Nelson Mandela की सक्सेस स्टोरी | Nelson Mandela Biography in Hindi

Nelson Mandela की सक्सेस स्टोरी – Hello दोस्तों, क्या आपने कभी भी Nelson Mandela जी का नाम सुना है ? अफ्रीका के महात्मा गाँधी कहे जाने वाले Nelson Mandela को Peacemaker के रूप में जाना जाता है, जिन्होंने रंगभेद के खिलाफ लड़ने में अपनी पूरी लाइफ़ दे दी, जिनका काम इतना प्रभावशाली था कि उनके जन्मदिन 18 जुलाई को मंडेला दिवस के रूप में जाना जाने लगा।

 

आज हम उसी महान इंसान के सक्सेस जर्नी के बारे में जानेंगे। तो चलिए शुरू करते हैं –

 

Nelson Mandela की सक्सेस स्टोरी

 

जन्म

 

Nelson Mandela का जन्म 18 जुलाई 1918 को Mwezo, साउथ अफ्रीका में हुआ। उनके पिता का नाम में Henry Mphakanyiswa था जो Mwezo टाउन के लोकल चीफ़ और काउंसिलर थे।

 

Mandela उनके पिता के 13 बच्चों में से तीसरे नंबर पर थे, उनके नाम के आगे Mandela उनके दादा जी के नाम से आया।

 

 

पढ़ाई

 

Mandela ने अपनी स्टार्टिंग की पढ़ाई वहाँ के स्थानीय मिशनरी स्कूल से कम्पलीट की और जब Mandela 12 साल के थे तो उनके पिता की डेथ हो गयी।

 

 

शादी

 

Mandela ने तीन शादियाँ की जिससे उन्हें कुल 6 बच्चे हुए, अक्टूबर 1944 को उन्होंने उनके फ्रेंड और एक्टिविस्ट Walter Sisulu की बहन Evelyn Mese से शादी कर ली।

 

1958 में Mandela ने अपनी दूसरी शादी Winnie Madikizela से की और तीसरी शादी Graca Machel से 80 साल की उम्र में कई ।

 

 

सक्सेस जर्नी

 

1943 में अपनी BA की डिग्री पूरी करने के बाद Mandela अफ्रीकन नेशनल कांग्रेस में कार्यकर्ता के रूप में काम करने लग गए।

 

1944 में ANC लीग के को-फाउंडर बने, उसके बाद Mandela अपने दोस्त Oliver Tambo के साथ जोहानिसबर्ग अपनी लॉ की पढ़ाई करने चले गए और वहाँ जाकर रंगभेद के खिलाफ आवाज़ भी उठाई और इसी क्रम से 1956 में Mandela और उनके साथ 155 कार्यकर्ताओं के खिलाफ मुकदमा भी चलाया गया, जो चार सालों बाद क्लोज़ किया गया।

 

1960 में उनकी पार्टी ANC पर प्रतिबंध लग गया, लेकिन वो अकेले ही अपने काम में लगे रहे और वित्तीय संकट को लेकर अभियान चलाया और 5 अगस्त 1962 को वहाँ के स्थानीय मजदूरों को स्ट्राइक के लिए उकसाने के लिए उन्हें अरेस्ट कर लिया गया।

 

 

जेल और बुक राइटिंग

 

Mandela पर उस केस पर आखिरी सुनवाई 1964 में हुई जिसमें उन्हें मौत की सज़ा सुनाई गई और बाद में अपना डिसीज़न बदलकर उम्र क़ैद की सज़ा सुनाई गयी और इसी के चलते उन्हें अपने देश मे रंगभेद के खिलाफ लड़ते हुए अपनी लाइफ़ के 27 साल जेल में बिताने पड़े।

 

उनको 1990 तक जेल में रहना पड़ा और जेल में बाकी कैदियों की तरह उन्हें मज़दूरी का काम करना पड़ा, उस वक़्त वो अपने जीवन पर एक बुक भी लिख रहे थे और वो बुक Mandela के जेल से बाहर आने के चार साल बाद 1994 में पब्लिश हुई जिसका नाम “Long Walk To Freedom” है।

 

 

प्रेजिडेंट की जर्नी

 

27 साल जेल में रहने के बाद भी उनके इरादे नहीं बदले थे, उनके दिमाग़ में सिर्फ़ देश मे रंगभेद के खिलाफ अहिंसा के साथ लड़ना था।

 

जेल से आने के बाद Mandela ने अफ्रीका के कई देशों की यात्रा की और गोरों की सरकार से समझौता करके डेमोक्रेटिक अफ्रीका की नींव रखी, अंत में 10 मई 1994 को Mandela अपने देश के पहले प्रेज़िडेंट बने।

 

महात्मा गाँधी की अहिंसा की विचारधारा ने Mandela पर काफ़ी असर डाला था और वो अपने जीवन मे गाँधी के प्रभावक विचारों की बात किया करते थे।

 

2007 में नई दिल्ली में हुए सम्मेलन में उन्होंने बताया कि अफ्रीका को अश्वेत लोगों से आज़ाद और रंगभेद खत्म करने में गाँधीजी की विचारधारा का अहम रोल है और उनकी वजह से ही इन समस्या का सॉल्यूशन हो सका है, शायद इसीलिए उन्हें दुनिया के दूसरे गाँधी के रूप में जाना जाता है।

 

 

मृत्यु

 

5 दिसंबर 2013 को 95 साल की उम्र में लंग्स में इम्फेक्शन के कारण उनके रेज़ीडेंस जोहानिसबर्ग में उनकी डेथ हो गयी।

 

Mandela ने अफ्रीका के लोगों के लिए अपनी ज़िंदगी के 67 साल दे दिए और उनमें से 27 साल जेल में बिताए। उसके बाद भी अपने विचारों को इतना तीव्र और हिंसा का सहारा न लेकर उन्होंने वहाँ की पब्लिक के लिए वो कर दिखाया जो आज़ादी के बाद किसी ने नहीं किया।

 

 

 

बड़ी सम्मान

 

उनके इस काम के लिए उन्हें 1993 में नोबेल पीस प्राइज़ से सम्मानित किया गया जो दुनिया का सर्वोच्च पुरुष्कार है।

 

उन्हें अमेरिका में प्रेज़िडेंशियल मेडल ऑफ फ्रीडम से भी नवाज़ा गया और 1990 में उन्हें भारत रत्न दिया गया, Mandela दूसरे नॉन इंडियन है और पहले अफ्रीकन है जिन्हें भारत रत्न से नवाज़ा गया, जो भारत का सबसे बड़ा पुरुष्कार है।

 

 

 

 

Conclusion

 

तो दोस्तों आपको Nelson Mandela की सक्सेस स्टोरी कैसी लगी ?

देखा आपने 27 साल जेल में रहने उनके जूनून खत्म नहीं हुआ। और हम है कि कुछ भी छोटी सी प्रॉब्लम आये या मम्मी-पापा से कुछ छोटी सी चीज नहीं मिली तो पुरे निराश हो जाते है।

उनसे इंस्पिरेशन लीजिये और मेहनत करते जाइये, सक्सेस की रास्ते बहुत कठिन होता है।

कंसिस्टेंसी और पैशन्स ही आपको बड़ी सक्सेस दिला सकता है, जैसे नेल्सन मंडेला जी ने कन्सिस्टेंटली देश के शांति के लिए लड़ता रहा और 27 साल उन्होंने धैर्य रखा उसके बाद ही उसे बड़ी सक्सेस मिली।

मुझे उम्मीद है आप भी सक्सेसफुल बनने के लिए वैसे ही मेहनत करते रहेंगे।

आपने Nelson Mandela की सक्सेस स्टोरी से क्या सीखा ?

अगर आपके मन में कुछ भी सवाल या सुझाव है तो मुझे नीचे कमेंट में जरूर बताये।

 

आपका बहुमूल्य समय देने के लिए दिल से धन्यवाद,

Wish You All The Very Best.

 

सम्बंधित लेख –

  1. Barack Obama की सक्सेस स्टोरी – लादेन को उन्होंने ही मारा
  2. Rowan Atkinson की सक्सेस स्टोरी | Mr. Bean Success Story in Hindi
  3. Richard Branson की सक्सेस स्टोरी
  4. Pablo Picasso की सक्सेस स्टोरी
  5. Colonel Sanders की सक्सेस स्टोरी | KFC Success Story in Hindi
  6. Leonardo Da Vinci की सक्सेस स्टोरी – मोनालिसा के रहस्य
  7. Aryabhatta की सक्सेस स्टोरी
  8. Neil Armstrong की सक्सेस स्टोरी
  9. Che Guevara की सक्सेस स्टोरी
  10. Usain Bolt की सक्सेस स्टोरी
  11. Carl Benz की सक्सेस स्टोरी
  12. Amancio Ortega की सक्सेस स्टोरी
  13. Dhirubhai Ambani की सक्सेस स्टोरी
  14. Andrew Carnegie की सक्सेस स्टोरी
  15. Mark Zuckerberg की सक्सेस स्टोरी
  16. Nick Vujicic की सक्सेस स्टोरी
  17. Jack Ma की सक्सेस स्टोरी
  18. CV Raman की सक्सेस स्टोरी
  19. Rabindranath Tagore की सक्सेस स्टोरी
  20. Pele की सक्सेस स्टोरी
  21. Martin Luther King Junior की सक्सेस स्टोरी
  22. Winston Churchill की सक्सेस स्टोरी
  23. Dalai Lama की सक्सेस स्टोरी
  24. Lionel Messi की सक्सेस स्टोरी
  25. Napoleon Hill की सक्सेस स्टोरी
  26. Isaac Newton की सक्सेस स्टोरी
  27. Nikola Tesla की सक्सेस स्टोरी
  28. Thomas Alva Edison की सक्सेस स्टोरी
  29. Arnold Schwarzenegger की सक्सेस स्टोरी

Leave a Comment