Sandeep Maheshwari Speech in Hindi – How to Stay Motivate in Your Career ?

Sandeep Maheshwari Speech in Hindi – Hello दोस्तों, आपने एक दिखावा किया अपनी लाइफ में। Career से related कोई काम करना हैं। बार बार डिमोटिवेट हो रहे हैं। तो मोटिवेटेड कैसे रह सकते हो आप ? क्या ऐसा कोई तरीका है जिससे आप अपने करियर के लिए Motivate रह सकें ? तो आज हम इसी के बारे में बात करेंगे। ये बातें जो हैं वो संदीप माहेश्वरी जी ने उनके एक मोटिवेशनल स्पीच में बताया था तो उसी का सहारा लेके आपको बहुत ही आसानी से इसके बारे में समझायेंगे आज।

How to Stay Motivated in Your Career? – Sandeep Maheshwari Speech in Hindi

 

आप जितना अपने Goal के काम के बारे में जानते चले जाओगे उतना ही आप मोटिवेटेड होते चले जाओगे। उस काम की पॉजिटिव साइड के बारे में आप जानते चले जाओगे। उतना ही आप मोटिवेटेड होते चले जाओगे।

 

उस काम की नेगेटिव साइड को आप अगर देखोगे। और अगर उस नेगेटिव साइड से कुछ सीखोगे नहीं तो आप डेमोटिवटेड हो जाओगे।

 

कोई भी करियर परफेक्ट नहीं हैं। आपने करियर choose कर लिया है, उसकी नेगेटिव साइड भी है ना। तो जितना आप उस नेगेटिव साइड को देखोगे, तो आपको लगेगा की यार इस काम में कुछ नहीं पड़ा है। मैंने अपने चार साल ख़राब भी कर दिया उसके बाद भी कुछ होने वाला तो है नहीं। तो इससे अच्छा अभी छोड़ दो। अभी मत करो।

 

अब आप क्या कर सकते हो उसी करियर से रिलेटेड कुछ ऐसे लोग होंगे जो बहुत सक्सेसफुल हैं अपने लाइफ में। उनको देखो, मतलब उनको आप फॉलो कर सकते हो।

 

जैसे मोबाइल रिपेयरिंग, इस काम को देखने का दो नजरिया होते हैं। एक नजरियां ऐसा होते हैं की मोबाइल रिपेयरिंग, ये भी कोई काम हैं ! इसमें क्या पड़ा है ! तो कहाँ कुछ पड़ा होता है ?

 

आप कहते हो इस बिज़नेस में कुछ पड़ा नहीं है। तो किस बिज़नेस में कुछ पड़ा है ? क्या आप बता सकते हो ?

 

किसी भी Business में, किसी भी करियर में कुछ पड़ा नहीं होता है, आपको कोई सोने की खान मिलने वाला नहीं हैं कही से भी। खोदनी पड़ती हैं। किसी करियर में कुछ पड़ा नहीं है हमारे ऊपर है उस करियर को हम किस लेवल तक ले जा सकते हैं।

 

कबाड़ी का भी काम है न, तो आपको करोड़ पति कबाड़ी भी मिल जाएँगी अगर ढूंढोगे तो। तो ये नजर है देखने का।

 

 

Entrepreneurs क्यों औरों से अलग होते हैं ?

 

तो जो Entrepreneurs होते हैं या लाइफ में कुछ बड़ा कर जाते हैं न, उनकी नजर औरों से अलग होती है। बिलकुल अलग।

 

बाकि लोग क्या होते हैं, वे यही सोचते रहते हैं की कही कुछ बड़ा आएगा, तब मैं कुछ बड़ा कर पाउँगा। वो ये नहीं समझ पाते हैं की हर बड़े की शुरुवात छोटे से होती है।

 

तो अब उस बड़े लेवल तक पहुँचने के लिए तो टाइम लगेगा। तो उसमें पैशन्स कैसे बनाये रखें। तो उस पैशन्स को बनाये रखने के लिए जब आप उसमें जितना क्लियर हो जायेंगे की क्या क्या Opportunities है इसमें, क्या क्या किया जा सकता है उसमें। उसमें से क्या है जो मैं immediately कर सकता हूँ, क्या है जो मुझे एक साल बाद करना है, क्या है जो मुझे दो साल बाद या तीन साल बाद करना है या चार साल बाद करना है !

 

तो आपके पास में जितनी ज्यादा Information होगी, उस करियर की पॉजिटिव साइड से रिलेटेड, उतना ही आप charged up होते चले जाओगे। क्यूंकि अब आपके पास करने के लिए बहुत कुछ है।

 

 

दो अलग अलग नजरिया – Motivated vs Demotivated

 

Demotivated –

 एक तो है आप एक काम कर रहे हो और आपके पास में करने के लिए कुछ है ही नहीं। वही है जो सिलेबस है। तो तब तो आप एक रेस में भाग रहे हो। एक नार्मल लाइफ ही आपको मिलने वाली है। उससे ज्यादा कुछ भी एक्सपेक्ट मत करना।

 

Motivated –

दूसरा क्या है आप एक काम तो कर रहे हो but उसकी आपने opportunity को देखा। कि इस काम का फ्यूचर क्या है ! जो हो सकता है directly related न हो indirectly हो। क्या उस तरह मैं अपने आपको तैयार कर सकता हूँ या सकती हूँ। तो जैसे ही mind ऐसे चलने लग जाता है आप charged-up हो जाते हो। अब आपके पास करने के लिए बहुत कुछ है।

 

जब करने के लिए बहुत कुछ है तो charged-up हो। जब करने के लिए कुछ नहीं है खाली बैठे हो तो नेगेटिव सोच सोच के आप डाउन होते चले जाओगे।

 

 

हम अपने करियर की काम में कैसे टिक या मोटिवेटेड रह सकते हैं ?

तो अब सवाल आता है की जब आप काम कर रहे होंगे तो उसमें बार बार डिमोटिवेट हो जाते हैं या आप कह सकते हो mind किसी और direction में भागने लगते हैं, तो उस काम टिक कैसे सकते हैं ? उस काम में अपने आपको टिका के तभी रख सकते हो, जब उस काम की आप depth में जा रहे हो। उस काम के प्लस को भी देख रहे हो, माइनस को भी देख रहे हो।

 

जब माइनस को देखोगे तो बार बार आप सोच रहे हो की किस तरह से ये माइनस मेरे ऊपर हावी नहीं होंगे ! मतलब एक ही काम करके, एक ही काम कुछ लोग कर रहे होते हैं जिनके ऊपर माइनस ज्यादा हावी हुआ पड़ा होता है मतलब वो फ़ैल हो रहे होते हैं उस काम में और कुछ लोग हैं जिनके ऊपर उस काम का प्लस पॉइंट हावी हुआ पड़ा होता है मतलब की वो आगे बढ़ रहा होता है तेजी से।

 

तो आपको ये समझना है कि किस तरह से मेरी जो नजर है वो दोनों की तरफ रहे, लेकिन हमेशा सोलूशन्स की तरफ रहे। तो जैसे आप यहाँ पर देखोगे आप अंदर से charged-up होते चले जाओगे, क्यूंकि आपको ये पता होगा की अब मैं कुछ ऐसा कर रहा हूँ, कुछ ऐसा कर रही हूँ, जो सही ट्रैक पे हैं।

 

Mediocrity लोग –

बाकि लोग इतना डीपली कभी सोचते नहीं हैं मतलब की आप उस काम से रिलेटेड गड़बड़ है, मानलो 90% लोग उस काम में फ़ैल हो रहा हैं। एक कॉलेज से निकल रहे हैं लेकिन 90% का कुछ नहीं हो रहे हैं। सिर्फ 10% का हो रहा हैं। तो उस 90% से आप सीख रहे हो की मैं वो गलतियां किस तरह से न करूँ और जो 10% है उनको भी देख करके आप बारीकी से समझ रहे हो। कि वो क्या कर रहे हैं बजाये उनसे जलने के। बजाये बीच में फिट होने की। ये जो mediocrity है न ये बड़ी खतरनाक जगह है। हम यही अटके रह जाते हैं।

 

Compare vs Luck

 

हम क्या करते हैं अपने ऊपर वाले लोग हैं उनसे जलते रहते हैं और जो नीचे वाले हैं उनको देख करके हम खुश होते रहते हैं। अरे यार ये तू कुछ नहीं कर पा रहा मेरेको देखो ! इसकी जो 10000 की भी नौकरी नहीं लगी मैं आज 20000 की नौकरी कर रहा हूँ।

 

हम अपने आगे वाले को देखते हैं उसका तो न luck काम कर गया। ये luck को हम बीच में घुसा देते हैं। मतलब की आपकी Growth तो बंद हो गयी। जब Luck ने काम किया तो Luck में आप क्या करोगे ! आपकी किस्मत फूटी हुई है, उसकी किस्मत अच्छी है। रो बैठ करके। तो सीखने के लिए कोई गुंजाइश ही नहीं बची।

 

 

आपको करना क्या है अपने करियर में मोटिवेटेड रहने के लिए ?

 

तो अब आप क्या कर रहे हो एक काम की जब आप बारीकी से, जैसे मैं आज जो भी काम करता हूँ उसमें मैं अपने Failures को भी देखता हूँ, उसमें मैं सक्सेसफुल लोगों को भी देखता हूँ, जो लोग बहुत ज्यादा सक्सेसफुल है, उनसे भी सीखता हूँ, इनसे भी सीखता रहता हूँ।

 

और जितना मैं बारीकी से उन काम को सीखता और समझता चला जाता हूँ उतना ही मैं Inspired होता चला जाता हूँ। इस Illusion से बाहर आ जाओ की कोई ऐसा Extraordinary काम है या Extraordinary Career है, जिसपर मैं चलूंगी या चलूँगा और हमेशा charged-up रहूँगा या वो करियर में सिर्फ Positive ही होगा, नेगेटिव कभी कुछ होगा ही नहीं, कोई problems ही नहीं आएंगी और मैं पता नहीं क्या कर जाऊंगा। अगर ऐसा सोच रहे हो तो आप बेवकूफ हो।

 

सही तरीका क्या है – हर करियर में ऊपर कहाँ तक जाया जा सकता है उसकी कोई लिमिट नहीं, नीचे भी कहाँ तक जाया जा सकता है उसकी भी कोई लिमिट नहीं है। same ही करियर में एक आदमी आपको ऐसा भी मिलेगा जो करोड़ पति है और खुश भी है और उसी करियर में एक ऐसा भी इंसान मिलेगा आपको जो अपने घर के खर्स के लिए पैसा जूता नहीं पाते है महीने में। आप इसको खुद से Research करके देख सकते हो। तो आपको जो Results मिलेगा देखने को, उससे आप पता लगा सकते हो की दोनों में Difference क्या है ! सिर्फ Learning Attitude का ही फर्क है।

 

Learning vs दिखावा –

 

 यानी उन लोग जो बहुत ज्यादा सक्सेसफुल है वे सभी Learning के ऊपर ज्यादा ध्यान देते हैं, लेकिन वे लोग जो Learning के ऊपर कोई भी ध्यान नहीं देते हैं, उनको सिर्फ यही पता है की कॉलेज में जो उनको डिग्री मिला वही सब कुछ है और मरते दम तक वे इस ऐटिटूड से जीते है उनको मास्टर डिग्री मिला या उनको बैचलर डिग्री मिला। उन्होंने पीएचडी किया। तो वो कहाँ इतना सक्सेसफुल हो पाएंगे। सिर्फ नौकर है वे सभी।

 

लोगों में Learning Attitude नहीं हैं। ये जो Learning है लोगों को सिर्फ इसका word ही पता है डेप्थ पता नहीं हैं लोगों को। कि Learning मतलब हाँ सीखना है, मुझे पता है लर्निंग क्या होती है, लर्निंग मतलब वही जो हम किताब पढ़के स्कूल या कॉलेज में सीखते आये हैं। वो Learning नहीं है दोस्त।

 

Learning वो होता है जहाँ पर आप Constantly अपने आपको बहुत तेजी Upgrade कर रहे हो। जैसे Computers के way में Learning देखा जाये या मोबाइल की way में तो वो सब Upgrade होते चले जा रहे हैं।

 

That Means They are Learning Something New and Get Better and Better and Better.

 

तो आप किस Version तक पहुँच सकते हो ? आपके नाम के आगे वो 1.0,.. 5.0, …10.0,10.1,…. ऐसे बढ़ाते जाओ न अपने version को। कौन रोक रहा है आपको। खुद ही आप अपने आपको Upgrade करते हो न। लेकिन वो हम बढ़ाते नहीं हैं। है जीरो, बात करते हैं बड़ी बड़ी। अपना problems solve नहीं कर पा रहे हैं और चले हैं दुनिया की प्रॉब्लम solve करने के लिए। कितना दम है आपमें ? कितनी समझ है इस दुनिया की ? कितनी समझ हैं काम की ?

 

 

Conclusion –

 

 जितना आपका जो ध्यान है वो इस तरफ चला जायेगा की मुझे हर तरफ से लोगों से सीखना हैं और खुद को Extraordinary बनाते चले जाना है। तो वो जो आप काम कर रहे हो वो आपको Inspired भी रखेगा, Motivated भी रखेगा और आज नहीं तो कल काम आ जायेगा।

 

The Only Way to Stay Motivated is to Keep Learning and Growing Everyday. – Sandeep Maheshawari

 

तो दोस्तों आपको आज का हमारा यह How to Stay Motivate in Your Career ? – Sandeep Maheshwari Speech in Hindi आपको कैसा लगा नीचे कमेंट करके जरूर बताये और इस How to Stay Motivate in Your Career ? – Sandeep Maheshwari Speech in Hindi को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।

 

आपका बहुमूल्य समय देने के लिए दिल से धन्यवाद,

Wish You All The Very Best.

Leave a Comment