Michael Jordan की सक्सेस स्टोरी – गैंबलिंग की वजह से बास्केटबॉल छोड़ना पड़ा

Michael Jordan की सक्सेस स्टोरी – Hello दोस्तों, आज हम बात करने वाले है दुनिया टॉप बेस्ट बास्केटबॉल प्लेयरों में से एक माइकल जॉर्डन जी के बारे में, उनकी सक्सेस स्टोरी के बारे में।

 

तो चलिए शुरू करते हैं –

 

Michael Jordan की सक्सेस स्टोरी

 

Michael Jordan को बास्केटबॉल का आज तक का सबसे बेस्ट प्लेयर माना जाता है, जिन्होंने स्टार्टिंग के फेलियर और करियर के बीच बहुत डिफीकल्टीज को पार करके हार्डवर्क और बास्केटबॉल की तरफ डेडिकेशन से वो मुकाम हासिल किया, जहाँ तक किसी भी प्लेयर का पहुंचना बहुत मुश्किल हैं।

 

“I can accept failure, everyone fails at something. But I can’t accept not trying.” – ये छोटा सा क्वोट माइकल की पूरी स्टोरी बयान करती है कि उनकी लाइफ कितने उतार-चढ़ाव से भरी है।

 

वो सक्सेसफुल हुए और अनसक्सेसफुल भी हुए, उनके पिता का मर्डर हुआ, लाइफ में बहुत सी कंट्रोवर्शीज आई लेकिन मुश्किल कंडीशन में भी खुद को संभाल कर आगे बढ़ने की तरफ ध्यान दिया और आज वो सबसे बेस्ट बास्केटबॉल प्लेयर हैं।

 

 

माइकल जॉर्डन का जन्म

 

17 फरवरी 1963 को ब्रूकली के एक मिड्ल क्लास फॅमिली में Michael Jordan का जन्म हुआ।

 

वो 5 भाई-बहनों में 4th नंबर पर थे।

 

 

बचपन और पढाई

 

उस समय ड्रग्स और रेसिस्म के कारण उनकी फॅमिली कैरोलिना के विलिंगटन शहर में चले गए, जहाँ उन्होंने अपनी पढाई कम्पलीट की।

 

Michael Jordan के पेरेंट्स ने बचपन से Michael के mindset को सक्सेसफुल बनाने के लिए तैयार कर दिया था।

 

Michael Jordan बचपन से बास्केटबॉल में नहीं जाना चाहते थे, उनका इंटरेस्ट तो बेसबॉल में जाना था।

 

12 साल की उम्र तक वो बेसबॉल खेला करते थे और उसमें वो काफी अच्छे प्लेयर भी थे, लेकिन बास्केटबॉल में जाने के पीछे एक अलग कहानी हैं।

 

एक बार बचपन में Michael अपने भाई के साथ बास्केटबॉल खेल रहे थे तो उनके भाई lorry ने उन्हें बास्केटबॉल में हरा दिया और वो इस अपमान को सहन नहीं कर सके,

 

और इतने छोटे इंसिडेंट की वजह से उन्होंने अपने आप को बास्केटबॉल का बेहतर प्लेयर बनाने की ठान ली और रेगुलर इस गेम में अपने आप को बेहतर बनाने में लग गए और उन्हें इस गेम से प्यार हो गया।

 

 

Michael Jordan की inspiring स्टोरी

 

Michael के बचपन की एक inspiring घटना जो सभी के लिए बहुत inspiring साबित होती है, जब Michael 13 साल के थे तब उनके पिता ने उन्हें अपने पास बुलाया और एक पुराना और इस्तेमाल हुआ टी-शर्ट देकर पूछा कि अच्छा बेटा यह बताओ इस टी-शर्ट की कीमत कितनी होगी ?

 

माइकल थोड़ा सोचने के बाद बोले यह $1 का होगा।

 

तो पिता ने कहा तुम्हें कुछ भी कर के बाजार में जाकर इस टी-शर्ट को $2 में बेचना है।

 

माइकल ने सोचा कि ऐसा क्या किया जाये जिससे इस पुराने टी-शर्ट के $2 मिल सके। माइकल ने उस टी-शर्ट को अच्छे से धो दिया और फिर घर पर आयरन ना होने के कारण उसे ढेर सारे कपड़ों के नीचे सीधा करने के लिए रख दिया।

 

अगले दिन उन्होंने देखा टी-शर्ट पहले से बेहतर दिखाई दे रहा है, उसके बाद उन्होंने पास के रेलवे स्टेशन पर जाकर 5 घंटों की कड़ी मेहनत बाद उसे बेच दिया और बहुत खुश होते हुए घर आये और अपने पिता जी को पैसे दे दिए।

 

15 दिनों के बाद पिता ने फिर से वैसा ही एक कपडा दिया और कहा कि जाओ इसे $20 में बेच कर आओ। इस बार माइकल को थोड़ा-सा आश्चर्य हुआ कि भला इसके $20 कौन देगा।

 

लेकिन पिता ने कहा एक बार कोशिश तो करो। तो उन्होंने फिर से अपना दिमाग लगा कर सोचा और अपने दोस्त की मदद से शहर जा कर उस टी-शर्ट पर मिकी माउस की स्टीकर लगवा लिया और ऐसे स्कूल के सामने जाकर खड़े हो गए जहाँ ज्यादातर बच्चे अमीर घर से ही आते थे।

 

एक छोटे बच्चे ने अपने पापा से कह कर उसे खरीद लिया। उस छोटे बच्चे के पिता ने उस कपड़े को $5 एक्स्ट्रा टिप देकर ख़रीदा और इस तरह उन्होंने $1 के उस टी-शर्ट को $20 में बेचा और $5 टिप भी मिली, इस तरह माइकल ने पुरे $25 में बेचा और ख़ुशी-ख़ुशी आकर उन्होंने अपने पिता जी को बताया।

 

कुछ दिनों के बाद माइकल को उनके पिता जी ने एक और कपडा दिया और बोला की जाओ इसे $200 में बेच के आओ, इस बार माइकल को लगा की अब तो यह बहुत ही ज्यादा है लेकिन फिर भी उन्होंने हार नहीं मानी क्यूंकि अभी तक माइकल पिता जी के द्वारा दिए गए इस कार्य में पूर्ण रूप से सफल हो रहे थे।

 

आखिरकार माइकल ने यह काम को भी करने की ठान ही ली लेकिन उन्होंने इस बार इस काम के बारे में 2-3 दिन तक सोचा कि आखिर वह कैसे इस पुराने से टी-शर्ट को जिसका मूल्य मात्र $1 है उसे $200 में कैसे बेचे ?

 

जैसा कि हम जानते है कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती, ठीक उसी तरह माइकल ने हार नहीं मानी और उस पुराने कपडे की कीमत बढ़ाने का उपाय खोज ही लिया माइकल उस कपड़े को लेकर शहर गए।

 

उन्होंने देखा कि उस दिन शहर में कोई बहुत ही बड़ी पॉपुलर एक्ट्रेस आई है माइकल पुलिस के द्वारा बनाये गए सुरक्षा घेरे को तोड़कर कपडे पर उस एक्ट्रेस का ऑटोग्राफ लेने में कामयाब हो गए।

 

बच्चे की मासूमियत देख कर एक्ट्रेस भी मना नहीं कर पाई, अगले ही दिन माइकल उस ऑटोग्राफ वाले कपडे को लेकर बाजार निकल गए।

 

वहां बहुत भीड़ जमा हो गई जो उसे खरीदना चाहती है और उस कपडे की बोली लगाई जा रही थी, आखिरकार माइकल ने वो कपडा $2000 में बेचा।

 

इस घटना के बाद से माइकल के पिता को इस बात का एहसास हो गया कि उनका बेटा अब जीवन में कुछ भी कर सकता है।

 

माइकल एक ऐसे व्यक्ति हैं जो आज की युवा पीढ़ी के लिए एक मिसाल हैं।

 

 

सक्सेस की जर्नी

 

माइकल की लाइफ में हर उस बड़े आदमी की लाइफ के जैसे मुश्किलें आयी, जब वो 10th क्लास में थे तो गर्मियों की छुट्टी के दौरान उन्होंने जूनियर बास्केटबॉल टीम को ज्वाइन किया, जहाँ उनका परफॉरमेंस बाकी प्लेयर से काफी अच्छा था, लेकिन फाइनल टीम के लिए उनको सेलेक्ट नहीं किया गया क्यूंकि उनकी हाइत बाकी खिलाड़ियों के मुकाबले काफी कम थी।

 

ये इंसिडेंट उनके करियर की पहली निराशा थी, इस घटना के बाद उन्होंने खुद को और बेहतर बनाने की सोची और जब भी वो प्रैक्टिस करने जाते तो सबसे पहले जाते और सबके जाने के बाद तक पुरे डेडिकेशन के साथ प्रैक्टिस करते और फाइनली हार्डवर्क की वजह से नेक्स्ट ईयर अपनी हाई स्कूल टीम में सेलेक्ट हो गए और अपनी टीम के स्टार प्लेयर बन गए।

 

कॉलेज में भी उन्होंने अपने बास्केटबॉल के करियर को स्टार्ट रखा, माइकल अपनी कॉलेज यूनिवर्सिटी ऑफ़ नॉर्थ कैरोलिना की टीम के प्रमुख प्लेयर थे।

 

1982 में National Collegiate Athletic Association Championship में अपनी टीम को जीत दिलाने में माइकल का प्रमुख रोल था, 1984 में लॉस एंजेलिस समर Olympic में US बास्केटबॉल टीम के कप्तान थे जिसमें माइकल ने टीम को विनर बनाया।

 

1984 में माइकल ने ग्रेजुएशन के दौरान ही शिकागो बुल्स टीम को ज्वाइन कर लिया, माइकल के आने से पहले शिकागो टीम एक हारी हुई टीम थी लेकिन माइकल की आते ही टीम ने अपनी परफॉरमेंस दिखानी शुरू कर दी।

 

वहां उनकी परफॉरमेंस इतनी जबरदस्त थी कि 1984-1985 में उन्होंने हर मैच में 28 पॉइंट्स के एवरेज स्कोर बना कर स्टार प्लेयर बन गए।

 

लेकिन उसके अगले साल माइकल के पैर में चोट लगने की वजह से वो अगला सीजन नहीं खेल पाए।

 

उसके अगले सीजन में वो और भी जोश और मेहनत से टीम में वापस आये और पूरी सीजन में 3000 पॉइंट्स करने वाले प्लेयर बन गए।

 

1987-1988 में माइकल मोस्ट वैल्युएबल प्लेयर बन गए थे और डिफेंसिव प्लेयर ऑफ़ दी ईयर का ख़िताब भी जीता।

 

माइकल अपनी शानदार परफॉरमेंस से सक्सेस की सीढ़ियों पर चढ़ते जा रहे थे, उन्होंने अपनी टीम को 1990-1991, 1991-1992, 1992-1993 का विनर बनाने में सबसे मैन रोल निभाया।

 

1992 में वो गोल्ड मेडल टीम का हिस्सा रहे।

 

 

गैंबलिंग ने उसको बर्बाद कर दिया था फिर भी हार नहीं मानी

 

माइकल की लाइफ मुश्किलों से भरी रही क्यूंकि 1993 में माइकल को गैंबलिंग करते देखा गया और उन्हें बास्केटबॉल से सन्यास लेना पड़ा जिससे वो काफी टूट चुके थे।

 

फिर उनके पिता की हत्या हुई उसका रीज़न भी गैंबलिंग के कारण हुई दुश्मनी ही पता चला।

 

बास्केटबॉल से सन्यास के बाद उन्होंने शिकागो लीग बेसबॉल का कॉन्ट्रैक्ट भी साइन किया था मतलब अगर बास्केटबॉल नहीं तो बेसबॉल ही सही लेकिन वो रुकना तो चाहते ही नहीं थे।

 

1993-1994 में शिकागो बुल्स का बास्केटबॉल में परफॉरमेंस अच्छा नहीं रहा क्यूंकि माइकल उस टीम में नहीं थे, लेकिन कुछ समय बाद माइकल ने फिर से बास्केटबॉल में एंट्री की और 1997 तक शिकागो बुल्स को अपने लेवल से कभी नीचे नहीं आने दिया।

 

माइकल पहले एथेलेटिक्स Billionaire हैं, माइकल के नाम पर सबसे बड़ी स्पोर्ट्स अपैरल कंपनी Nike, कोकाकोला, McDonalds जैसी बड़ी ब्रांड को प्रोमोट भी कर चुके हैं।

 

2010 की फ़ोर्ब्स 20 सेलिब्रिटीज में भी उनका नाम आ चूका है।

 

 

Conclusion

 

जैसे क्रिकेट का भगवान सचिन तेंदुलकर को माना जाता है वैसे ही माइकल जॉर्डन को बास्केटबॉल का भगवान माना जाता हैं।

 

अगर उनके अचीवमेंट की बात करे तो उन्होंने जिस भी रीज़न से फूटबैक किया था तो अगली बार वो उससे दो गुना जोश और मेहनत के साथ वापस आते और अपने काम से लोगों का दिल जीत लेते।

 

तो दोस्तों आपको आज का हमारा यह Michael Jordan की सक्सेस स्टोरी” कैसा लगा ?

 

क्या आप भी सक्सेसफुल बनना चाहते हैं ?

 

सक्सेसफुल बनने के लिए आप हमसे हेल्प ले सकते हैं।

 

कोई भी सवाल या सुझाव के लिए मुझे नीचे कमेंट करके जरूर बताये।

 

और इस “Michael Jordan की सक्सेस स्टोरी” को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।

 

आपका बहुमूल्य समय देने के लिए दिल से धन्यवाद,

Wish You All The Very Best.

 

सम्बंधित लेख –

  1. संदीप महेश्वरी जी की पूरी जीवनी – Sandeep Maheshwari Complete Biography in Hindi
  2. Oprah Winfrey की सक्सेस स्टोरी – 14 साल की उम्र में उनको अपने रिश्तेदार ने ही Rape किया
  3. Eminem की सक्सेस स्टोरी – Rap God का खिताब उनके नाम पर है
  4. Real-Life Inspirational Story in Hindi – Super Power वाली एक माँ
  5. Sandeep Maheshwari Speech – The Greatest Real Life Inspirational Story in Hindi
  6. Dwayne Johnson की सक्सेस स्टोरी – आज वो The Rock है
  7. APJ Abdul Kalam जी के सक्सेस स्टोरी – दी मिसाइल मैन
  8. Steve Jobs की सक्सेस स्टोरी – बोतल बेचने वाला Apple कंपनी को कैसे खड़ा किया ?
  9. Michael Jackson की सक्सेस स्टोरी – काला रंग उन्हें क्यूँ पसंद नहीं था?
  10. Bruce Lee की सक्सेस स्टोरी – एक इंच दुरी से पंच मारके लोगों को गिरा देते थे
  11. Charlie Chaplin की सक्सेस स्टोरी – 2000 महिलाओं के साथ Sex किया

Leave a Comment