Steve Jobs की सक्सेस स्टोरी – बोतल बेचने वाला Apple कंपनी को कैसे खड़ा किया ?

Steve Jobs की सक्सेस स्टोरी – Hello दोस्तों, आज हम स्टीव जॉब्स जी की सक्सेस स्टोरी के बारे में जानेंगे की कैसे उन्होंने बोतल बेचने से लेकर एप्पल जैसे दुनिया के इतने बड़े टेक कंपनी को स्थापित किया।

 

तो चलिए शुरू करते हैं –

 

Steve Jobs की सक्सेस स्टोरी – बोतल बेचने वाला Apple कंपनी को कैसे खड़ा किया ?

 

जब भी दुनिया के महान इंटरप्रेन्योर का नाम लिया जाता है, तो Steve Jobs जी के नाम शीर्ष श्रेणी में आता है।

 

आज वो हमारे बीच नहीं है लेकिन उनकी प्रभावशाली सोच के नतीजे आज भी हमारे बीच उन्हें जिन्दा रखे हुए हैं।

 

Steve Jobs का जन्म एक अविवाहित दंपति के घर हुआ जो पढ़े-लिखे नहीं थे, उनकी माँ चाहती थी कि Steve को पढ़े-लिखे माँ-बाप मिले जो Steve को भी पढ़ा लिखा बना सके,

 

लेकिन Steve को Paul और Kalra Jobs ने गोद ले लिया जो खुद पढ़े-लिखे नहीं थे और गरीब भी थे।

 

जब Steve बड़े हुए तो उन्होंने Reed College में दाखिला लिया और समय पर फीस न देने के कारण उन्हें college से निकाल दिया गया और कुछ समय के लिए वो घर भी छोड़कर चले गए।

 

उसी दौरान वो अपने दोस्तों के घर सोते थे और कांच की बोतल बेच कर और मंदिर के लंगर का खाना खाकर अपनी जिंदगी गुजार रहे थे।

 

उसी दौरान वो उनके कॉलेज के दोस्त Daniel kottke के कहने पर अध्यात्म की खोज के लिए भारत में नीब करोरी बाबा के आश्रम (कैंची धाम, नैनीताल) गए और 7 महीने भारत में रहकर फिर से अमेरिका चले गए।

 

अमेरिका जाकर वो Atari नाम की गेमिंग कंपनी में जॉब पर लग गए।

 

उसी दौरान उनकी प्रेमिका से उन्हें लड़की हुई जिसका नाम Lisa है, जिनके नाम पर बाद में कंप्यूटर भी बना।

 

काफी समय डिप्रेशन और गरीबी से जुझने के बाद वो एक दिन उनके दोस्त Steve Wozniak के घर पहुंचे, जहाँ उन्हें एक कंप्यूटर दिखाई दिया और Steve उस कंप्यूटर से इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने अपनी बनाने की ठान ली।

 

1 अप्रैल 1976 को Steve Jobs, Steve Wozniak और साथियों ने मिलके Jobs के घर के गेराज में कंप्यूटर बनाने स्टार्ट किये और पहले कंप्यूटर का नाम Apple One रखा गया।

 

 

Apple One की सफलता के बाद उन्होंने 1977 में Apple 2 का निर्माण किया जो इतना सफल साबित हुआ कि 1993 तक बिका और तब तक 50 लाख से ज्यादा कंप्यूटर बिक गए थे और उन्होंने सफलता की ऊंचाइयों को छू लिया।

 

1979 में उन्होंने Mouse बनाया और ग्राफिकल यूजर इंटरफ़ेस का निर्माण किया, 1983 में Lisa नाम का कंप्यूटर बनाया जो असफल रहा, जिससे उन्हें काफी निराशा मिली।

 

असफलता के पीछे अहम कारण ये था कि वो मार्केटिंग पर ध्यान नहीं दे पा रहे थे, तभी उनकी मुलाकात John Sculley से हुई जो पेप्सिको के मार्केटिंग हेड थे।

 

Jobs ने Scully को Apple में हायर किया, ताकि वे मार्केटिंग का काम संभाल सके।

 

इसी बीच 1985 में दोनों की सोच में फर्क के कारण मतभेद इतने बढ़ गए कि बोर्ड मीटिंग में जॉब्स को एप्पल के प्रमुख पद से हटा दिया गया।

 

ऐसी निराशाजनक स्थिति में टूटने की बजाये उन्हें उसमें भी संभावनाएं नजर आई और उन्होंने Apple का एक शेयर अपने पास रखकर बाकी सारे शेयर बेच दिए और उन पैसों से NeXT नाम की कंपनी की शुरुवात की तथा Pixer Animations के आधे से ज्यादा शेयर खरीद लिए।

 

करीब 11 साल बाद 1996 में एप्पल के पास कोई बेहतर प्रोडक्ट्स ना होने की वजह से उसकी मार्किट वैल्यू गिरने लगी।

 

वही जॉब्स अपनी कंपनी NeXT में एक बेहतर कंप्यूटर बनाने में लगे हुए थे, तभी एप्पल ने नेक्स्ट को खरीदने का प्रस्ताव रखा और कंपनी को खरीद लिया जिससे एप्पल को बेहतर कंप्यूटर मिल गया और Steve Jobs को अपनी कंपनी वापस मिल गयी।

 

फिर आने वाले सालो में Steve Jobs ने Ipod, Itunes और Iphone जैसे बेहतर प्रोडक्ट लाकर एप्पल को दुनिया की सबसे वैल्यूएबल कंपनी बना दी।

 

5 अक्टूबर 2011 को पैंक्रिएटिक कैंसर के चलते Steve Jobs का देहांत हो गया।

 

 

Conclusion

 

“Stay Hungry, Stay Foolish.” – Steve Jobs

 

मेरा मानना यह है की Steve Jobs के दुनिया छोड़ने के बाद Apple और उनके प्रोडक्ट्स में कोई विशेष बदलाव नहीं आया है क्यूंकि एक बहुत ही बड़ी अलग सी पर्सनालिटी का अंत जो हो गया है।

 

Steve Jobs कम चीजों का इस्तेमाल करके बेहतर जिंदगी और साधनों का निर्माण करना जानते थे।

 

सादगी में सुंदरता देखने का उनका नजरिया उन्हें बाकी बिजनेसमैन से अलग करता है, जो मैडिटेशन की देन है, उन्होंने अपनी सोच, कल्पना इच्छा शक्ति को इतना बढ़ा दिया था कि वे किसी भी चीज का परिणाम अपनी सोच से निकल देते थे।

 

उनके हिसाब से महान बनने का एक ही तरीका था Happy बने रहो।

 

तो दोस्तों आपको आज का हमारा यह Steve Jobs की सक्सेस स्टोरी – बोतल बेचने वाला Apple कंपनी को कैसे खड़ा किया ?” कैसा लगा ?

 

क्या आप भी बिज़नेस करना चाहते हैं ?

 

मुझे नीचे कमेंट करके जरूर बताये।

 

और इस Steve Jobs की सक्सेस स्टोरी – बोतल बेचने वाला Apple कंपनी को कैसे खड़ा किया ?” को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।

 

 

सम्बंधित लेख –

  1. संदीप महेश्वरी जी की पूरी जीवनी – Sandeep Maheshwari Complete Biography in Hindi
  2. Oprah Winfrey की सक्सेस स्टोरी – 14 साल की उम्र में उनको अपने रिश्तेदार ने ही Rape किया
  3. Eminem की सक्सेस स्टोरी – Rap God का खिताब उनके नाम पर है
  4. Real-Life Inspirational Story in Hindi – Super Power वाली एक माँ
  5. Sandeep Maheshwari Speech – The Greatest Real Life Inspirational Story in Hindi
  6. Dwayne Johnson की सक्सेस स्टोरी – आज वो The Rock है
  7. APJ Abdul Kalam जी के सक्सेस स्टोरी – दी मिसाइल मैन

 

आपका बहुमूल्य समय देने के लिए दिल से धन्यवाद,

Wish You All The Very Best.

Leave a Comment