गुरुवार

Chanakya Niti in Hindi चाणक्य नीति - अच्छा मनुष्य कौन हैं ?

  Rocktim Borua       गुरुवार

Chanakya Niti in Hindi चाणक्य नीति - अच्छा मनुष्य कौन हैं ?


Chanakya Niti in Hindi चाणक्य नीति - अच्छा मनुष्य कौन हैं


अधीत्येदं यथाशास्त्रं नरो जानाति सत्तमः ।
धर्मोपदेशविश्यातं कार्याऽकार्याशुभाशुभम् ।।



अर्थात धर्म का उपदेश देनेवाले, कार्य-अकार्य, शुभ-अशुभ को बतानेवाले चाणक्य नीतिशास्त्र
को पढ़कर जो सही रूप में इसे जानता है, वही श्रेष्ठ मनुष्य है।

 चाणक्य जी ने अपने नीतिशास्त्र में धर्म की व्याख्या करते हुए क्या करना चाहिए, क्या नहीं करना चाहिए; क्या अच्छा है, क्या बुरा है इत्यादि ज्ञान का वर्णन किया गया है। चाणक्य जी के अनुसार उसके द्वारा लेखी गयी नीतिशास्त्र के अध्ययन करके इसे अपने जीवन में उतारनेवाला मनुष्य ही श्रेष्ठ मनुष्य हैं। और जो चाणक्य के द्वारा लेखी हुई नीतिशास्त्र को पढता है वे अपने जीवन बहुत उन्नति कर सकते है, इंसान जैसा जीवन जीने के लिए सहायक है।

 आचार्य विष्णुगुप्त (चाणक्य) का यहां कहना है कि ज्ञानी व्यक्ति नीतिशास्त्र को पढ़कर जान लेता है कि उसके लिए करणीय क्या है और न करने योग्य क्या है। साथ ही उसे कर्म के भले-बुरे के बारे में भी ज्ञान हो जाता है। कर्तव्य के प्रति व्यक्ति द्वारा ज्ञान से अर्जित यह दृष्टि ही धर्मोपदेश का मुख्य सरोकार और प्रयोजन है। कार्य के प्रति व्यक्ति का धर्म ही व्यक्ति-धर्म (मानव-धर्म) कहलाता है अर्थात् मनुष्य अथवा किसी वस्तु का गुण और स्वभाव, जैसे अग्नि का धर्म जलाना और पानी का धर्म बुझाना है उसी प्रकार राजनीति में भी कुछ कर्म धर्मानुकूल होते हैं और बहुत कुछ धर्म के विरुद्ध होते हैं।

 गीता में कृष्ण ने युद्ध में अर्जुन को क्षत्रिय का धर्म इसी अर्थ में बताया था कि रणभूमि में सम्मुख शत्रु को सामने पाकर युद्ध ही क्षत्रिय का एकमात्र धर्म होता है। युद्ध से पलायन या विमुख होना कायरता कहलाती है। इसी अर्थ में आचार्य चाणक्य धर्म को ज्ञानसम्मत मानते हैं।




 तो दोस्तों आपको आज का हमारा यह चाणक्य नीति कैसा लगा और इससे आपको क्या सीखने को मिला मुझे नीचे कमेंट करके जरूर बताये और इस चाणक्य नीति आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ share जरूर करना।


आपका बहुमूल्य समय देने के लिए दिल से धन्यवाद,

Wish You All The Very Best.
logoblog

Thanks for reading Chanakya Niti in Hindi चाणक्य नीति - अच्छा मनुष्य कौन हैं ?

Previous
« Prev Post

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें