Feelings Ko Kaise Control Kare – Feelings Are Temporary

Feelings Ko Kaise Control Kare – Hello दोस्तों, Everyday हमारे अंदर जो Feelings उठते हैं उसके बारे में ज्यादातर लोगों को पता ही नहीं चलता है, और जिस वजह से लाइफ में Decision लेने में दिक्कत आती है और आज आपको इस आर्टिकल में पता लगेगा कि हमे दिल की सुनना चाहिए या फिर दिमाग से डिसिशन लेना चाहिए, मतलब अपने Feelings को आप कैसे accept करेंगे, या अपनी फीलिंग्स को कण्ट्रोल करेंगे ताकि आप लाइफ में बेटर डिसिशन ले पाए और एक बेहतर जिंदगी जी पाए। तो चलिए शुरू करते हैं –

Feelings Ko Kaise Control Kare?

सबसे पहले Feelings are temporary – इस चीज को हमे दिमाग के अंदर घुसाना है, तभी feelings से लड़ सकते है, चाहे अच्छी हो या चाहे बुरी हो। जितना हम अपनी फीलिंग्स से भागते रहेंगे भागते रहेंगे वो उतना ही हमको घुमाती रहेगी।

आप खुद देखिएगा जैसेही आपकी फीलिंग्स ख़राब होती है तो आपके mind immediately उनके exact opposite feelings ढूंढता है।

उस वक़्त हमे सिर्फ यह देखना है की हम क्या कर सकते है! आजकल हर कोई हमें यह बहुत बार बोलता है की अपने दिल की सुनो, दिल की सुनो, अंदर की आवाज को सुनो, लेकिन सवाल यह आता है कि दिल की आवाज सुने कैसे? अपने desires को identify करें कैसे? Feelings के base पे करे या Emotions की base पे करे कैसे करें?
 
तो कोई भी बड़ा Decisions लेने से पहले हमें अपने आपसे यह पूछना है कि क्या ये मेरे लिए अच्छा है या नहीं है? क्या ये मेरे आस-पास में जो लोग रहते हैं उनके लिए अच्छा है या नहीं है?

तब अगर Feelings अच्छी है तो करो, और अगर feelings बुरी भी है तब भी करो, चाहे दर्द हो रहा है, चाहे अच्छा लग रहा है, कोई फर्क नहीं पड़ता, अगर आपने सोच लिया है करना है तब तो आपको करना ही है।

Unsuccessful लोग हमेशा क्यों Unsuccess ही रहते हैं?

दुनिया में जो लोग successful नहीं हो पाते है, चाहे किसी भी field में, तो वे feelings की तरफ हमेशा भागते रहते हैं।

इसमें एक Trap है – “जब तक feelings अच्छी हो रही है तबतक करते रहो, feelings ख़राब हो रही तो छोड़ दो, कोई और चीज ढूंढो, जहाँ पे अच्छी feelings हो रही है।” जो Unsuccessful लोग होते है वो ऐसे feelings के पीछे पीछे भागते है।

जो Unsuccessful लोग होते है वो दिन में अपने आपसे 10 Commitments (वचन) करते हैं और ज़िंदगी में एक भी पूरा नहीं करते है, जिस वजह से वह हमेशा Unsuccessful ही रहते हैं।

लेकिन दुनिया में जो भी Successful लोग होते है या आज तक हुए हैं, वो एक महीने में सिर्फ एक ही Commitment करते हैं, लेकिन मरते दम तक उसको पूरा करते हैं, इसमें चाहे उनको Success मिल रहा है, चाहे failure मिल रहा है, लगे रहते हैं, चलते रहते हैं, कभी भी उस काम को छोड़ते नहीं हैं।

दुनिया में अलग अलग काम को Try करने से अच्छा है, एक ही काम को अलग अलग तरीकेसे से करके देखना है, कोशिश जारी रखनी है और वही पर इंसान Successful हो जाते हैं।

क्या मांगने से सब कुछ मिल जाते हैं?

हमेशा एक बात याद रखना अगर जीवन में सक्सेस चाहिए तो, कि You don’t get what you want, you only get what you are.

जबतक आपके believe नहीं बदलेंगे, तबतक कुछ नहीं बदलने वाला है, आप मांगते रहो, लेकिन फिर भी कभी कुछ नहीं मिलेंगे, क्यूंकि आपकी फीलिंग्स ही ऐसी है।

तो आपको Focus कहा डालना है – मांगने पे नहीं, फोकस वही पर डालना है जहाँ आप अपने आपको बदलने में सक्षम हैं।

अपनी लाइफ की situations पर नहीं, लोगो के ऊपर नहीं, दुनिआ के ऊपर नहीं, हमेशा खुद को बदलने में अपनी फोकस को यूज़ करना चाहिए।

Growth और मांगना दो अलग अलग चीजें हैं। मैं यह नहीं कह रहा कि आप Grow मत करो या आपको Cars नहीं मिलेंगी, बड़ी Luxury घर नहीं मिलेंगे, सब कुछ मिलेगा। लेकिन यह भी सत्य है कि मांगने से नहीं मिलेगा।

Believes बदलो, Feelings बदलेगी – क्या यह सच है?

जिस भी चीज की आपको Knowledge होती चली जाती है, जितनी होती चली जाती है, जितनी Experience होता चला जाता है, आपका believe उतना ही strong होता चला जाता है, The more you Learn, the most stronger will be your believe.

यानी जितना strong आपका believe होगा, उतने strong आप होंगे, उतने strong आपका mind होंगे, उतने strong आपकी body होगी, तो जितने strong आप बनते चले जाओगे उतनी ही बड़ी success होगी।

Look at any great leader in the history of this world, everybody stood for something which this strongly believe in, वो believe क्या है, कहा से बना, वो एक दिन में तो नहीं बना, है ना?

पहले उसकी शुरुवात हुई Purpose से, वो Purpose ही उनका Goal बन गया, वही ज़िंदगी बन गयी, वही खुद बन गए और ऐसेही वो दुनिआ बदल गयी।

तो अगर अपनी ज़िंदगी में कुछ भी बदलना है, कुछ भी पाना है, तो Feelings के According अगर आप चले तो कुछ नहीं बदलने वाला।

और Feelings को Control करने का सिर्फ एक ही उपाय कि जो भी करना है फीलिंग्स के base पर नहीं करना है यानी अगर आपको कुछ करना है लाइफ में, कुछ बड़ा करना है तो अगर उसमें कोई दिक्कत भी आये तब भी पीछे नहीं हटना है। दिक्कत मतलब अपने अंदर की Feelings.

Feelings यानी कि परेशानी, कुछ करने का मन नहीं है, बोर हो रहे हैं, फेलियर मिल रहा है तो डिप्रेशन हो रहे हैं, मन उथल-पुथल हो रहे हैं, गलत फीलिंग्स आ रहे हैं, दर्द हो रहा है, मेन्टल प्रेशर हो रहे हैं, यह सभी फीलिंग्स है और अगर आप कुछ कर रहे हैं सक्सेसफुल होने के लिए तो इन सबको अपने अंदर सहना होगा।

Feelings को सह कर आप इसे कण्ट्रोल भी कर सकते हो, फिर भी यह टेम्पररी ही है।

अगर अपनी Feelings को Control करना है तो इसका Simple सा Rule है – आपको अपनी Believes को बदलना है, Believes को बदला तो आपकी Feelings बदलेगी, Feelings बदला तो Emotions बदलेगी, Emotions बदला तो Energy बदलेगी, Energy बदली तो आप बदलोगे, आप बदला तो दुनिआ बदलेगा, दुनिआ बदलेगी तो सब कुछ बदलेगा।

Conclusion

तो आप समझ ही गए होंगे कि जैसे ही आप अपनी Believes को बदलोगे तो आपकी Feelings जरूर बदलेगी और तभी आप लाइफ में सक्सेसफुल हो पाएंगे।

और अगर आपने जीवन में कुछ शुरू किया है तो उसको Feelings के Base पर आगे लेके मत जाइये, क्यूंकि अगर आपकी फीलिंग्स अच्छी होगी तब तो आप उसे कर पाओगे, अगर फीलिंग्स बुरी हो गयी तो आप उसे कर नहीं पाओगे और असफल हो जायेंगे।

तो आपको अपने दिल और दिमाग में यह बात बैठा लेना चाहिए कि अगर मुझे अफलता भी मिले और तब भी मैं इस काम को खत्म करके ही रहूँगा, चाहे कितना भी टाइम क्यों ना लगे और इस situation में आपकी फीलिंग्स से काम नहीं हो रहा है।

जैसे ही आप बोलते हो कि चाहे कुछ भी हो जाये मैंने यह शुरू किया तो आगे लेके जाऊंगा और खत्म करके ही दम लूंगा वैसे ही आप अपने फीलिंग्स को Overcome कर लोगे। यानी आप अपनी Believes बदल रहे हो और फीलिंग्स भी अपने आप बदल जाएगी।

”You Are The One” – Sandeep Maheshwari

आपका बहुमूल्य समय देने के लिए दिल से धन्यवाद।

Wish You All The Very Best

सम्बंधित लेख –

  1. सही तरीकेसे बॉडी लैंग्वेज कैसे सुधारे?
  2. Absolute Focus Kaise Kare?
  3. Apne Goal Ko Kaise Achieve Kare?
  4. हमेशा अपने दिल की सुनो
  5. Destiny क्या है?
  6. Intelligence क्या है?
  7. Successful कैसे बने?
  8. डर को कैसे दूर करें?

Leave a Comment