कौन हैं – Hindi Poem

कौन हैं - Hindi Poem

Hindi Poem – कौन हैं!   आभा हैं अनेक अन्दर अवगुण मानों गोण हैं। होठ उछलते नाक तक किन्तु जुबां से मौन हैं। …

पूरा पढ़ें >>