5 अकबर बीरबल की कहानी इन हिंदी

5 अकबर बीरबल की कहानी इन हिंदी – Hello दोस्तों, आज मैं आपके लिए 5 ऐसे बुद्धिमानी बीरबल की स्टोरी लेके आया हूँ, जिसको पढ़के आपको बहुत अच्छा लगेगा, अकबर-बीरबल की स्टोरी बचपन में किसने नहीं सुना है, कितनो ने अपने स्कूल टाइम ये स्टोरी पढ़ा है, और आज भी वही स्टोरी हमे पढ़ना अच्छा लगता है, इसलिए मैं आपके लिए 5 ऐसे ही स्टोरी संग्रह करके लेके आया हूँ।

 

बीरबल को हाजिर जवाबी और बड़ी से बड़ी प्रॉब्लम का सामना करने वालो के नाम से जाने जाते हैं। अकबर-बीरबल की कहानियां बचपन से हमे आकर्षित करता रहा है। पूरी हिस्ट्री में ऐसी इंसान नहीं थे।

 

तो चलिए शुरू करते हैं –

 

5 अकबर बीरबल की कहानी इन हिंदी

 

अब तो आन पड़ी है

 

अकबर बादशाह को मजाक करने की आदत थी।

 

एक दिन उन्होंने नगर के सेठों से कहा – “आज से तुम लोगों को पहरेदारी करनी पड़ेगी।”

 

सुनकर सेठ घबरा गए और बीरबल के पास पहुँचकर अपनी फरियाद रखी।

 

बीरबल ने उन्हें हिम्मत बँधायी, “तुम सब अपनी पगड़ियों को पैर में और पायजामों को सिर पर लपेटकर रात्रि के समय में नगर में चिल्ला-चिल्लाकर कहते फिरो, अब तो आन पड़ी है।”

 

उधर बादशाह भी भेष बदलकर नगर में गश्त लगाने निकले। सेठों का यह निराला स्वांग देखकर बादशाह पहले तो हँसे, फिर बोले – “यह सब क्या है ?”

सेठों के मुखिया ने कहा – “जहाँपनाह, हम सेठ जन्म से गुड़ और तेल बेचने का काम सीखकर आए हैं, भला पहरेदीर क्या कर पाएँगे, अगर इतना ही जानते होते तो लोग हमें बनिया कहकर क्यों पुकारते?”

बादशाह अकबर बीरबल की चाल समझ गए और अपना हुक्म वापस ले लिया।

 

 

ईश्वर अच्छा ही करता है

 

बीरबल एक ईमानदार तथा धर्म-प्रिय व्यक्ति था। वह प्रतिदिन ईश्वर की आराधना किया करता था। इससे उसे नैतिक व मानसिक बल प्राप्त होता था।

 

वह अक्सर कहा करता था कि “ईश्वर जो कुछ भी करता है मनुष्य के भले के लिए ही करता है, कभी-कभी हमें ऐसा लगता है कि ईश्वर हम पर कृपादृष्टि नहीं रखता, लेकिन ऐसा होता नहीं। कभी-कभी तो उसके वरदान को भी लोग शाप समझने की भूल कर बैठते हैं। वह हमको थोड़ी पीड़ा इसलिए देता है ताकि बड़ी पीड़ा से बच सकें।”

 

एक दरबारी को बीरबल की ऐसी बातें पसंद न आती थीं। एक दिन वही दरबारी दरबार में बीरबल को संबोधित करता हुआ बोला, ‘‘देखो, ईश्वर ने मेरे साथ क्या किया। कल शाम को जब मैं जानवरों के लिए चारा काट रहा था तो अचानक मेरी छोटी उंगली कट गई। क्या अब भी तुम यही कहोगे कि ईश्वर ने मेरे लिए यह अच्छा किया है ?’’

 

कुछ देर चुप रहने के बाद बीरबल बोला, ‘‘मेरा अब भी यही विश्वास है क्योंकि ईश्वर जो कुछ भी करता है मनुष्य के भले के लिए ही करता है।’’

 

सुनकर वह दरबारी नाराज हो गया कि मेरी तो उंगली कट गई और बीरबल को इसमें भी अच्छाई नजर आ रही है। मेरी पीड़ा तो जैसे कुछ भी नहीं। कुछ अन्य दरबारियों ने भी उसके सुर में सुर मिलाया।

 

तभी बीच में हस्तक्षेप करते हुए बादशाह अकबर बोले, “बीरबल हम भी अल्लाह पर भरोसा रखते हैं, लेकिन यहां तुम्हारी बात से सहमत नहीं। इस दरबारी के मामले में ऐसी कोई बात नहीं दिखाई देती जिसके लिए उसकी तारीफ की जाए।”

 

बीरबल मुस्कराता हुआ बोला, “ठीक है जहांपनाह, समय ही बताएगा अब।”

 

तीन महीने बीत चुके थे। वह दरबारी, जिसकी उंगली कट गई थी, घने जंगल में शिकार खेलने निकला हुआ था। एक हिरन का पीछा करते वह भटककर आदिवासियों के हाथों में जा पड़ा। वे आदिवासी अपने देवता को प्रसन्न करने के लिए मानव बलि में विश्वास रखते थे। अतः वे उस दरबारी को पकड़कर मंदिर में ले गए, बलि चढ़ाने के लिए। लेकिन जब पुजारी ने उसके शरीर का निरीक्षण किया तो हाथ की एक उंगली कम पाई।

 

‘‘नहीं, इस आदमी की बलि नहीं दी जा सकती।’’ मंदिर का पुजारी बोला, ‘‘यदि नौ उंगलियों वाले इस आदमी को बलि चढ़ा दिया गया तो हमारे देवता बजाय प्रसन्न होने के क्रोधित हो जाएंगे, अधूरी बलि उन्हें पसंद नहीं। हमें महामारियों, बाढ़ या सूखे का प्रकोप झेलना पड़ सकता है। इसलिए इसे छोड़ देना ही ठीक होगा।’’

 

और उस दरबारी को मुक्त कर दिया गया।

अगले दिन वह दरबारी दरबार में बीरबल के पास आकर रोने लगा।

 

तभी बादशाह भी दरबार में आ पहुंचे और उस दरबारी को बीरबल के सामने रोता देखकर हैरान रह गए।

“तुम्हें क्या हुआ, रो क्यों रहे हो ?” अकबर ने सवाल किया।

 

जवाब में उस दरबारी ने अपनी आपबीती विस्तार से कह सुनाई। वह बोला, “अब मुझे विश्वास हो गया है कि ईश्वर जो कुछ भी करता है, मनुष्य के भले के लिए ही करता है। यदि मेरी उंगली न कटी होती तो निश्चित ही आदिवासी मेरी बलि चढ़ा देते। इसीलिए मैं रो रहा हूं, लेकिन ये आंसू खुशी के हैं। मैं खुश हूं क्योंकि मैं जिन्दा हूं। बीरबल के ईश्वर पर विश्वास को संदेह की दृष्टि से देखना मेरी भूल थी।”

 

अकबर ने मंद-मंद मुस्कराते हुए दरबारियों की ओर देखा, जो सिर झुकाए चुपचाप खड़े थे। अकबर को गर्व महसूस हो रहा था कि बीरबल जैसा बुद्धिमान उसके दरबारियों में से एक है।

 

 

ऊँट की गर्दन

 

अकबर बीरबल की हाज़िर जवाबी के बडे कायल थे। एक दिन दरबार में खुश होकर उन्होंने बीरबल को कुछ पुरस्कार देने की घोषणा की। लेकिन बहुत दिन गुजरने के बाद भी बीरबल को पुरस्कार की प्राप्त नहीं हुई। बीरबल बडी ही उलझन में थे कि महाराज को याद दिलायें तो कैसे?

 

एक दिन महाराजा अकबर यमुना नदी के किनारे शाम की सैर पर निकले। बीरबल उनके साथ था। अकबर ने वहाँ एक ऊँट को घुमते देखा। अकबर ने बीरबल से पूछा, “बीरबल बताओ, ऊँट की गर्दन मुडी क्यों होती है”?

 

बीरबल ने सोचा महाराज को उनका वादा याद दिलाने का यह सही समय है। उन्होंने जवाब दिया – “महाराज यह ऊँट किसी से वादा करके भूल गया है, जिसके कारण ऊँट की गर्दन मुड गयी है। महाराज, कहते हैं कि जो भी अपना वादा भूल जाता है तो भगवान उनकी गर्दन ऊँट की तरह मोड देता है। यह एक तरह की सजा है।”

 

तभी अकबर को ध्यान आता है कि वो भी तो बीरबल से किया अपना एक वादा भूल गये हैं। उन्होंने बीरबल से जल्दी से महल में चलने के लिये कहा। और महल में पहुँचते ही सबसे पहले बीरबल को पुरस्कार की धनराशी उसे सौंप दी, और बोले मेरी गर्दन तो ऊँट की तरह नहीं मुडेगी बीरबल। और यह कहकर अकबर अपनी हँसी नहीं रोक पाए।

और इस तरह बीरबल ने अपनी चतुराई से बिना माँगे अपना पुरस्कार राजा से प्राप्त किया।

 

 

आदमी एक रूप तीन

 

एक बार बादशाह अकबर ने बीरबल से पूछा, “क्या तुम हमें तीन तरह की खूबियां एक ही आदमी में दिखा सकते हो?”

 

“जी हुजूर, पहली तोते की, दूसरी शेर की, तीसरी गधे की। परन्तु आज नहीं, कल।” बीरबल ने कहा।

 

“ठीक है, तुम्हें कल का समय दिया जाता है”, बादशाह ने इजाजत देते हुए कहा।

 

अगले दिन बीरबल एक व्यक्ति को पालकी में डालकर लाया और उसे पालकी से बाहर निकाला। फिर उस आदमी को शराब का एक पैग दिया। शराब पीकर वह आदमी डरकर बादशाह से विनती करने लगा- “हुजूर! मुझे माफ कर दो। मैं एक बहुत गरीब आदमी हूं।” बीरबल ने बादशाह को बताया, “यह तोते की बोली है”

 

कुछ देर बाद उस आदमी को एक पैग और दिया तो वह नशे में बादशाह से बोला, “अरे जाओ, तुम दिल्ली के बादशाह हो तो क्या, हम भी अपने घर के बादशाह हैं। हमें ज्यादा नखरे मत दिखाओ”

 

बीरबल ने बताया, “यह शेर की बोली है”, कुछ देर बाद उस आदमी को एक पैग और दिया तो वह नशे में एक तरफ गिर गया और नशे में ऊटपटांग बड़बड़ाने लगा।

 

बीरबल ने उसे एक लात लगाते हुए बादशाह से कहा, “हुजूर! यह गधे की बोली है”

 

बादशाह बहुत खुश हुए। उन्होंने बीरबल को बहुत-सा इनाम दिया।

 

 

कल, आज और कल

 

एक दिन बादशाह अकबर ने ऐलान किया कि जो भी मेरे सवालों का सही जवाब देगा उसे भारी ईनाम दिया जाएगा। सवाल कुछ इस प्रकार से थे –

 

ऐसा क्या है जो आज भी है और कल भी रहेगा ?
ऐसा क्या है जो आज भी नहीं है और कल भी नहीं होगा ?
ऐसा क्या है जो आज तो है लेकिन कल नहीं होगा ?

इन तीनों सवालों के उदाहरण भी देने थे।

 

किसी को भी चतुराई भरे इन तीनों सवालों का जवाब नहीं सूझ रहा था। तभी बीरबल बोला, “हुजूर! आपके सवालों का जवाब मैं दे सकता हूं, लेकिन इसके लिए आपको मेरे साथ शहर का दौरा करना होगा। तभी आपके सवाल सही ढंग से हल हो पाएंगे।”

 

अकबर और बीरबल ने वेश बदला और सूफियों का बाना पहनकर निकल पड़े। कुछ ही देर बाद वे बाजार में खड़े थे। फिर दोनों एक दुकान में घुस गए।

 

बीरबल ने दुकानदार से कहा, “हमें बच्चों की पढ़ाई के लिए मदरसा बनाना है, तुम हमें इसके लिए हजार रुपये दे दो।’’ जब दुकानदार ने अपने मुनीम से कहा कि इन्हें एक हजार रुपये दे दो तो बीरबल बोला, जब मैं तुमसे रुपये ले रहा हूंगा तो तुम्हारे सिर पर जूता मारूंगा। हर एक रुपये के पीछे एक जूता पड़ेगा। बोलो, तैयार हो ?’’

 

यह सुनते ही दुकानदार के नौकर का पारा चढ़ गया और वह बीरबल से दो-दो हाथ करने आगे बढ़ आया। लेकिन दुकानदार ने नौकर को शांत करते हुए कहा, ‘‘मैं तैयार हूँ, लेकिन मेरी एक शर्त है। मुझे विश्वास दिलाना होगा कि मेरा पैसा इसी नेक काम पर खर्च होगा।’’

 

ऐसा कहते हुए दुकानदार ने सिर झुका दिया और बीरबल से बोला कि जूता मारना शुरू करें। तब बीरबल व अकबर बिना कुछ कहे-सुने दुकान से बाहर निकल आए।

 

दोनों चुपचाप चले जा रहे थे कि तभी बीरबल ने मौन तोड़ा, “बंदापरवर ! दुकान में जो कुछ हुआ उसका मतलब है कि दुकानदार के पास आज पैसा है और उस पैसे को नेक कामों में लगाने की नीयत भी, जो उसे आने वाले कल (भविष्य) में नाम देगी। इसका एक मतलब यह भी है कि अपने नेक कामों से वह जन्नत में अपनी जगह पक्की कर लेगा। आप इसे यूं भी कह सकते हैं कि जो कुछ उसके पास आज है, कल भी उसके साथ होगा। यह आपके पहले सवाल का जवाब है।”

 

फिर वे चलते हुए एक भिखारी के पास पहुंचे। उन्होंने देखा कि एक आदमी उसे कुछ खाने को दे रहा है और वह खाने का सामान उस भिखारी की जरूरत से कहीं ज्यादा है। तब बीरबल उस भिखारी से बोला, “हम भूखे हैं, कुछ हमें भी दे दो खाने को।”

 

यह सुनकर भिखारी बरस पड़ा, “भागो यहां से। जाने कहां से आ जाते हैं मांगने।”

 

तब बीरबल बादशाह से बोला, “यह रहा हुजूर आपके दूसरे सवाल का जवाब। यह भिखारी ईश्वर को खुश करना नहीं जानता। इसका मतलब यह है कि जो कुछ इसके पास आज है, वो कल नहीं होगा।”

 

दोनों फिर आगे बढ़ गए। उन्होंने देखा कि एक तपस्वी पेड़ के नीचे तपस्या कर रहा है। बीरबल ने पास जाकर उसके सामने कुछ पैसे रखे। तब वह तपस्वी बोला, “इसे हटाओ यहां से। मेरे लिए यह बेईमानी से पाया गया पैसा है। ऐसा पैसा मुझे नहीं चाहिए।”

 

अब बीरबल बोला, “हुजूर ! इसका मतलब यह हुआ कि अभी तो नहीं है लेकिन बाद में हो सकता है। आज यह तपस्वी सभी सुखों को नकार रहा है। लेकिन कल यही सब सुख इसके पास होंगे।”

 

“और हुजूर! चौथी मिसाल आप खुद हैं। पिछले जन्म में आपने शुभ कर्म किए थे जो यह जीवन आप शानो-शौकत के साथ बिता रहे हैं, किसी चीज की कोई कमी नहीं। यदि आपने इसी तरह ईमानदारी और न्यायप्रियता से राज करना जारी रखा तो कोई कारण नहीं कि यह सब कुछ कल भी आपके पास न हो। लेकिन यह न भूलें कि यदि आप राह भटक गए तो कुछ साथ नहीं रहेगा।”

 

अपने सवालों के बुद्धिमत्तापूर्ण चतुराई भरे जवाब सुनकर बादशाह अकबर बेहद खुश हुए।

 

 

Conclusion

 

दोस्तों कहते हैं की बीरबल जैसा बुद्धिमानी इंसान इंडिया में आज तक नहीं मिला।

 

वे अपनी दिमाग को अच्छे और हर समस्या के हल निकालने के लिए लगाता है।

 

आपको हर अकबर-बीरबल के स्टोरी में पढ़ने को मिलेगा ही की बीरबल अपने तरफ आते हुए हर चुनौतिओं का सामना करता है और उसका हल निकालता ही निकालता है।

 

दोस्तों आपने आज के इस 5 अकबर बीरबल की कहानी इन हिंदी से क्या सीखा ?

 

तो दोस्तों आपको आज का यह पोस्ट “5 अकबर बीरबल की कहानी इन हिंदी” कैसा लगा ?

 

आपका कोई भी सवाल या सुझाव है तो नीचे कमेंट करके जरूर बताये।

 

इस पोस्ट “5 अकबर बीरबल की कहानी इन हिंदी” को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।

 

आपका बहुमूल्य समय देने के लिए दिल से धन्यवाद,

Wish You All The Very Best.

 

सम्बंधित लेख –

  1. अकबर और बीरबल की हिंदी कहानी से तीन बातें – Motivational Story in Hindi
  2. लाइफ टेस्ट – Inspirational Story in Hindi
  3. हमारे जीवन में गुरु या Mentor की जरुरत क्यों हैं ? – Best Short Moral Story in Hindi
  4. Interesting Hindi Story – चाणक्य जैसी एक आदमी की कहानी
  5. जादुई चश्मा के जरिये एक व्यक्ति ने भविष्य देख पाया – Best Moral Story in Hindi
  6. भगवान कौन है ? Who is GOD ? – Short Hindi Moral Story
  7. एक व्यक्ति को सफलता का रहस्य मिलने की कहानी – Short Hindi Moral Story
  8. Hindi Story – ऐसे बदलती है जिंदगी
  9. दानवीर कर्ण को ही क्यों बोला जाता है ? – Mahabharata Story in Hindi
  10. Best Motivational Hindi Story – चिड़चिड़ा बूढ़ा आदमी
  11. Inspirational Story in Hindi – क्या भगवान सच में होते है इसपर Thomas Alva Edison ने क्या बोला
  12. 3 Best Inspirational Story in Hindi
  13. Real-Life Inspirational Story in Hindi – एक महात्मा
  14. Motivational Story in Hindi – इंसानियत

Leave a Comment