Carl Benz की सक्सेस स्टोरी | Carl Benz Biography in Hindi

Carl Benz की सक्सेस स्टोरी – Hello दोस्तों, क्या आपने कभी Carl Benz का नाम सुना है या कभी उनके बारे में पढ़ा है ? अगर हाँ तो आज हम उन्हीं के बारे में और बात करेंगे और जिसने नहीं सुना है उनको बता दें की वो गाड़ीयों का जनक है, अगर वो ना होता तो हम शायद आज की गाड़ी ना देख पाए होते, कुछ और ही होता।

तो आज हम उन्हीं महान इंसान के बारे में जानेंगे। तो चलिए शुरू करते हैं –

 

Carl Benz की सक्सेस स्टोरी | Carl Benz Biography in Hindi

 

Carl Benz को गाड़ियों का जनक माना जाता है, जिन्होंने 1885 में पहली बार ऐसी Tricycle बनाई जो हॉर्सलेस थी (बिना घोड़े की) जिसे एक गैसोलीन इंजन की हेल्प से चलाया गया था। आज के दौर की लक्ज़री कार ब्रांड Mercedes-Benz भी 1926 में Carl Benz ने ही फाउंड की थी।

 

 

जन्म

 

Carl Friedrich Benz का जन्म 25 नवंबर 1844 को Baden-Wurttemberg, Germany में हुआ था, जब Carl 2 साल के थे तब उनके पिता की डेथ हो गयी थी और वो उनकी माँ के साथ ग़रीबी में ही बड़े हुए।

 

 

पढाई और शादी

 

1859 में उन्होंने Carlsruhe Polytechnic जॉइन किया और 1864 में उन्होंने मैकेनिकल इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन कम्पलीट किया।

 

1872 में Carl Benz ने Bertha Ringer से शादी की, Bertha एक अमीर घर से बिलोंग करती थी, जो Carl को शादी से पहले फाइनेंशियल सपोर्ट करती थी।

 

 

सक्सेस जर्नी

 

शादी के बाद उन्होंने Bertha से कुछ धन लेकर पार्टनरशिप में एक फैक्ट्री डाली लेकिन लेकिन पार्टनर्स के साथ कुछ डिस्प्यूट्स को लेकर 1883 में Carl ने वो कंपनी छोड़ दी।

 

उसी साल उन्होंने Bertha के दहेज की मदद से Mannheim में Benz & Co. की स्थापना की, उनकी कंपनी स्टार्टिंग में सिर्फ़ गैसोलीन इंजन बनाती थी लेकिन उनके माइंड में कुछ ऐसा इन्वेंशन चल रहा था जो दुनिया को पूरी तरह से बदल देने वाला था।

 

1885 में उन्होंने दुनिया की पहली कार बनाई, जो गैसोलीन से चलती थी। Carl को साइकिल चलाने का बहुत शौक था इसलिए उन्होंने अपनी पहली कार एक Tricycle को लेकर बनाई।

 

Carl के इस Tricycle Automobile को Motorwagen नाम दिया गया, जिस पर एक बार में दो लोग सवारी कर सकते थे लेकिन इस कार को बनाने से पहले Carl ने Tricycle में यूज़ होने वाली दूसरी चीज़ों को भी इन्वेंशन किया जैसे इलेक्ट्रिक इग्निशन, स्पार्क प्लग्स और क्लच।

 

जब Carl अपने Tricycle के इन्वेंशन में लगे थे उसी दौरान बाकी के इन्वेंटर भी “हॉर्सलेस कैरिज” बनाने में लगे थे लेकिन Carl ने तेज़ी दिखाते हुए अपने काम को उनसे काफ़ी जल्दी अंजाम दिया। बाकी इन्वेंटर एक पहले से बने कार्ट (घोड़ा बग्घी) पर इंजन को जोड़कर उसे कार का रूप दे रहे थे लेकिन Carl ने अपनी कार को पूरा अपने हिसाब से डिज़ाइन किया था।

 

29 जनवरी 1886 को Carl को अपनी गाड़ी का पेटेंट नंबर 37435 मिला।

 

1888 में Carl ने अपनी कार की फर्स्ट सैलिंग स्टार्ट की 1893 में उन्होंने फोर व्हील कार सेल करना शुरू किया, ये वही थ्री व्हील वाली कार थी जिसे बाद में फोर व्हील में अपग्रेड करके बेचा गया।

 

1894 से 1901 के बीच Carl ने 1200 कार का प्रोडक्शन किया और ये दुनिया की फर्स्ट प्रोडक्शन कार थी।

 

हालांकि 1900 के दौर में दूसरे मैन्युफैक्चरर मार्केट में आ गए थे जो Carl की कार से काफ़ी सस्ती और ताक़तक़र गाडियाँ मार्केट में बेच रहे थे।

 

1903 में Carl ने अपनी बनाई कंपनी में ध्यान देना बंद कर दिया और अपने बेटों के साथ उन्होंने न्यू डिज़ाइन कार डेवेलोप करना शुरू किया।

 

1926 में Benz & Company, Gottlieb Daimler Company के साथ मर्ज हो गयी, जो जर्मनी की लीडिंग मैन्युफैक्चरिंग कार कंपनी थी और कंपनी का नाम Mercedes-Benz पड़ गया (Mercedes नाम Daimler कंपनी के एक डीलर की बेटी का नाम था)।

 

Daimler और Benz की कंपनी आपस में मर्ज तो हो गयी और दोनों जर्मनी में ही रहते थे लेकिन दोनों एक दूसरे से कभी नहीं मिले थे।

 

Mercedes के Daimler में मर्ज होने के तीन साल बाद Carl Benz की 84 साल की उम्र में 4 अप्रैल 1929 को Ladenburg, Germany में मौत हो गई।

 

जब Carl ने शुरुआत करनी चाही तब उनके पास कुछ भी नहीं था, Carl ने अपनी वाइफ़ के बारे में लिखा था कि “जब मैं अपने करियर में नीचे गिरता जा रहा था तब एक ही इंसान ने मुझ पर भरोसा किया था और वो Bertha थी और ये Bertha का साहस था जो उसने मुझे नई आशा खोजने में सक्षम बनाया”।

 

Bertha ही थी जिसने Carl के इन्वेंशन पर भरोसा किया और अगस्त 1888 में Carl के इन्वेंशन मॉडल थ्री को 66 मील के रूट पर पहली बार लेकर गयी थी, इस ड्राइव ने Carl की हिम्मत को बहुत बढ़ावा दिया।

 

आज के टाइम में Carl को ज़्यादा लोग नहीं जानते लेकिन हमें ये नहीं भूलना चाहिए कि Carl की वजह से ही आज ट्रांसपोर्टेशन इतना आसान हो चुका है, उनका इन्वेंशन दुनिया को एक नए आयाम तक लेकर गया था।

 

 

 

 

Conclusion

 

तो दोस्तों क्या आपने Carl Benz के बारे में पहले इतना कुछ जानते थे ?

क्या आप जानते थे कि Carl Benz ने गाड़ियां बनाना शुरू किया था ?

तो आपको आज का हमारा यह आर्टिकल Carl Benz की सक्सेस स्टोरी | Carl Benz Biography in Hindi” कैसा लगा ?

कोई सवाल या सुझाव आपके मन में है तो मुझे नीचे कमेंट में जरूर बताये।

 

आपका बहुमूल्य समय देने के लिए दिल से धन्यवाद,

Wish You All The Very Best.

 

सम्बंधित लेख –

  1. Neil Armstrong की सक्सेस स्टोरी
  2. Che Guevara की सक्सेस स्टोरी
  3. Usain Bolt की सक्सेस स्टोरी
  4. JK Rowling की सक्सेस स्टोरी – हैरी पॉटर सीरीज के लेखिका
  5. Mother Teresa की सक्सेस स्टोरी – लोगों को मदद करना उनका धर्म है
  6. Abraham lincoln की सक्सेस स्टोरी – एक टाइम में लकड़हारे का काम किया
  7. Stephen Hawking की सक्सेस स्टोरी – 58 साल उन्होंने व्हील चेयर में गुजारे
  8. Stan Lee की सक्सेस स्टोरी – सुपरहीरोज़ के क्रिएटर
  9. Ratan Tata की सक्सेस स्टोरी – जैगुआर लैंड रोवर को खरीद लिया
  10. Jeff Bezos की सक्सेस स्टोरी – मैकडोनाल्ड में टेबल साफ करने का काम करते थे
  11. Henry Ford की सक्सेस स्टोरी – किसान के बेटे थे वो
  12. Barack Obama की सक्सेस स्टोरी – लादेन को उन्होंने ही मारा
  13. Rowan Atkinson की सक्सेस स्टोरी | Mr. Bean Success Story in Hindi
  14. Richard Branson की सक्सेस स्टोरी
  15. Pablo Picasso की सक्सेस स्टोरी
  16. Colonel Sanders की सक्सेस स्टोरी | KFC Success Story in Hindi
  17. Leonardo Da Vinci की सक्सेस स्टोरी – मोनालिसा के रहस्य
  18. Aryabhatta की सक्सेस स्टोरी

Leave a Comment