक्सपर्ट था. उसने एक दिन रिचर्ड को कॉल करके अपने साथ वर्ल्ड का बिगेस्ट हॉट एयर बलून बनाने के लिए इनवाईट किया जिस में बैठकर उन्हें अटलांटिक क्रोस करना था. इससे पहले किसी ने भी 27 घंटे से ज्यादा हॉट एयर बलून में सवारी नहीं की थी. कोई भी 600 माइल्स से आगे नहीं उड पाया था. रिचर्ड इस आईडिया को लेकर बड़ा एक्साइटेड था, अगर वो लोग अटलांटिक क्रोस कर लेते तो ये 3,000 माइल्स होगा. रिचर्ड जब फर्स्ट टाइम पर से मिला तो उससे कहा “मै तुम्हारे साथ चलने को तैयार हूँ लेकिन पहले मेरे एक सवाल का जवाब दोगे? ” पर को मालूम था कि रिचर्ड कोई मुश्किल सवाल करेगा, वो इसके लिए रेडी था, उसने कहा” पूछो” “क्या तुम्हारे बच्चे है ? रिचर्ड ने पुछा. पर बोला ”हाँ मेरे दो बच्चे है’
इस बात पर रिचर्ड ने पर से हाथ मिलाया और बोला” मै चलूँगा तुम्हारे साथ, लेकिन मै इस बारे में थोडा लर्न कर लूँ पहले”
और इस तरह रिचर्ड ने बलूनिंग में एक क्रेश कोर्स किया. उन्हें जितनी ज्यादा ट्रेनिंग मिलती गयी उतनी ही उनकी एक्साईटमेंट भी बडती जा रही थी. उन्होंने मेन (Maine) से बलून फ्लाइट लांच करने का डिसीज़न लिया .
एक्सपर्ट इंस्ट्रकटर (expert instructor) टॉम ने उनसे कहा ”“ आप यहाँ तक आ चुके हो, लेकिन अगर डर लग रहा है या कोई हेल्थ प्रॉब्लम है तो बता दो, मै अभी इस प्रोजेक्ट को अबो्र्ट कर दूंगा.”
“नो” रिचर्ड बोला, यही तो इस फ्लाइट की शर्त है, अगर आपमें थोड़ी क्रेजीनेस ना हो तो यहाँ आना ही बेकार है”

‘आई वाज़ ऑलमोस्ट सर्टेनली गोइंग टू डाई” (I was almost certainly going to die.’

पर और रिचर्ड रात के 2 बजे उठे, बाहर एकदम अँधेरा था. दोनों हॉट एयर बलून में बैठ गए. सिर्फ 10 घंटे में ही उन्होंने हवा 900 माइल्स का ट्रेवल कर लिया था. नेक्स्ट मोर्निंग वर्जिन प्लेन मेडेन वोयेजर (Virgin plane Maiden Voyager) ने उन्हें ग्रीट किया, रिचर्ड ने अपनी माँ की आवाज़ स्पीकर्स पर सुनी, वो बोल रही थी” फास्टर, रिचर्ड फास्टर, वी विल रेस यू” पूरे 29 घंटे तक हॉट एयर बलून बिना किसी प्रोब्लम के उड़ता रहा. रिचर्ड और पर ने सोचा कि क्यों ना एक्सेस फ्यूल टैंक्स एम्प्टी फील्ड्स में खाली किया जाए. पर ने प्रोपेन रीड्यूस कर दी ताकि वे लोग थोडा नीचे आ सके. लेकिन तभी बड़े जोरो की हवा चलने लगी जिससे उनका बलून ग्राउंड पे आके लगा. उनका सारे फ्यूल टैंक्स खत्म हो गए और वेट कम हो जाने से बलून एक तरफ लुढक गया. दोनों बलून के साथ घिसटते चले गए. पर ने बलून को ओपन सी की तरफ ले जाने की पूरी कोशिश की. लेकिन तेज़ हवा की वजह से बलून तेज़ी से भाग रहा था. एक पॉइंट ऐसा भी आया जब पर पानी में कूद गया. लेकिन रिचर्ड केपस्यूल (capsule) के अंदर रह गया था. बलून फिर से हवा में 12,000 फीट ऊपर उड़ने लगा. घने बादलो की वजह से रिचर्ड को कुछ समझ नहीं आ रहा था कि वो कहाँ है. रिचर्ड को लगा कि अब वो बचेगा नहीं, उसने बची हुई प्रोपेन बर्न कर दी और जैसे ही बलून नीचे आने लगा, वो समुंद्र में कूद पड़ा. उनसे जल्दी से अपनी नोटबुक निकाली और लिखा” “जॉन, होली, सैम, आई लव यू”. 50 फीट की उंचाई पर रिचर्ड में अपनी लाइफ जैकेट सिक्योर कर ली, आइस कोल्ड वाटर से बचने के लिए उसने जैकेट कस के बांध ली थी. पानी के साथ-साथ वो बहता जा रहा था और देख रहा था कि वर्ल्ड का बिगेस्ट हॉट एयर बलून बादलो में कहीं दूर चला गया था. उसका लक अच्छा था कि एक आरएऍफ़ हेलीकॉप्टर (RAF helicopter)ने उसे बचा लिया था. ‘ हम तुम्हे अपनी बोट में ले के जा रहे है” पायलट ने कहा. ‘मै ठीक हूँ लेकिन मुझे पर को ढूँढना है, ” रिचर्ड ने जवाब दिया. रिचर्ड को गरम पानी से नहलाया गया, आधे घंटे बाद पायलट ने अनाउंस किया “हमें वो दिख गया, पानी में स्विम कर रहा है, वो जिंदा है” पर ने कोई लाइफ जैकेट नहीं पहन रखी थी, उसे 2 घंटे हो गए थे बर्फ जैसे ठंडे पानी में तैरते हुए. दोनों जब बोट पे मिले तो रिचर्ड और पर ने एक दुसरे को टाईट हग दिया. पर सरवाईवाल ब्लेंकेट में लिपटा हुआ था, उसकी स्किन ब्ल्यू हो चुकी थी और दांतो का किटकिटाना बंद ही नहीं हो रहा था. लेकिन एक बात कि दोनों ने वर्ल्ड का बिगेस्ट हॉट एयर बलून उड़ाकर रिकॉर्ड तोड़ दिया था. उन्होंने अटलांटिक क्रोस कर लिया था. और दोनों इस बात पे हैरान थे कि उनकी जान बच गयी.


‘हु द हेल डज़ रिचर्ड ब्रान्सन थिंक ही इज?”

ये 1990 की बात थी जब इराक ने कुवैत पे अटैक किया जिसकी वजह से आयल की कीमतों में भारी उछाल आ गया था. एवीएशन फ्यूल (aviation fuel) बहुत ज्यादा महंगा हो गया और इसका अफेक्ट वर्जिन एयरलाइन पर भी पड़ा, और उनके पेसेंजेर्स भी कम हो रहे थे. रिचर्ड ब्रान्सन उस टाइम 40 की थे. वो अभी तक वर्जिन रिकार्ड्स और वर्जिन एयरलाइन्स मैनेज करते आ रहे थे. हॉट एयर बलून वाले हादसे में भी वो बच गए थे, अब वो कुछ नया एडवेंचर करना चाहते थे. बलून ट्रिप्स की वजह से रिचर्ड की दोस्ती जॉर्डन के किंग हुसैन और क्वीन नूर से हुई, किंग ने रिचर्ड को अपने पैलेस में रहने के लिए इनवाईट किया. और क्वीन ने रिचर्ड से कहा कि वो उनकी रॉयल फेमिली को भी बलून उडाना सिखा दे.

उस टाइम पर कई सारे फॉरन वर्कर्स (foreign workers) ईराक से भागकर जॉर्डन आये थे जहाँ वे मेकशिफ्ट कैम्पस में रहते थे. उनके पास पानी नहीं था और ना ही हीट और कोल्ड से कोई प्रोटेक्शन. रिचर्ड ने क्वीन नूर से पुछा कि वो उन वर्कर्स की हेल्प करना चाहता है. उस पता चला कि पानी का अरेंजमेंट रेड क्रॉस की तरफ से हो रहा है, रिचर्ड ने अपनी तरफ से 40,000 से ज्यादा बलेंकेट्स डोनेट किये, उसने वर्जिन के एक 747 की भी सीट्स निकलवा ली. राइस बैग्स,ब्लंकेटस (blankets) और मेडिकल सप्लाईज रिफ्यूजी लोगो के लिए भेज दी गयी. रिचर्ड अमान (Amman) में ही रुक गया. उसने टीवी पर सद्दाम हुसैन को ब्रिटिश होस्टेजेस के साथ टीवी पे देखा, उसे लगा कि अगर उसे परमिशन मिल जाए तो वो इन होस्टेजेस के घर जा सकता है. रिचर्ड ब्रान्सन ने सद्दाम हुसैन को एक लैटर लिखा जिसमे उसने मेडिकल सप्प्लाईज के बदले में कुछ होस्टेजेस को छोड़ने की रिक्वेस्ट की थी. उसने लिखा कि बीमार लोगो, औरतो और बच्चो को छोड़ दिया जाए. किंग हुसैन ने उसका लैटर अरेबिक में ट्रांसलेट किया. कई दिनों बाद सद्दाम हुसैन का रिप्लाई आया. वो होस्टेजेस को छोड़ने को रेडी था लेकिन कोई बड़ा आदमी उसे पब्लिक में ऐसा करने को बोले. रिचर्ड ने फॉर्मर ब्रिटिश प्राइम मिनिस्टर टेड हीथ(Ted Heath) को कॉल किया. सद्दाम हुसैन ने अपना प्रोमिस निभाया और होस्टेजेस को फ्लाइट से सेफली (safely) बग़दाद भेज दिया गया. वर्जिन अटलांटिक के प्लेन में रिचर्ड और टेड के साथ जर्नलिस्ट्स, होस्टेजेस की फेमिली और डॉक्टर्स और नर्स भी थे. बग़दाद एयरपोर्ट पर उन्हें सोल्जेर्स और गोवेर्नमेंट ओफिशिय्ल्स (government officials) मिले. वे लोग डिपार्चर लौंज (departure lounge) में टेड हीथ (Ted Heath) का वेट कर रहे थे और थोड़ी देर बाद ही टेड हीथ होस्टेजेस को लेकर वापस आये. होस्टेजेस अपनी फेमिली से मिले, सब गले मिलाकर रो रहे थे. टेड हीथ ने ख़ुशी से सबके साथ हाथ मिलाया. रिचर्ड ने शैम्पेन की बोटल्स खोल दी थी. हालांकि वे सब को नहीं ला पाए थे, ये एक स्माल सक्सेस थी. फिर भी जो लोग वहां से जिंदा बच आये उनके लिए ये बड़ी ख़ुशी का मौका था. बोईंग 747 में पार्टी का माहौल था. लोग एक दुसरे से अपनी स्टोरी शेयर करते हुए शैम्पेन पी रहे थे. 
दो मंथ्स बाद बोम्ब से बग़दाद एयरपोर्ट उड़ा दिया गया. “हु द हेल रिचर्ड ब्रान्सन थिंक ही इज? पार्ट ऑफ़ द ब्लडी फॉरेन ऑफिस?” ये स्टेटमेंट था लार्ड किंग का, हेड ऑफ़ ब्रिटिश एयरवेज़, वर्जिन एयरलाइन्स की स्ट्रोंग कॉम्पटीटर्स.

डाइवरसिटी एंड एडवरसिटी (Diversity and Adversity)

उम्र के साथ-साथ रिचर्ड काफी मैच्योर होते गए. उन्होंने एनवायरमेंटल और सोशल इस्श्यूज के लिए वर्जिन यूनाईट स्टार्ट की. वर्जिन यूनाईट साउथ अफ्रीका, यूके, यू.एस. और बाकी कई और भी कंट्रीज में आज भी चैरिटी वर्क कर रही है. साल 2004 में रिचर्ड ब्रेड पिट के साथ साउथ अफ्रीका गए जहाँ वे एचआईवी/एड्स (HIV/AIDS) के पेशेंट्स से मिले. उन्हें पता चला कि सब सहारा अफ्रीका में एड्स, मलेरिया और टीबी जैसे बिमारी से हर रोज़ 15,000 लोगो मर रहे है. रिचर्ड अब नेल्सन मंडेला के भी क्लोज फ्रेंड बन गए थे. रिचर्ड अब अपना ज्यादा टाइम एनवायरमेंट और सोशल इश्यूज को देने लगे थे.. मरीजो की भीड़ से भरे हॉस्पिटल्स और ओरफ्नेज (orphanages) जाकर उनको बड़ा दुःख होता था. उन्हें लगता था कि अफ्रीका जैसी कंट्रीज में कई अपोरच्यूनिटीज है जहाँ लोगो की हेल्प की जा सकती है. वर्जिन यूनाईट ने कई नॉन-गवर्नमेंट ओर्गेनाइजेश्न्स जैसे कि यूएन से पार्टनरशिप की. साल 2005 में रिचर्ड ने यू.एस. सीनेट में एक स्पीच दी जोकि एचआईवी/एड्स पर कोलिशन (coalition) को लेकर उनके प्लान के बारे में थी. रिचर्ड को पता चला कि बुश गवर्नमेंट एचआईवी/एड्स के लिए तो काफी फंडिंग करती है लेकिन कंडोम यूज़ के लिए नहीं. एचआईवी मल्टीपल पार्टनर के साथ सेक्स करने से होता है जैसे मधुमक्खी हर फूल पे जाती है. इस प्रोसेस को ग्रेज़िंग कहते है. डिस्कसन के दौरन एक पॉइंट पे एक रीपब्लिकन स्पीकर खड़ा हुआ और बोला “लोगो को सेक्स करना ही नहीं चाहिए” रिचर्ड अपने जगह से उठे और बोले “वाह! क्या बात है लेकिन ये रियलस्टिक नहीं है” लोग तो ग्रेज़िंग करेंगे ही लेकिन उन्हें ग्रेज़िंग के टाइम कंडोम पहनना चाहिए, अगर कंडोम नहीं तो लव् नहीं”

साल 2007 में रिचर्ड ने वर्जिन अर्थ चैलेन्ज अनाउंस किया जिसमे $25 मिलियन का प्राइज़ रखा गया कि जो कोई भी ग्रीनहाउस गैसेस का कोई इफेक्टिव सोल्यूशन निकालेगा, उसे ये प्राइज़ मिलेगा. क्लाइमेट चेंज को लेकर रिचर्ड अल गोर (Al Gore) के भी काफी क्लोज रहे.

कनक्ल्यूजन (Conclusion)

आपने इस बुक में रिचर्ड ब्रान्सन की अमेजिंग स्टोरी पढ़ी, वो एक ऐसे इंसान है जो लोगो को इंस्पायर करते है कि लाइफ में फन करो और रिस्क लो. उन्हें अपने बिजनेस और एडवेंचर्स में कोई बाउंडरीज नजर नहीं आती थी, और रिचर्ड ब्रान्सन आज भी खुलकर अपनी लाइफ जी रहे है.


Don't Miss -


  1. Elon Musk Biography Book Summary in Hindi
  2. Steve Jobs Biography in Hindi
  3. Rich Dad Poor Dad Book Summary In Hindi
  4. Think and Grow Rich Book Summary In Hindi
  5. Book Summary in Hindi - Why A Students Work for C Students
  6. The Subtle Art of Not Giving A F*ck Book Summary in Hindi
  7. The Power Of Your Subconscious Mind Best Book Summary In Hindi

तो दोस्तों आपको आज का हमारा यह Book समरी (Losing My Virginity Book Summary in Hindi - Richard Branson की सक्सेसफुल लाइफ स्टोरी) कैसा लगा नीचे कमेंट करके जरूर बताये और इस समरी (Losing My Virginity Book Summary in Hindi - Richard Branson की सक्सेसफुल लाइफ स्टोरी) को अपने दोस्तों के साथ share भी जरूर करे।


आपका बहुमूल्य समय देने के लिए दिल से धन्यवाद,

Wish You All The Very Best.

Post a Comment

0 Comments