Tenali Raman Story in Hindi : अंतिम इच्छा

Tenali Raman Story in Hindi – Hello दोस्तों, आज मैं आपके लिए तेनाली रामा की एक इंटरेस्टिंग स्टोरी लेके आया हूँ। अंतिम इच्छा, क्या है उनका अंतिम इच्छा ??? तो बिना देरी के शुरू करते हैं –

 

Tenali Raman Story in Hindi: अन्तिम इच्छा

 

समय के साथ-साथ राजा कॄष्णदेव राय की माता बहुत वॄद्ध हो गई थीं। एक बार वह बहुत बीमार पड गई। उन्हें लगा कि अब वे शीघ्र ही मर जाएँगी। उन्हें आम से बहुत लगाव था, इसलिए जीवन के अन्तिम दिनों में वे आम दान करना चाहती थीं।

 

सो उन्होंने राजा से ब्राह्म्णों को आमों को दान करने की इच्छा प्रकट की। वह् समझती थी कि इस प्रकार दान करने से उन्हें स्वर्ग की प्राप्ति होगी। सो कुछ दिनों बाद राजा की माता अपनी अन्तिम इच्छा की पूर्ति किए बिना ही मॄत्यु को प्राप्त हो गईं।

 

उनकी मॄत्यु के बाद राजा ने सभी विव्दान ब्राह्म्णों को बुलाया और अपनी माँ की अन्तिम अपूर्ण इच्छा के बारे में बताया। कुछ देर तक चुप रहने के पश्चात ब्राह्म्ण बोले, “यह तो बहुत ही बुरा हुआ महाराज, अन्तिम इच्छा के पूरा न होने की दशा में तो उन्हें मुक्ति ही नहीं मिल सकती। वे प्रेत योनि में भटकती रहेंगी। महाराज आपको उनकी आत्मा की शान्ति का उपाय करना चाहिये।”

 

तब महाराज ने उनसे अपनी माता की अन्तिम इच्छा की पुर्ति का उपाय पूछा। ब्राह्म्ण बोले, “उनकी आत्मा की शांति के लिये आपको उनकी पुण्यतिथि पर सोने के आमों का दान करना पडेगा।” अतः राजा ने मॉ की पुण्यतिथि पर कुछ ब्राह्म्णों को भोजन के लिए बुलाया और प्रत्येक ब्राह्मण को सोने से बने आम दान में दिए।

 

जब तेनाली राम को यह पता चला, तो वह तुरन्त समझ गया कि ब्राह्म्ण् लोग राजा की सरलता तथा भोलेपन का लाभ उठा रहे हैं। सो उसने उन ब्राह्म्णों को पाठ पढाने की एक योजना बनाई।

 

अगले दिन तेनाली राम ने ब्राह्म्णों को निमंत्रण-पत्र भेजा। उसमें लिखा था कि तेनाली राम भी अपनी माता की पुण्यतिथि पर दान करना चाहता हैं। क्योंकि वह भी अपनी एक अधूरी इच्छा लेकर मरी थीं।

 

जब से उसे पता चला है कि उसकी माँ की अन्तिम इच्छा पूरी न होने के कारण प्रेत-योनी में भटक रही होंगी, वह बहुत ही दुःखी है और चाहता है कि जल्दी उसकी मॉ की आत्मा को शान्ति मिले। ब्राह्म्णों ने सोचा कि तेनाली राम के घर से भी बहुत अधिक दान मिलेगा, क्योंकि वह शाही विदूषक है।

 

सभी ब्राह्म्ण निश्चित दिन तेनाली राम के घर पहुँच गए। ब्राह्म्णों को स्वादिष्ट भोजन परोसा गया। भोजन करने के पश्चात् सभी दान मिलने की प्रतीक्षा करने लगे। तभी उन्होने देखा कि तेनाली राम लोहे के सलाखों को आग में गर्म कर रहा है।

 

पूछने पर तेनाली राम बोला, “मेरी माँ फोडों के दर्द् से परेशान थीं। मॄत्यु के समय उन्हें बहुत तेज दर्द हो रहा था। इससे पहले कि मैं गर्म सलाखों से उनकी सिकाई करता, वह मर चुकी थी।” अब उनकी आत्मा की शान्ति के लिए मुझे आपके साथ वैसा ही करना पडेगा, जैसी कि उनकी अन्तिम इच्छा थी।” यह सुनकर ब्राह्म्ण बौखला गए। वे वहॉ से तुरन्त चले जाना चाहते थे। वे गुस्से में तेनाली राम से बोले कि हमें गर्म सलाखों से दागने पर तुम्हारी मॉ की आत्मा को शान्ति मिलेगी?”

 

“नहीं महाशय्, मैं झूठ नहीं बोल रहा। यदि सोने के आम दान में देने से महाराज की मॉ की आत्मा को स्वर्ग में शान्ति मिल सकती है तो मैं अपनी मॉ की अन्तिम इच्छा क्यों नहीं पूरी कर सकता?”

 

यह सुनते ही सभी ब्राह्म्ण समझ गए की तेनाली राम क्या कहना चाहता है। वह बोले, “तेनाली राम, हमें क्षमा करो। हम वे सोने के आम तुम्हें दे देते हैं। बस तुम हमें जाने दो।”

 

तेनाली राम ने सोने के आम लेकर ब्राह्म्णों को जाने दिया, परन्तु एक लालची ब्राह्म्ण ने सारी बात राजा को जाकर बता दी। यह सुनकर राजा क्रोधित हो गए और उन्होनें तेनाली राम को बुलाया। वे बोले “तेनाली राम यदि तुम्हे सोने के आम चाहिए थे, तो मुझसे मॉग लेते। तुम इतने लालची कैसे हो गए कि तुमने ब्राह्म्णों से सोने के आम ले लिए?”

 

“महाराज, मैं लालची नहीं हूँ, अपितु मैं तो उनकी लालच की प्रवॄत्ति को रोक रहा था। यदि वे आपकी मॉ की पुण्यतिथि पर सोने के आम ग्रहण कर सकते हैं, तो मेरी मॉ की पुण्यतिथि पर लोहे की गर्म सलाखें क्यों नहीं झेल सकते?”

 

राजा तेनाली राम की बातों का अर्थ समझ गए। उन्होंने ब्राह्म्णों को बुलाया और उन्हें भविष्य में लालच त्यागने को कहा।

 

 

 

Conclusion

 

तो दोस्तों देखा आपने लालच के कारण ब्राह्मणों को लोहे की गर्म सलाखें के सामना करना पड़ा, लेकिन उन्होंने अपनी गलती को मान लिया और बच गए।

 

इसलिए कहते हैं – “लालच बुरी बला है”

 

तो आपको आज का हमारा यह पोस्ट संग्रह “Tenali Raman Story in Hindi : अंतिम इच्छा” कैसा लगा ?

 

क्या आप ऐसे ही और कहानी पढ़ना चाहेंगे ?

 

आपका कोई भी सवाल या सुझाव है तो मुझे नीचे कमेंट करके जरूर बताये।

 

इस पोस्ट संग्रह Tenali Raman Story in Hindi : अंतिम इच्छा” को अपने दोस्तों के साथ साँझा जरूर करें।

 

आपका बहुमूल्य समय देने के लिए दिल से धन्यवाद,

Wish You All The Very Best.

 

 

सम्बंधित लेख –

  1. अकबर और बीरबल की हिंदी कहानी से तीन बातें – Motivational Story in Hindi
  2. लाइफ टेस्ट – Inspirational Story in Hindi
  3. हमारे जीवन में गुरु या Mentor की जरुरत क्यों हैं ? – Best Short Moral Story in Hindi
  4. Interesting Hindi Story – चाणक्य जैसी एक आदमी की कहानी
  5. जादुई चश्मा के जरिये एक व्यक्ति ने भविष्य देख पाया – Best Moral Story in Hindi
  6. भगवान कौन है ? Who is GOD ? – Short Hindi Moral Story
  7. एक व्यक्ति को सफलता का रहस्य मिलने की कहानी – Short Hindi Moral Story
  8. Hindi Story – ऐसे बदलती है जिंदगी
  9. दानवीर कर्ण को ही क्यों बोला जाता है ? – Mahabharata Story in Hindi
  10. Best Motivational Hindi Story – चिड़चिड़ा बूढ़ा आदमी
  11. Inspirational Story in Hindi – क्या भगवान सच में होते है इसपर Thomas Alva Edison ने क्या बोला
  12. 3 Best Inspirational Story in Hindi
  13. Real-Life Inspirational Story in Hindi – एक महात्मा

Leave a Comment