Best Motivational Poem – दर्द से जीत

motivational poems

 
दर्द है और गम है, आँखे भी मेरी नम है,
ये उम्मीद है ये विश्वास है, मैं फिर मुस्कुराऊंगा,
हर दर्द से मैं जित के दिखाऊंगा,
हर दर्द से मैं जित के दिखाऊंगा;
 
 
तूंफा दुखों का आता है, जिंदगी बिखेर के जाता है,
मैं फिर से नयी दुनिआ बनाऊंगा,
हर दर्द से मैं जित के दिखाऊंगा;
 
 
न राह दिखती है, न कोई मंजिल,
मझधार में है नया, दीखता नहीं है हासिल,
लेकिन अब मैं नया रास्ता बनाऊंगा,
हर दर्द से मैं जित के दिखाऊंगा;
 
 
मिली जिंदगी में हार है, दिल टुटा बार बार है,
फिर उठूंगा फिर लड़ूंगा, पहचान अपनी बनाऊंगा,
हर दर्द से मैं जित के दिखाऊंगा;
 
 
साथ दोस्तों ने छोड़ा है, मुंह अपनों ने भी मोड़ा है,
गम नहीं है अब मुझे, मैं प्यार लुटाता जाऊंगा,
हर दर्द से मैं जित के दिखाऊंगा;
 
 
खुशियों की चाहतों में, मैंने जिंदगी को खो दिया,
फिर चलूंगा, फिर जीऊंगा नयी जिंदगी बनाऊंगा,
हर दर्द से मैं जीत के दिखाऊंगा।
 
Thank You जी,
Wish You All The Very Best.

Leave a Comment