The Personal MBA Book Summary in Hindi – क्या आपको भी बिज़नेस करना है ? (Part – 1)

The Personal MBA Book Summary in Hindi – Hello दोस्तों, द पर्सनल एमबीए आपको एक अच्छा व्यापारी बनना सिखाती है। यह किताब हर उस व्यक्ति के लिए बहुत उपयोगी है जो अपने बिज़नेस को शुरु करना चाहते हैं, लेकिन MBA कॉलेज में नहीं पढ़ना चाहते या अपने बिज़नेस को अच्छे से सम्भालना चाहते हैं। इसे पढ़कर आप बिज़नेस के बारे में सारी बातें जान सकते हैं।

 

लेखक –

 

जोश कॉफ़मन (Josh Kaufman) एक अंतर्राष्ट्रीय लेखक, कारोबारी और एक मोटिवेटर हैं।

इनकी दो किताबें, द पर्सनल एमबीए और द फर्स्ट 20 आवर्स, इंटरनेशनल बेस्ट सेलिंग किताबें है।

उन्हें अमेज़न ने बिज़नस एंड मनी पर #1 बेस्टसेलिंग राइटर का दर्जा दिया है।

 

The Personal MBA Book Summary in Hindi – क्या आपको भी बिज़नेस करना है ? (Part – 1)

 

बिज़नेस शुरू करने के लिए आपको MBA की ज़रूरत नहीं है।

 

क्या आपको भी लगता है कि एक सफल व्यापारी बनाने के लिए आपको किसी डिग्री की ज़रुरत है?

 

अगर लगता है तो यह किताब पढ़ने के बाद नहीं लगेगा।

 

इस किताब में एक अच्छे बिज़नेस को शुरु करने से लेकर अपने प्रोडक्ट को लोगों तक पहुंचाने तक की सारी बातें बताई गयी हैं।

 

इसे पढ़कर आप सीखेंगे कि किस तरह आप अपने बिज़नेस को अच्छे से चला सकते हैं और किस तरह आप अपने प्रोडक्ट को लोगों तक पंहुचा सकते हैं।

 

एक अच्छे व्यापार को चलाने के लिए जिन चीज़ों की ज़रुरत होती है इस किताब में उन सभी के बारे में बताया गया है।

 

इसे पढ़कर आप एक कामयाब बिजनेसमैन बन सकते हैं।

 

 

अगर आप सोचते हैं कि बिज़नेस स्कूल्स आपको बिज़नेस करना सिखाते हैं तो आप गलत सोचते हैं।

 

अगर आपसे कोई कहे कि वो MBA कर रहा है तो आपके मन में ख्याल आता होगा कि अब वो बहुत जल्दी ही एक कामयाब बिजनेसमैन बनने वाला है।

 

क्या सच में सिर्फ एक MBA की डिग्री से कोई कामयाब बिजनेसमैन बन जाता है? आइये देखते हैं।

 

सबसे पहले तो हम ये देखेंगे कि आखिर लोग ऐसा क्यों सोचते है कि MBA कर लेने से वे एक अच्छे बिजनेसमैन बन सकते हैं।

 

इसकी असल वजह है – MBA की फीस।

 

अगर एक अच्छे MBA इंस्टीट्यूट की फीस पर नज़र डाले तो पता चलता है कि वहाँ एक साल की फीस लाखों रुपये में है।

 

और अगर हम हॉस्टल फीस और दूसरी प्रोजेक्ट फीस को भी इनमें जोड़ कर दें तो ये तो ये काफी ज्यादा हो जाती है।

 

अब आप सोच रहे होंगे कि सारे MBA स्कूल्स इतने महंगे नहीं होते होंगे।

 

आप सही सोच रहे हैं।

 

लेकिन कई MBA छात्र लाखों रुपये का एजुकेशन लोन भी ले लेते हैं।

 

जब इतने सारे लोग MBA करने के लिए इतना सारा पैसा लगा रहे हैं तो ज़रुर MBA कर लेने से हम एक कामयाब बिजनेसमैन बन जाएँगे।

 

ऐसा सोचना भी बेवकूफी है। क्यों?? –

 

सबसे पहले तो हम दुनिया भर के आल टाइम टॉप बिज़नेसमेन में पर नज़र डालते हैं।

 

अगर हम हेनरी फोई, बिल गेट्स, स्टीव जोब्स, जेफ बेजोस, रोबर्ट कियोसाकी, मार्क जुकरबर्ग जैसे बिज़नेस मैन को देखें तो हम पाएंगे कि इनके पास कोई MBA की डिग्री नहीं है।

 

फिर भी ये दुनिया के टॉप बिज़नेसमैन हैं।

 

स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में की गयी एक स्टडी की माने तो एक MBA डिग्री और एक कामयाब बिज़नेसमैन के बीच कोई सम्बन्ध नहीं पाया गया।

 

MBA में टॉप करने वाले ज्यादातर स्टूडेंट्स एक अच्छे बिजनेसमैन नहीं बन पाए।

 

अब आपके मन में ये सवाल उठ रहा होगा कि अगर एक MBA डिग्री आपको सफलता नहीं दिलवा सकती तो आपको सफलता कैसे मिलेगी।

 

 

आप वही बिज़नेस शुरू करें जिसमें आपको इंटरेस्ट हो।

 

अगर आप एक कामयाब कंपनी खोलना चाहते हैं तो आपको उस चीज़ की कंपनी खोलनी होगी जिसमें आपको इंटरेस्ट हो।

 

आप वो मत करिये जो सब कर रहे हैं।

 

आप वो करिए जिसमें आपको इंटरेस्ट है।

 

जैसा कि आप देख ही रहे होंगे कि आज की टॉप कामयाब कपनियां जैसे माइक्रोसॉफ्ट, एप्पल, फेसबुक और अमेज़न हैं।

 

क्या आपको इन सभी में कोई एक कॉमन चीज़ दिख रही है।

 

ये सभी कंपनियां आईटी कंपनियां है।

 

अगर आप सोचें कि आईटी कपनियां ही कामयाब होती हैं और आपको भी आईटी कंपनी खोलनी चाहिए तो आप ज़रुर खोलिये।

 

लेकिन तभी, जब आपको आईटी में इंटरेस्ट हो।

 

अगर आपको आईटी में इंटरेस्ट नहीं है तो आप इस कंपनी को संभाल नहीं पाएंगे।

 

किसी भी कंपनी के खुलने के बाद उसे सेट करने में कुछ समय और बहुत सारी मेहनत लगती है।

 

उसमें कुछ फैसले लेने पड़ते हैं जो आप तभी ले पाएंगे जब आप दिल से उस बिज़नेस को चला रहे हों।

 

शुरुवात में ज्यादा पैसे नहीं आते और मेहनत ज़्यादा करनी पड़ती है।

 

अगर आप सिर्फ पैसों के लिए ही बिज़नस कर रहे हैं तो आपका बिज़नेस बहुत जल्द ही फ्लॉप होने वाला है इसलिए आप भीड़ के साथ मत भेजिए और वो कीजिये जिसमें आपको इंटरेस्ट हो।

 

अगर आपको अपने बिज़नेस से लगाव होगा तो आप उस बिज़नेस को ज़्यादा समय और मेहनत देंगे।

 

अगर आपको गाड़ियों में दिलचस्पी है तो आप गाड़ियों की कंपनी खोलिये।

 

ऐसे में आप अपने कस्टमर्स की ज़रूरतों को करीब से पहचान कर उसे पूरा करने की कोशिश करेंगे।

 

आपको अपने फैसलों पर भरोसा होगा और आपके अन्दर समय समय पर नए नए आइडियाज आते रहेंगे।

 

तो एक कामयाब बिज़नेस चलाने के लिए सबसे पहले आपको उसमें इंटरेस्ट होना चाहिये।

 

अगर आपको इंटरेस्ट नहीं है तो आप सिर्फ पैसों के लिए बिज़नेस मत चलाइए।

 

 

क़र्ज़ लेना रिस्की तो है, पर अगर सही तरह से इस्तेमाल किया जाए तो ये आपको ऊंचाइयों पर ले जा सकता है।

 

अब जब आपने अपने इंटरेस्ट का बिज़नेस चुन ही लिया है तो आप अपना बिज़नेस शुरु करने के बारे में सोच रहे होंगे लेकिन आपके मन में अब भी बहुत से सवाल उठ रहे होंगे।

 

जैसे कि बिजनेस को शुरु करने के लिए पैसे कहाँ से लाएँ।

 

बड़े से बड़े बिजनेसमैन ने जब अपना बिज़नेस शुरु किया है तब उसे भी पैसों की कमी पड़ी है।

 

इससे एक बात तो तय है कि ज़रुरी नहीं कि आपके पास बिज़नेस शुरु करते वक्त ज़्यादा पैसे हों।

 

तो आप पैसों का इंतज़ाम कहाँ से करेंगे।

 

एक शब्द में इसका जवाब है- उधार।

 

उधार एक ऐसी चीज़ है तो आपके फ़ायदे या नुक्सान को बढ़ा देती है। कैसे??

 

मान लीजिये कि आपको म्यूजिक में इंटरेस्ट है।

 

आपके दिमाग में एक ऐसा म्यूजिकल डिवाइस आया जो कि लोगों को बहुत पसंद आ सकता है।

 

आपने अपना बिज़नेस शुरू करने के लिए 50 लाख रुपये उधार लिए और अपना बिज़नेस शुरु कर दिया।

 

अब दो बातें हो सकती हैं।

 

अगर आपका बिज़नेस बहुत सफल रहा और लोगों को वाकई आपकी म्यूजिकल डिवाइस पसंद आई तो आप कुछ महीनों में ही अपने सारे कर्ज से छुटकारा पाकर अमीर बन सकते हैं।

 

आपने एक कामयाब कमपनी खोली जिसमें आपका अपना एक भी रुपया नहीं लगा।

 

लेकिन अगर आपकी डिवाइस लोगों को पसंद नहीं आई तो आपकी कंपनी फ्लॉप हो सकती है और आप 50 लाख रुपये के क़र्ज़ में जा सकते हैं।

 

तो इससे आपको ये सबक मिलता है कि उधार लेने से आप बहुत जल्दी और बहुत आसानी से या तो अमीर बन सकते हैं या तो क़र्ज़ में डूब सकते हैं।

 

इसलिये आप इसका इस्तेमाल सोच समझ कर करें।

 

 

आपके प्रोडक्ट से लोगों की जरूरतें पूरी होनी चाहिए।

 

ये बहुत ज़रूरी है कि आपके प्रोडक्ट और लोगों की ज़रुरतों में एक कनेक्शन हो।

 

अगर ऐसा नहीं है तो आपका प्रोडक्ट किसी काम का नहीं।

 

लोगों को अलग अलग वक्त पर अलग अलग चीज़ों की जरूरतें पड़ती है।

 

आइये इसे एक उदहारण से समझते हैं।

 

कुछ साल पहले उत्तराखंड में बादल फटने की वजह से बाढ़ आयी थी।

 

लोग पहाड़ों पर भगवान के दर्शन के लिए गए थे लेकिन बाढ़ की वजह से वापस आने के रास्ते बंद हो गए थे।

 

पहाड़ों पर जो दुकाने थीं वहाँ पर खाने पीने के सामानों की कीमत पांच गुना हो गयी।

 

फिर भी लोग उसे खरीद कर खा रहे थे क्योंकि उनके पास कोई दूसरा रास्ता नहीं था।

 

कुछ लोग खाने के लिए अपने गहने भी दे आ रहे थे।

 

इस उदहारण को आप पॉजिटिव तरीके से लें।

 

इसका मतलब यह नहीं कि आप लोगों की बेबसी का फायदा उठाएँ।

 

इसका मतलब है कि आप लोगों की उन ज़रूरतों को पहचान कर प्रोडक्ट बनाएँ जिसके लिए वो हंसी खुशी आपको पैसे दें।

 

लेकिन लोगों की ज़रूरतें क्या हैं?

 

इसका जवाब हार्वर्ड के प्रोफेसर नीतिन नोहरिआ (Nitin Noharia) और पॉल लॉवरेंस (Paul Lawrence) ने दिया है।

 

लोगों की चार ज़रूरतें हो सकती हैं –

 

1. चीज़ों को इक्कठा करने की ख्वाहिश। फेसबुक और ट्विटर पर लोग लाइक्स, कमेंट्स और फालोवर्स इक्कठा करते हैं। कुछ लोगों को स्टेम्प और दूसरी पुरानी चीज़े इक्कठा करने का शौख होता है। रिटेलर्स और बिजनेस ब्रोकरेज इन ज़रूरतों का खयाल रखते हैं।

2. खुद को अच्छा दिखाने की ख्वाहिश। आज हर कोई अच्छे कपडे, अच्छी गाड़ियाँ , परफ्यूम और क्रीम लगाकर अच्छा दिखने की कोशिश करता है जिससे लोग उनकी तरफ आकर्षित हो सकें और वे अच्छे दिख सकें। कॉस्मेटिक कंपनियां, परफ्यूम कंपनियां और क्लॉथ इंडस्ट्रीज जैसी दूसरी कंपनियां इन ज़रूरतों का ख्याल रखती हैं।

3. हर किसी के अंदर कुछ जानने की जिज्ञासा होती है। हमारा मन हमेशा कुछ नया जानने या देखने को करता है। यूट्यूब इस जरुरत को पूरा करता है।

4. हर किसी को सेफ रहना पसंद है। इसलिए आज मोबाइल और कंप्यूटर सिक्योरिटी ऐप्स मार्केट में बढ़ते जा रहे हैं और CCTV कैमरा और सिक्योरिटी सिस्टम का इस्तेमाल बढ़ता जा रहा है।

 

 

दोस्तों आपको आज का हमारा यह “The Personal MBA Book Summary in Hindi – क्या आपको भी बिज़नेस करना है ? (Part – 1)” कैसा लगा ?

क्या भी बिज़नेस शुरू करने वाले हैं ?

या बिज़नेस शुरू कर दिया है ?

मुझे नीचे कमेंट करके जरूर बताये।

और इस “The Personal MBA Book Summary in Hindi – क्या आपको भी बिज़नेस करना है ? (Part – 1)” को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।

 

 

Buy Book –

 

 

PART – 2

 

OUR E-BOOKS STORE

 

आपका बहुमूल्य समय देने के लिए दिल से धन्यवाद,

Wish You All The Very Best.

Leave a Comment