The Personal MBA Book Summary in Hindi – क्या आपको भी बिज़नेस करना है ? (Part – 2)

The Personal MBA Book Summary in Hindi – Hello दोस्तों, द पर्सनल एमबीए आपको एक अच्छा व्यापारी बनना सिखाती है। यह किताब हर उस व्यक्ति के लिए बहुत उपयोगी है जो अपने बिज़नेस को शुरु करना चाहते हैं, लेकिन MBA कॉलेज में नहीं पढ़ना चाहते या अपने बिज़नेस को अच्छे से सम्भालना चाहते हैं। इसे पढ़कर आप बिज़नेस के बारे में सारी बातें जान सकते हैं।

 

लेखक –

 

जोश कॉफ़मन (Josh Kaufman) एक अंतर्राष्ट्रीय लेखक, कारोबारी और एक मोटिवेटर हैं।

इनकी दो किताबें, द पर्सनल एमबीए और द फर्स्ट 20 आवर्स, इंटरनेशनल बेस्ट सेलिंग किताबें है।

उन्हें अमेज़न ने बिज़नस एंड मनी पर #1 बेस्टसेलिंग राइटर का दर्जा दिया है।

 

The Personal MBA Book Summary in Hindi – क्या आपको भी बिज़नेस करना है ? (Part – 2)

 

Go To PART – 1

 

हर कामयाब प्रोडक्ट के पीछे एक कामयाब मार्केटिंग होती है।

 

अब जब आपने अपना प्रोडक्ट बना लिया है तो आपको अपने प्रोडक्ट को ऐडवर्टाइस करना होगा।

 

आप किस तरह अपने प्रोडक्ट को लोगों तक पंहुचा सकते हैं?

 

आपका प्रोडक्ट भले ही लाखों में एक क्यों न हो, अगर लोग उसके बारे में जानेंगे नहीं तो उसे इस्तेमाल भी नहीं करेंगे।

 

इसलिए सबसे पहले आपको अपने प्रोडक्ट को ऐडवर्टाईज़ कर लोगों को अपने प्रोडक्ट के बारे में बताना होगा।

 

आज की दुनिया के हर कोने में ऐडवर्टाइसमेंट है।

 

सभी लोग अपने प्रोडक्ट्स को न्यूज़पेपर से, टीवी से, इन्टरनेट से या फिर पोस्टर्स से लोगों तक पंहुचा रहे हैं।

 

ऐसे में ये ज़रूरी है कि आपके प्रोडक्ट की ऐड सबसे अलग हो।

 

आपके प्रोडक्ट की ऐड ऐसी होनी चाहिए जिसे देखकर कस्टमर उसकी तरफ आकर्षित हो।

 

भले ही आपका प्रोडक्ट बहुत ही सिंपल हो, लेकिन उसकी ऐडवर्टाइसमेंट शानदार होनी चाहिये।

 

लेकिन लोग आपके प्रोडक्ट पर भरोसा क्यों करेंगे? इसके लिए आप टेस्टीमोनिअल्स का इस्तेमाल कर सकते हैं।

 

जैसे कि अगर आप बुजुर्ग लोगों के घुटनों के दर्द के इलाज के लिए कोई प्रोडक्ट बना रहे हैं तो आपको अपने उस प्रोडक्ट के लिए एक टेस्टीमोनियल तैयार करना होगा।

 

अगर एक बुजुर्ग आपके ऐडवर्टाइसमेंट में यह कह दे कि आपका प्रोडक्ट उसके घुटनों के दर्द के इलाज के लिए एक वरदान साबित हुआ तो लोग आपके प्रोडक्ट पर भरोसा ज़रूर करेंगे।

 

अगर कस्टमर ने आपका प्रोडक्ट खरीद लिया तो ये बहुत ज़रुरी है कि आपके प्रोडक्ट से उसे भी फायदा हो।

 

अगर आपने सिर्फ दिखावे के लिए टेस्टीमोनियल तैयार किया है तो आपका प्रोडक्ट ज्यादा दिन नहीं टिकने वाला।

 

जैसा कि पहले ही कहा गया – आपके प्रोडक्ट और लोगों की ज़रुरतों में एक कनेक्शन होना चाहिये।

 

अगर आपके प्रोडक्ट से उनकी ज़रुरत पूरी नहीं होती तो वे आपका प्रोडक्ट नहीं ख़रीदेंगे।

 

 

एक अच्छा बिजनेसमैन बनने के लिए आपको डील करना आना चाहिये।

 

अक्सर ऐसा होता है कि हमारा प्रोडक्ट हर तरह से ठीक होने पर भी लोग उसे नहीं खरीदते।

 

लोग आपके प्रोडक्ट को बिना वजह ही ना बोल देते हैं।

 

इसके पीछे भी एक वजह होती है।

 

वो वजह क्या है और आप किस तरह इस परेशानी का हल निकाल सकते हैं।

 

सबसे पहले तो आपको ये जानने कि कोशिश करनी होगी कि आपका कस्टमर आपको ना क्यों बोल रहा है।

 

 

क्या उसे आपके प्रोडक्ट की जरुरत नहीं है?

 

अगर ऐसा है तो आपको कस्टमर को अपने प्रोडक्ट के फायदों के बारे में बता कर ये यकीन दिलाना होगा कि उसे आपके प्रोडक्ट की ज़रूरत क्यों है।

 

मान लीजिये कि आपके कस्टमर का कहा है कि उसे आपके नए म्यूजिकल डिवाइस की ज़रूरत नहीं है क्योंकि वो अपने फ़ोन में गाने सुन लेता है।

 

ऐसे में आपको उसे अपने म्यूजिकल डिवाइस के उन फायदों के बारे में बताना होगा जो कि मोबाइल पूरी नहीं कर पा रहा।

 

 

क्या उसे आपका प्रोडक्ट बहुत महंगा लग रहा है?

 

अगर ऐसा है तो आप अपने प्रोडक्ट पर कुछ समय के लिए डिस्काउंट दे सकते हैं।

 

या फिर आप अपने कस्टमर्स को यकीन दिला सकते हैं कि उनके पैसे बेकार नहीं जाएँगे।

 

आपके प्रोडक्ट से उन्हें जरुर फ़ायदा होगा।

 

 

क्या उन्हें आपके प्रोडक्ट पर भरोसा नहीं है?

 

ऐसे में आप उन्हें एक ऑफर दे सकते हैं।

 

आप अपने कस्टमर्स को ये ऑफर दीजिये कि अगर उन्हें आपका प्रोडक्ट अच्छा नहीं लगता तो वे उसे वापस कर सकते हैं और बदले में उन्हें उनके सारे पैसे लौटा दिए जाएंगे।

 

इसके लिए आपको सबसे पहले अपने प्रोडक्ट पर भरोसा होना चाहिये।

 

आपको भरोसा होना चाहिए कि लोग अगर एक बार आपका प्रोडक्ट इस्तेमाल करेंगे तो उसे वापस नहीं करेंगे।

 

इस तरह आप लोगों का भरोसा जीत सकते हैं।

 

और आप चाहे कितना भी अच्छा प्रोडक्ट बना लो, इक्का दुक्का लोग उसे वापस करेंगे ही।

 

इसके लिए आप हमेशा तैयार रहिये।

 

 

किसी भी डील को अच्छी डील में बदलने के लिए आपको मोल भाव करना आना चाहिए।

 

अगर आप चाहते हैं कि आपको हमेशा अच्छी से अच्छी डील मिले तो आपके अंदर ये खूबी होनी चाहिए की आप हर डील को अच्छी डील में बदल सकें। लेकिन कैसे?

 

इसका जवाब है – मोल भाव करके।

 

मोल भाव के बहुत सारे स्टेप्स होते हैं।

 

इसके लिए आपको सबसे पहले तैयारी करनी होगी।

 

आपकी तैयारी कैसी होनी चाहिये ?

 

सबसे पहले तो आपको यह देखना होगा कि आप किसके साथ मोल भाव कर रहे हैं।

 

आप इस बात का हमेशा ख्याल रखे कि आप उसी आदमी से मोल भाव करें जो कंपनी के अहम फैसले लेता हो, ना कि उससे जो आपको कंपनी के आफर के बारे में बता रहा है।

 

इसके बाद आती है मोल भाव की जगह।

 

आप उस जगह पर मीटिंग बुलाइये जहाँ पर आप पूरे कॉन्फिडेंस के साथ अपनी बात कह सकें।

 

अगर आपको लगता है कि आप ऑनलाइन मीटिंग में ज़्यादा कॉन्फिडेंट होंगे और अपनी बात को आसानी से कह सकेंगे तो आप ऑनलाइन मीटिंग ही बुलाइये।

 

अब जब आपने जगह भी तय कर ली तो आपको अपनी शर्तों पर एक नज़र डालनी होगी।

 

आप ये पहले ही तय कर लीजिये की आप क्या चाहते हैं।

 

अगर मोल भाव अच्छे से न हो पाये तो आपको क्या करना है।

 

इन बातों को आप पहले ही सोच लीजिये जिससे कि आपको बाद में परेशानी न हो।

 

अब आप मीटिंग करने के लिए तैयार हैं।

 

आपने जिस भी जगह मीटिंग बुलाई है वहाँ पर जा कर उनकी शर्तों से अपनी शर्तों को मिलाइए और अच्छे से मोल भाव कीजिये जिससे की आप अपने प्रॉफिट को बढ़ा सकें।

 

 

अगर आप एक अच्छे लीडर बनना चाहते हैं तो आपको अच्छे से बातचीत करना आना चाहिये।

 

क्या आपके साथ कभी ऐसा हुआ है कि आपने किसी को अपने एक आईडिया के बारे में बताया हो उसने आप से कहा हो कि आपका आईडिया बहुत बेकार है।

 

अगर हुआ है तो आपको पता होगा कि शब्दों का हमपर क्या असर पड़ता है।

 

कुछ ऐसा ही बिजनेस में भी होता है।

 

आपके शब्द ही आपके बारे में और आपकी सोच के बारे में बताते हैं।

 

इसलिए ये बहुत ज़रुरी है कि आप शब्दों का इस्तेमाल सही तरह से करना सीखें।

 

लेकिन शब्दों का बिज़नेस से क्या लेना देना?

 

क्या आप कभी हॉस्पिटल में अपनी अपॉइंटमेंट लेने के लिए लाइन में खड़े हुए है?

 

क्या आपने कभी अपने आगे खड़े आदमी से कहा कि वो आपको पहले अपॉइंटमेंट लेने जाने दे क्योंकि आप जल्दी में है?

 

अगर नहीं तो अगली बार जब भी आप अपॉइंटमेंट लेने जाएँ तो ये तरीका आज़मा कर देखिएगा।

 

ऐसा पाया गया कि जब हम लोगों को अपने प्लान के बारे में अच्छे से बताते हैं और साथ में उसके साथ उसके कारण भी बताते हैं तो लोग हमारे प्लान के हिसाब से काम करते हैं।

 

अगर आप अपने आगे खड़े आदमी को अच्छे कारण देंगे तो वो आपको आगे जाने देगा।

 

इसलिए आप लोगों तक अपनी बात को पहुंचाने में माहिर बनिए जिसे लोग आपकी बात सुनकर आपके प्लान के हिसाब से काम करें।

 

इसके साथ ही आपको अपने एम्प्लाइज को ये बातें भी बतानी होगी कि अगर सब कुछ प्लान के हिसाब से नहीं हुआ तो उन्हें क्या करना है।

 

इस तरह आपको लोगों को हर कदम पर बातें याद नहीं दिलानी होंगी।

 

वे लोग पहली बार में ही आपके पूरे प्लान को समझ कर आपका साथ देंगे।

 

अगर आप चाहते है कि लोग वाकई आपकी बातों को सुने तो आपको सबसे पहले लोगों की बातें सुननी होगी।

 

आप लोगों को नीचा दिखाना छोड़कर उन्हें सपोर्ट करना सीखिये।

 

अपने एम्प्लाइज़ से आईडिया शेयर करते वक्त आप इस बात का ख्याल रखे कि बातचीत दोनों तरफ से हो।

 

अगर आपकी मीटिंग में आपके अलावा कोई नहीं बोल रहा तो इसका मतलब है आपकी बातों को कोई नहीं सुन रहा।

 

इसलिये आप आराम से बैठ कर अपने आइडियाज़ शेयर कीजिये।

 

 

अगर आप चाहते हैं कि आप ज़्यादा से ज़्यादा काम कर सकें तो आपको अपने शरीर का ख्याल रखना होगा।

 

बिजनेस में अक्सर ऐसा होता है कि हमें एक से ज़्यादा काम एक साथ करने पड़ते हैं।

 

ऐसे में आपको अपने टाइम और अपनी एनर्जी को मेन्टेन करना आना चाहिये। आप ऐसा कैसे कर सकते हैं।

 

क्या आपने कभी दो मुर्गियों को एक साथ पकड़ने की कोशिश की है? नहीं?

 

तो क्या आपको लगता है कि आप दो मुर्गियों एक साथ पकड़ सकते हैं? आप नहीं पकड़ सकते।

 

आपका दिमाग एक बार में सिर्फ एक ही काम को अच्छे से कर सकता है।

 

अगर आप दो काम एक साथ करेंगे तो आप एक भी काम अच्छे से नहीं कर पाएंगे।

 

इसलिए आप सबसे पहले अपनी एनर्जी को सही तरह से इस्तेमाल करना सीखिये।

 

आप अपने शरीर की ज़रुरतों को समझिये और देखिये कि दिन के किस समय आप ज्यादा काम करने में सक्षम हैं।

 

ज्यादातर लोग सुबह सुबह अच्छे से फोकस कर पाते हैं लेकिन ज़रूरी नहीं है कि आप पर ये बात लागू हो।

 

दुसरे शब्दों में ऐसा नहीं है कि आप सारा दिन एनर्जी से भरे रह सकें।

 

काम करते हुए थकना एक आम बात है और थकने पर आपको आराम करना चाहिए।

 

हम में से हर किसी की एनर्जी साइकिल 90 मिनट की होती है।

 

इसका मतलब है कि आप अगर इस समय खुद के अंदर बहुत ज्यादा एनर्जी महसूस कर रहे हैं तो 90 मिनट बाद आप पूरी तरह से थक जाएंगे।

 

जब आप थक जाएँ तो आप थोड़ी देर आराम कर लीजिये।

 

इससे आपके काम करने की क्षमता बढ़ जाएगी और आपकी सेहत भी अच्छी रहेगी।

 

 

Conclusion

 

एक अच्छे बिज़नेस को शुरू करने के लिए आपको उसमे इंटरेस्ट होना चाहिये।

 

आपको लोगों की ज़रूरतों को समझ कर अपना प्रोडक्ट बनाना चाहिए जिससे कि लोग आपके प्रोडक्ट को खरीदें।

 

आप अच्छी मार्केटिंग करके और अपने बिज़नेस पार्टनर से अच्छे से मोलभाव कर के अच्छा प्रॉफिट कमा सकते हैं।

 

लेकिन भाग दौड़ के चक्कर में आप अपनी सेहत का ख्याल रखना मत भूलिए।

 

 

क्या करें?

 

काम की आवाज़ शब्दों की आवाज़ से ज़्यादा होती है।

 

अगली बार आप जब भी किसी नए एम्प्लोयी को काम पर रखें, आप सिर्फ उसका रिज्यूमे मत देखिये।

 

आप उसके पिछले काम का रिकॉर्ड देखिये।

 

आप देखिये कि उसने पिछले कुछ महीनों में किस तरह से काम किया है।

 

अगर वो पहले से ही अच्छा काम करता है, तो वह आगे भी अच्छा काम करेगा।

 

 

दोस्तों आपको आज का हमारा यह “The Personal MBA Book Summary in Hindi – क्या आपको भी बिज़नेस करना है ? (Part – 2)” कैसा लगा ?

क्या भी बिज़नेस शुरू करने वाले हैं ?

या बिज़नेस शुरू कर दिया है ?

मुझे नीचे कमेंट करके जरूर बताये।

और इस “The Personal MBA Book Summary in Hindi – क्या आपको भी बिज़नेस करना है ? (Part – 2)” को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।

 

 

Buy Book –

 

 

OUR E-BOOKS STORE

 

आपका बहुमूल्य समय देने के लिए दिल से धन्यवाद,

Wish You All The Very Best.

Leave a Comment