Motivational Story in Hindi – फ़क़ीर बाबा जी की कहानी

Motivational Story in Hindi – किसी ने बड़े कमाल की बात कही है की क्या फर्क पड़ता है की कैसे हैं जिसने जैसी राय बना ली उसके लिए तो वैसे हैं। Hello दोस्तों, आज मैं आपके लिए फिर से एक नयी छोटी सी मोटिवेशनल स्टोरी लेके आया हूँ।

 

Motivational Story in Hindi – एक फ़क़ीर बाबा जी की कहानी

 

ये कहानी है एक फ़क़ीर बाबा की, जिनके दोनों हाथ नहीं थे। जो एक पार्क में रह के अपनी जिंदगी बिता रहे थे।

 

उन्हें लग रहा था उनकी लाइफ खत्म हो गयी है। लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी थी।

 

आते-जाते लोगों से मदद की गुहार लगाते थे। और आते-जाते लोग भीख पर पैसे दे जाते थे।

 

एक दिन एक लड़का वहां से निकला और उसने सोचा “आज मैं चल करके इनसे बात कर लेता हूँ। रोज वो उन्हें देखता था जब भी अपने ऑफिस जाता था उस रास्ते से ही जहाँ वो बाबा बैठता था।

 

तो उस दिन उसके पास थोड़ा टाइम था, वो गया बाबा जी के पास और जा करके बोला “बाबा जी कुछ टाइम है आपके पास, आपसे मुझे 4-5 सवाल पूछना है।

 

बाबा जी ने सोचा की ये छोटा बच्चा है, मेरे साथ मजाक करने आ गया होगा, हांसी उड़ाने आ गया होगा। उनके पास तो टाइम ही टाइम था। उन्होंने कहा बेटा पूछ लो। मैं तो फ्री हूँ, मेरे पास तो टाइम ही टाइम है।

 

तो इस लड़के ने पूछा – “की बाबा जी आपके दोनों हाथ नहीं हैं, आपको बुरा नहीं लगता, आपको नहीं लगता की लाइफ में कुछ है मतलब का!”

 

तो फ़क़ीर बाबा ने कहा – “नहीं मुझे नहीं लगता, मुझे लगता है की मेरी जिंदगी ठीक है, मुझे लगता है मेरी जिंदगी में सब कुछ है, सही है, उपरवाले ने ठीक दे रखा है, उपरवाले ने मुझे जिन्दा रखा यही मेरे लिए काफी है।”

 

फिर उस लड़के ने पूछा की बाबा जी एक बात बताइये – “आपको भूख नहीं लगती, खाना कहाँ से आता है, लोग तो आपको पैसा-वैसा देके चले जाते हैं, क्या करते हो इस पैसे का?”

 

तो बाबा ने कहा – “वो दूर आपको एक बंदा दिखाई दे रहा है ? जो पैसा मांगता है, भीख मांगता है, चपाती मांगता है ! वो पता है क्या करता है, यहाँ पर जब भीख वो ले लेता है जब लोग यहाँ से आना-जाना कम कर देता है तो वो गलियों में जाता है, कॉलोनी में जाता है, महलों में जाता है, वहां से भीख ले करके आता है, खाना ले करके आता है, मैं उसको पैसे दे देता हूँ और खाना उससे ले लेता हूँ।”

 

फिर इस लड़के ने पूछा की – “बाबा जी एक बात बताइए, आपको खाना खिलाता कौन है, वो बंदा तो आपको खाना देके चला जाता होगा, आप खाते कैसे हैं, आपके तो दोनों हाथ नहीं हैं ?”

 

लड़का मजाक के मूड में था या कुछ अलग सोच रहा था, पता नहीं उनसे मन में क्या चल रहा था, लेकिन एक के बाद एक सवाल पूछ रहा था !

 

तो बाबा जी ने कहा की “बेटा सही सवाल है की मुझे खाना खिलाता कौन हैं ! मैं आते-जाते लोगों को आवाज देता हूँ की औ जाने वालों औ आने वालों, ऊपर वाला आपके दोनों हाथ सही सलामत रखें मुझे बस खाना खिला के जाइए, रोटी खिलाके चले जाओ। काफी सारे लोग मुझे इग्नोर करके चले जाते हैं, लेकिन काफी लोग ऐसे होतें हैं जो मुझ पर तरस खा कर के मेरे पास आते हैं और कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो पांच पांच दस दस दिन तक लगातार मेरी मदद के लिए आते हैं, मुझे रोटी खिलाके जातें हैं।”

 

फिर उस लड़के ने पूछा “बाबा जी आपको प्यास तो लगती होंगी आप पानी कैसे पी लेते हो?”

 

तो बाबा जी ने कहा की “बेटा ये भी अच्छा सवाल है, मैं अपने पैरों से इस घड़े को नीचे गिरा देता हूँ प्याले में पानी भर जाता है और पशुओं की तरह पानी पी लेता हूँ।

 

फिर उस लड़के ने एक और सवाल किया की “आखिरी सवाल है बाबा जी अगर आप जवाब दें तो, इस पार्क में मच्छर बहुत है, आपको काटते भी होंगे, आपको नींद कैसे आ जाती है ?”

 

तो बाबा जी कहा – “हाँ मुझे कोई बार काफी सारे मच्छर काट लेते हैं, तब मैं जमीन पर लोटने लगता हूँ, अपने आपको रगड़ने लगता हूँ। जैसे वो मछली पानी से बाहर आने के बाद लोटने लगती है वैसे ही मैं लौटने लगता हूँ, क्या करू बेटा यही मेरी जिंदगी है।”

 

जब बाबा जी ने सारी बात खत्म कर ली तो उस लड़के ने एक बात कही की “बाबा जी आपकी जिंदगी लानत है, आपके दोनों हाथ नहीं है, आपकी शरीर पर लानत है।”

 

जैसे ही ये बातें उसने बोला बाबा जी को गुस्सा आ गया और उन्होंने बोला “बेटा तुमने अब तक जितने सवाल पूछ रहे थे, मेरे मजाक उड़ा रहे थे सब ठीक था लेकिन शरीर पर लानत है ये कभी मत बोलना, इस शरीर को कभी गाली मत देना, क्यूंकि ये बहुत किस्मत वालों को मिलता है और इस शरीर का एक एक अंग कीमती है, ये उनसे पूछो जिनके पास वो अंग नहीं हैं, जिसके पास ऊँगली नहीं, हाथ नहीं, पैर नहीं है उनसे पूछो की इसकी कीमत क्या है ! इस शरीर का मोल कोई लगा नहीं सकता, दुनिया सारा पैसा दे दें तब भी इसको खरीद नहीं सकते, कुछ लोग हैं जिनको ये शरीर मिला है, लेकिन वो उलटे काम करते हैं, गलत काम करते हैं, लेकिन कुछ लोग ऐसे भी हैं जो शरीर का सही इस्तेमाल करते हैं, आपको ऊपरवाले ने ये शानदार शरीर दिया है, इसका सही इस्तेमाल कीजिए, सही उपयोग कीजिए ”

 

दोस्तों अगर आपको लगता है की आपने बहुत कुछ अचीव कर लिया, आपको कोई एक्स्ट्रा मिल गया, तो वो एक्स्ट्रा कुछ लोगों के साथ शेयर कीजिए, जिनकी उसे जरुरत है, मुस्कान बाँटने वाला इंसान इस दुनिया का सबसे खूबसूरत इंसान होता है।

 

तो दोस्तों आपको आज का हमारा यह motivational story in hindi कैसा लगा नीचे कमेंट करके जरूर बताए और ये भी बताये की क्या आप जरुरतमंदो को हेल्प करते हैं या आज तक किसी को एक रोटी या एक रूपए भी नहीं दिया है। मुझे जरूर बताये। और इस Motivational Story in Hindi – फ़क़ीर बाबा जी की कहानी को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।

 

और मोटिवेशनल स्टोरी पढ़ें –

  1. Short Motivational Story in Hindi for Success – बुरे वक़्त का भी बुरा वक़्त आता है
  2. Motivational Story in Hindi for Depression – एक लड़की की स्टार्टअप की कहानी
  3. Short Motivational Story in Hindi – रामायण पढ़े हुए बुजुर्ग
  4. Motivational Story in Hindi – तीन Best प्रेरणादायक कहानी
  5. Short Hindi Story – क्या आपको किसी को भूलने दवा चाहिए ?
  6. Short Hindi Story – क्या पेरेंट्स की हमेशा कदर करना जरुरी हैं ?
  7. Motivational Story in Hindi for Success – क्या प्रैक्टिस ही हम को सक्सेसफुल बना सकता है ?
  8. Love Story in Hindi – विकी, प्रिया और राज की प्रेम कहानी
  9. कोल्हू का बैल – Motivational Story in Hindi
  10. Motivational Story in Hindi – क्या भगवान सबके साथ होता है !
  11. रावण की आखिरी शब्द क्या था – Motivational Story in Hindi
  12. क्या आप अपने माँ-बाप के लिए आधार कार्ड बन सकते हो – Motivational Story in Hindi
  13. मेरी जिंदगी की कीमत – Motivational Story in Hindi
  14. कर्म कैसे सब कुछ लौटा के देता है – Inspirational Story in Hindi
  15. Swami Vivekananda जी जब गुस्सा हुए – Moral Story in Hindi

 

आपका बहुमूल्य समय देने के लिए दिल से धन्यवाद,

Wish You All The Very Best.

2 thoughts on “Motivational Story in Hindi – फ़क़ीर बाबा जी की कहानी”

Leave a Comment