Dream Motivational Speech in Hindi – जो पाना चाहते है वो कैसे मिले ?

Dream Motivational Speech in Hindi – जो पाना चाहते है वो कैसे मिले। Hello दोस्तों, अक्सर लोगो को कहते सुना है की जो हम जिंदगी में पाना चाहते है वो हमे कभी नहीं मिला। हमने जब जिसकी चाहत की वो हमे कभी हासिल नहीं हुआ।



 जिस चीज को, जिस सपने को, जिस इंसान को हम अपनी जिंदगी में सबसे ज्यादा पाने की चाहत रखते है वही हमे नहीं मिला।


 तो दोस्तों ऐसा हमारे साथ इसलिए होता है क्यूंकि जो हमारी जिंदगी में हमको मिला है हम उसकी कदर नहीं कर रहे। जो हमने पाया है हम उसकी value नहीं करते।


 जो हमे नहीं मिला उसके पीछे हम भागते रहते है और इसके चक्कर में जो हमारे पास है हमे वो भी नहीं दीखता। हम उसे भी गंवा देते है।


 जो चीज नहीं मिली उसके लिए रोने से अच्छा है जो चीज हमारे पास है हम उसकी कदर करना सीखे, हमे उसमे खुश होना सीखना होगा।


 ऐसा भी नहीं है की हमारे पास जो है हम उसमें ही खुशी ढूंढे तो हमे जीवन में और कुछ नहीं मिलेगा। अब आपको एक story बताता हूँ, ध्यान से पढ़ियेगा –


 एक आदमी अपनी जिंदगी से बहुत दुखी था। बहुत मेहनत भी करता था।


 उसने सोचा मैं कुछ पैसे जमा कर लूँ फिर अपने माता-पिता को तीर्थों की यात्रा कराऊंगा।


 पैसा जमा करने में इतना समय हो गया की उसके माता-पिता का शरीर ही शांत हो गया।


 फिर उसने सोचा की मेरी पत्नी जो मेरे लिए इतना समर्पण करती है, जिसने सारी जिंदगी मेरा ख्याल रखा, उसे कुछ महंगा तौफा मैं gift के रूप में दूँ।


 पर हर महीने इतना खर्स हो जाता है की कुछ पैसा बचता ही नहीं। कभी सोचता हूँ की अपने परिवार को लेके विदेश घुमा कर लाऊँ।


 पर कोई भी इच्छा मेरी आज तक पूरी नहीं हुई।


 एक दिन वो बहुत दुखी हो कर एक महात्मा के पास गया, उसने अपने जिंदगी के सारे दुःख उस महात्मा को बता दिया।


 महात्मा ने कहा -“तू एक काम कर, ये जो सामने बगीचा है, इस बगीचे में बहुत सारे फूल है, और इन सबमें से जो तुझे सबसे अच्छा लगे, वो फूल मेरे पास लेके आ। पर शर्त ये है – जिन फूलों को छोड़ कर तू आगे निकल गया, वहां तू वापस पीछे नहीं आ सकता, तू सीधा सीधा इस बगीचे से निकल के मेरे पास इस बगीचे का सबसे सुन्दर सा फूल लेके आ।”


 वो आदमी उस बगीचे के अंदर गया, उसने बहुत सारे सुन्दर सुन्दर फूल देखे, पर उसने सोचा आगे अभी और सुन्दर फूल होंगे।


 ऐसे धीरे धीरे वो आगे बढ़ता गया, पर आगे चलते चलते आखिरी में उसे मुरझाये हुए फूल दिखाई दिए।


 पर शर्त ये थी की वो वापस पीछे नहीं जा सकता था।


 आखिरी में उसने एक मुरझाया हुआ फूल ही लेकर महात्मा जी के पास आगया।


 महात्मा ने उससे कहा की “पूरी बगीचा में तुझे ये सिर्फ मुरझाया हुआ फुल ही सबसे सुन्दर लगा, इससे सुन्दर तुझे कोई और फूल नहीं लगा।”


 तो उसने कहा “मैंने बहुत सुन्दर फूल देखे, पर मैंने सोचा अभी मैं और आगे देखूँ, अभी मैं और आगे देखूँ, और इस चक्कर में वो सारे सुन्दर फूल पीछे रह गया।”


 तो महात्मा ने कहा – “यही तेरी जिंदगी की कहानी है। जो सुन्दर लम्हे तेरी जिंदगी में आते है तू उन्हें छोड़ कर आगे ही देख रहा है, की ऐसा हो जाये तो मैं खुश होऊंगा, मुझे ये मिल जाये तो खुश हो जाऊंगा। तेरी खुशी आज में, इस पल में नहीं है, तुझे जो मिला है तू उसमे खुश नहीं है। अगर तुझे जो मिला है और तू उसमें खुश हो जाये तो तेरे सारे दुःख दूर हो जाये।”


 तो दोस्तों ये कहानी हम सबकी भी है। हम भी उन्ही चीजों के लिए रोते रहते है, मरते रहते है जो हम हासिल नहीं कर पाते।


 पर जो हमारे पास होता है हम उसकी कभी कदर ही नहीं करते।


 इतना सुन्दर जीवन हमको मिला है, हम उसकी कभी कदर ही नहीं करते। 
दोस्त याद रखना एक बात खुशियां कही आपका भविष्य में इंतज़ार नहीं कर रही है। खुशियां आज और इसी पल में है, बस जरुरत है उन्हें पहशानने की और उन्हें समझने की।

 

 

 दोस्तों आपको आज का हमारा ये Article (Motivational Speech in Hindi – जो पाना चाहते है वो कैसे मिले) कैसा लगा नीचे कमेंट करके जरूर बताये और इस article (Motivational Speech in Hindi – जो पाना चाहते है वो कैसे मिले) को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करे।


आपका बहुमूल्य समय देने के लिए दिल से धन्यवाद,
 
Wish You All The Very Best.

Leave a Comment