Personal Development लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Personal Development लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

गुरुवार

Chanakya Niti in Hindi - सज्जनों का सम्मान करें

Chanakya Niti in Hindi - सज्जनों का सम्मान करें

Chanakya Niti in Hindi - सज्जनों का सम्मान करें प्रलये भिन्नमर्यादा भवन्ति किल सागराः । सागरा भेदमिच्छन्ति प्रलयेऽपि न साधवः ॥ यहां आचार्य च...

बुधवार

Chanakya Niti in Hindi - संगति कुलीनों की करें

Chanakya Niti in Hindi - संगति कुलीनों की करें

 Chanakya Niti in Hindi - संगति कुलीनों की करें एतदर्थ कुलीनानां नृपाः कुर्वन्ति संग्रहम् । आदिमध्यावसानेषु न त्यजन्ति च ते नृपम् ॥ आचार्य च...

मंगलवार

Lord Krishna Quotes On Love in Hindi - भगवान श्री कृष्ण की प्रेम के बारे में ये बातें जानिए

Lord Krishna Quotes On Love in Hindi - भगवान श्री कृष्ण की प्रेम के बारे में ये बातें जानिए

Lord Krishna Quotes On Love in Hindi.  Hello दोस्तों,  आज मैं भगवान श्री कृष्ण की कही हुई कुछ बातें, जिसमें उन्होंने प्रेम  के बारे में विस...

रविवार

Chanakya Niti in Hindi चाणक्य नीति - दुष्ट से कैसे बचें?

Chanakya Niti in Hindi चाणक्य नीति - दुष्ट से कैसे बचें?

 Chanakya Niti in Hindi चाणक्य नीति - दुष्ट से कैसे बचें? दुर्जनेषु च सर्पेषु वरं सर्पो न दुर्जनः । सर्पो दंशति कालेन दुर्जनस्तु पदे-पदे ॥ आ...
Chanakya Niti चाणक्य नीति - व्यवहार कुशल बनें

Chanakya Niti चाणक्य नीति - व्यवहार कुशल बनें

 Chanakya Niti चाणक्य नीति - व्यवहार कुशल बनें सकुले योजयेत्कन्या पुत्रं पुत्रं विद्यासु योजयेत् । व्यसने योजयेच्छत्रु मित्रं धर्मे नियोजयेत...

शुक्रवार

Chankya Niti in Hindi चाणक्य नीति - लोगो के लक्षणों से आचरण का पता कैसे लग सकता है ?

Chankya Niti in Hindi चाणक्य नीति - लोगो के लक्षणों से आचरण का पता कैसे लग सकता है ?

Chankya Niti in Hindi चाणक्य नीति - लोगो के लक्षणों से आचरण का पता कैसे लग सकता है ? आचारः कुलमाख्याति देशमाख्याति भाषणम् । सम्भ्रमः स्नेहमा...

गुरुवार

Chanakya Niti in Hindi चाणक्य नीति -  दोष कहाँ नहीं है?

Chanakya Niti in Hindi चाणक्य नीति - दोष कहाँ नहीं है?

Chanakya Niti in Hindi चाणक्य नीति -  दोष कहाँ नहीं है? कस्य दोषः कुले नास्ति व्याधिना को न पीडितः । व्यसनं केन न प्राप्तं कस्य सौख्यं निरन्...