6 Google Adsense Earning Tips & Tricks | How to Increase AdSense Revenue (Hindi)

6 Google Adsense Earning Tips – ब्लॉग पर रोज़ के यदि आप Ads के थ्रू कमाना चाहते हैं तो इसके लिए आपको कुछ अहम चीज़ो को समझना पड़ेगा तथा उनका पालन भी करना पड़ेगा।

मैं सब साझा करने से पहले ये मान कर चल रही हूँ की आप ब्लॉग पर विज्ञापन (Advertisements) यानी Google AdSense से ही कमाना चाह रहे होंगे और क्यूंकि ज्यादातर ब्लॉगर जो है मतलब जो Advertising के थ्रू कमाते हैं वे सिर्फ Adsense को ही अपने ब्लॉग में लगते हैं ।

इसलिए मैं इस आर्टिकल में Adsense के हिसाब से ही अपनी observations और learning बता रहा हूँ, ताकि आपको लाभ हो सके।

6 Google Adsense Earning Tips & Tricks

ब्लॉग पर रोज़ कुछ डॉलर कमाने के लिए कुछ ज़रूरी बातों पर ध्यान दीजिये, मैं आपके साथ पिछले एक साल से ज़्यादा के खुद के अनुभव पर आधारित जानकारी दे रहा हूँ –

1. Direct Traffic के ऊपर ध्यान क्यों दें ?

Direct Traffic वह ट्रैफिक है जो आपके ब्लॉग को वह लोग आते हैं जो की आपके ब्लॉग को नियमित रूप से पढ़ने वाले रीडर्स हों।

Direct Traffic एक ब्लॉग पर सिर्फ तभी ज्यादा से ज्यादा मात्रा में आता है जब रीडर्स आपके ब्लॉग से एकदम loyal हों।

ये loyalty सिर्फ तब बनती है जब आप पूरे दिल से मेहनत करें और ऐसा content लिखे जो की पाठकों को बहुत ज़्यादा फायदा दिलाये।

इसके लिए समय लगता है लेकिन एक बार आपके ब्लॉग की विश्वसनीयता (Trustworthiness) बन गयी तो फिर आपके रीडर्स बार बार ब्लॉग पर आएगें और आप Ads से अच्छा पैसा कमाएगें।

Direct Traffic कैसे और कहाँ आते हैं ?

रीडर्स आपके ब्लॉग को direct आपके ब्लॉग के name से गूगल में search करते हैं और सीधा आपके ब्लॉग में आते हैं और बाकि किसी साइट या ब्लॉग से उसका लेना-देना नहीं होता। और ये तभी होगा जब आप quality कंटेंट users को प्रोवाइड करेंगे।

My Google Analytics Data –

my google analytics data

Quality Content क्या है ?

Quality कंटेंट वो होता है जिसमें आप किसी भी टॉपिक के बारे में एक आर्टिकल में A to Z जानकारी डिटेल में लिख रहे है।

example – यदि आप लिख रहे हैं – “how to start a blog in hindi”,

तो आप इसमें (Keyword Research, Find Niche/Topic, Choosing Attractive Domain Name, Choosing Hosting, Free Hosting – Pros-Cons, Paid Hosting – Pros-Cons, WordPress or Blogger को set up कैसे करते हैं, पहला ब्लॉग पोस्ट कैसे लिखें, ब्लॉग पोस्ट को ऑप्टिमाइज़ कैसे करते हैं, seo कैसे करें, off-पेज seo क्या है और कैसे करते हैं, on पेज seo क्या है और कैसे करते हैं, और ब्लॉग को monetize कैसे करते हैं, और ब्लॉग ज्यादा से ज्यादा ट्रैफिक कहाँ से ला सकते है और कैसे ?)

– यही सब के बारे बताते हुए अगर एक ब्लॉग पोस्ट लिखते है तो इसी को एक क्वालिटी कंटेंट बोला जाता है।

मतलब रीडर्स का फायदा ज्यादा से ज्यादा हों तो वो एक क्वालिटी कंटेंट माना जाता है।

और तभी गूगल आपके ब्लॉग में ट्रैफिक भेजेगा और आप ज्यादा से ज्यादा कमा पाएंगे Adsense के थ्रू।

2. Audience Engagement पर विशेष ध्यान क्यों दें ?

एक ब्लॉग अगर अच्छे से रूपए कमाना चाहता है तो सबसे पहले तो रीडर्स का भारी मात्रा में engagement होना चाहिए।

User Engagement का मतलब क्या है ?

  1. जो रीडर्स आपके ब्लॉग पर आरहें है वो कितनी देर रुक रहे हैं,
  2. आपका लिखा हुआ content consume कर भी रहें या नहीं,
  3. आपके ब्लॉग पर कितने समय तक पढ़ के जा रहे हैं,
  4. सबसे ज़रूरी बात की क्या उनको आपका लिखा हुआ content लाभदायक लगा भी या नहीं।

अगर उन्हें आपके ब्लॉग content से बार बार फायदा होगा, तभी वे वापस आपके ब्लॉग में पढ़ने के लिए आएगें।

Blog engagement से आपके blog posts की ranking अच्छी करता है Google ।

लेकिन ऐसा नहीं है की User Engagement अच्छी होने से ही आपके ब्लॉग रैंक करने लग जायेगा,

Google में रैंक करने लिए आपको गूगल रैंकिंग के 200+ factors को जानना होगा और इनमें से एक इम्पोर्टेन्ट फैक्टर ये है की quality कंटेंट user को provide कीजिये और आपके ब्लॉग तभी उसका engagement अच्छा होगा।

और जितनी अच्छी ranking आपके ब्लॉग की होती जाती है उतनी ही अच्छी Ads मिलने की आपको सम्भावना बढ़ जाती है।

मैं यहाँ सिर्फ Google Adsense की बात नहीं कर रहा बल्कि Ad Thrive, Mediavine, Ezoic जैसे Ad Management Systems की बात भी कर रहा हूँ।

User Engagement को अच्छा करने के लिए अपने website/blog पर इतना बेहतरीन content create कीजिये की आपके रीडर्स भी समझें की आप कितनी ज़्यादा मेहनत करते हैं।

अगर अपने रीडर्स का आदर करेंगे और उनको value provide करेंगे तो वो ज़रूर आपके ब्लॉग पर आएगें,

और अगर आप कभी कोई event host करेंगें या कही सोशल मीडिया पर पोस्ट शेयर करेंगे या आप कही पर कुछ भी शेयर करेंगे तो आपका भी User Engagement बढ़ेगा ही बढ़ेगा।

मतलब मूल मंत्र ये है कि आपके ब्लॉग में आने वाले हर रीडर्स या यूजर को वैल्यू देंगे तो गूगल भी सपोर्ट करेगा और डायरेक्ट users भी आपको सपोर्ट करेगा।

3. Organic Traffic को ख़ास महत्व क्यों दें ?

Organic Traffic वह ट्रैफिक है जो आपके ब्लॉग पर सीधा Google Random Search से आता है।

जितने ज़्यादा ब्लोग्स आपके Google पर rank करेंगे उतना ज़्यादा आप फायदे में रहेगें।

मतलब कोई भी गूगल यूजर गूगल में कुछ भी सर्च करता है तो जो गूगल के Top 10 Results है,

अगर आपके ब्लॉग के कुछ 2-4 पोस्ट उस Google SERP (Search Engine Results Page) में आते हैं तो उसमें से बहुत सारा ट्रैफिक आपके ब्लॉग में आएंगे तो गूगल आपको ज्यादा Priority देता है।

एक बार जब google पर आप ऊपर आ जाते हैं तो हज़ारो-लाखों लोग जो गूगल में कुछ ना कुछ पढ़ने के लिए आते हैं और फिर आपके ब्लॉग उसपर दीखता है तो वे विसिटोर्स आपके ब्लॉग को visit करते हैं।

इससे जो आपकी Ads हैं उनको ज़्यादा से ज़्यादा लोग प्रति दिन देखते हैं और आप $5/$10 तो क्या बल्कि उससे कही ज़्यादा भी कमा सकते हैं।

इसीलिए हर एक ब्लॉगर को winning content strategy तैयार करनी चाहिए ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोग रोज़ आपके ब्लॉग पर आएं और आपके ब्लॉग का revenue बढ़े।

4. Ad Placement

एक ब्लॉग पर हर एक ब्लॉगर को अच्छे से Ads लगानी चाहिए क्यूंकि अगर उनका placement ठीक नहीं होगा तो फिर आपके ब्लॉग में आये हुए विसिटोर्स को Ads दिखेंगी ही नहीं और आप पैसा नहीं कमा पाओगे।

रीडर्स को ब्लॉग पर आने के 14 सेकंड के भीतर पहली Ad दिखनी चाहिए।

इस Ad को देखते हुए रीडर्स का mind fresh एकदम होता है इसलिए Ad impressions तथा Ad clicks दोनों की ही सम्भावना ज़्यादा रहती है।

Manual Ads & Auto Ads –

अगर आप मैन्युअल ads place कर रहे हैं तो sidebar में एक ad और पोस्ट के एक स्टार्टिंग में एक ad जरूर लगाना चाहिए और पोस्ट में अंदर कुछ 4-5 ads लगा सकते है अगर आपके ब्लॉग पोस्ट की length कुछ 1000 वर्ड्स या उससे ज्यादा है तो।

और अगर आप Adsense की Auto Ads को लगा रहे हैं तो आपको कुछ भी टेंशन लेने की जरुरत नहीं है गूगल ऑटोमेटिकली आपके ब्लॉग में अलग अलग users के हिसाब से ads placement कर देगा और इसमें क्लिक ज्यादा होने कि संभावना भी बढ़ जाता है

5. ज़रूरत से ज़्यादा Ads न लगाए

बहुत से ब्लॉगर्स को ऐसा लगता है की ज़्यादा Ads लगाने से ज़्यादा पैसा आता है लेकिन ये बिलकुल गलत बात है।

ज़रूरत से ज़्यादा Ads लगाएंगे तो बहुत नुकसान होगा इससे आपको।

हम ऐसे समय में रह रहे हैं जहाँ Ad Fatigue की बात की जाती है।

Users को Ads इतनी ज़्यादा देखने को मिलती हैं हर जगह की वो एकदम थक गएँ हैं Ads देख देख के इसलिए उनका user experience और खराब मत कीजिये।

Ads को सिर्फ optimal positions पर ही लगाएं ताकि आपकी website पर users बार बार वापिस आये।

जो भी ब्लॉगर User experience पे विशेष ज़्यादा ध्यान देता है वो अपने ब्लॉग के बढ़ते ट्रैफिक के साथ रोज़ का बहुत अच्छे से पैसा कमाता ही कमाता है।

मैं कहता हूँ आप ब्लॉग में सिर्फ auto ads को लगाएं।

जितना ज़्यादा समय आपने ब्लॉग पर अच्छा content लिखने में लगाएगें उतना ज़्यादा Ad revenue कमाएंगे ही कमाएगें।

आपने रीडर्स के प्रति समर्पित रहें और पूरे दिल से मेहनत कीजिये। आपको आगे बढ़ने से कोई नहीं रोक पाएगा। और आप Adsense से ज्यादा पैसा कमा पाओगे।

6. Keywords Research

ज्यादातर ब्लॉगर keywords को research ही करते हैं और कहते हैं की उनके ads में क्लिक ज्यादा आने से भी वो थोड़ा सा ही कमा पा रहे हैं।

तो ऐसा इसलिए होता है क्यूंकि आप अपने ब्लॉग में $0 या $0.01 वाली cpc का कीवर्ड्स use कर रहे है।

तो आपको सिर्फ करना ये है की पहले Keyword रिसर्च टूल्स कि मदद से एक अच्छा कीवर्ड find कीजिये,

और उसको जाके गूगल में सर्च कीजिये और जो top 10 पोस्ट आपको दिख रहा है उसको रीड करिये और उससे आईडिया लीजिये,

और आपको जो कुछ भी पता है उस keywords से रिलेटेड वो सभी लिखिए अपने पोस्ट में और उसका A to Z नॉलेज शेयर कीजिये।

और उस high cpc और low keyword difficulty (competition) वाली कीवर्ड को इम्प्लीमेंट कीजिये।

तो दोस्तों आपको आज का हमारा यह Google Adsense Earning Tips आपको कैसा लगा और आपका कोई भी सवाल या सुझाव हो तो मुझे कमेंट करके जरूर बताये,

और इस Google Adsense Earning Tips को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।

आपका बहुमूल्य समय देने के लिए दिल से धन्यवाद,

Wish You All The Very Best.

सम्बंधित लेख –

Leave a Comment